0



हाईकोर्ट के वकील सुनील कुमार अपने नेक काम के लिए काफी जाने जाते हैं। उनकी बड़ी हंबल पृष्ठभूमि रही है और लगभग 30 वर्षों तक वह गोरेगांव पूर्व की झुग्गियों में रहा करते थे। कोविड-19 लॉकडाउन के दौरान, सुनील कुमार ने गरीब लोगों की मदद करने और दैनिक आवश्यकता की चीजो के साथ उनकी मदद करने का फैसला किया है।
सुनील का कहना है, "हर दिन हम 20 परिवारों को किराने का सामान और दैनिक आवश्यक सामान मुहैया कराते थे। जल्द ही, कई और लोग इस नेक काम के लिए स्वयंसेवक के रूप में जुटने लगे और उन्होंने दक्ष नागरीक फाउंडेशन शुरू किया जो जरूरतमंद लोगों को किराने का सामान देता है। आज यह फाउंडेशन 1200 से अधिक परिवारों को किराने का सामान प्रदान करती है।
उन्होंने कहा, "मैं एक कानून बीमा भी शुरू करना चाहता हूं, जैसे हमारे पास मेडी क्लेम और जीवन बीमा है। मैं झुग्गियों में पला बढ़ा हूं, जहां हमें पीने के लिए साफ पानी भी नहीं मिला। 3000 रुपये में, मैं एक वर्ष के लिए लोगों को कानून बीमा के लिए सेवाएं देना चाहता हूं।
उन्होंने यह भी कहा कि मैं डेंगू, मलेरिया या किसी अन्य बीमारी से मर सकता था लेकिन मैं फिट और ठीक हूं। इसलिए मैं जरूरतमंद लोगों की सेवा करना चाहता हूं और उनका सहयोग करना चाहता हूं। मैं शुक्रगुजार हूं कि मेरे मित्र सहित कई लोग इस पहल में शामिल हुए।

Post a comment

 
Top