0

मुंबई : सेंसेक्स लगातार दूसरे दिन 261.84 अंक या 0.83% की गिरावट के साथ 31,455.51 पर बंद हुआ। दूसरी ओर, निफ्टी 87.90 अंक या 0.95% गिरकर 9,205.60 अंक पर बंद हुआ। एंजल ब्रोकिंग लिमिटेड के प्रमुख सलाहकार अमर देव सिंह ने बताया कि शेयर बाजार के आज के गिरावट में बैंकिंग और एफएमसीजी सेक्टर बुरी तरह से प्रभावित हुए। 
 शेयर बाजारों में गिरावट में प्रमुख योगदान एसबीआई के साथ-साथ पीएसयू बैंकों के शेयरों का था। एसबीआई का शेयर 4.64% गिरा और 170.50 रुपए पर बंद हुआ। अन्य बैंकों में बजाज फाइनेंस, एक्सिस बैंक, कोटक महिंद्रा बैंक और बजाज फिनसर्व आज बाजार में प्रमुख लूजर थे।
एफएमसीजी सेक्टर ने भी सूचकांक को नीचे लाने में अहम योगदान दिया और रेडिको खेतान में सबसे ज्यादा गिरावट दर्ज हुई। स्टॉक में 7.34% गिरावट देखी गई और यह 293.35 पर बंद हुआ। इसके बाद यूनाइटेड ब्रेवरीज, गॉडफ्रे फिलिप्स और मैकलोडरसेल का नंबर था। हालांकि, एफएमसीजी सेक्टर में टॉप गेनर्स में 4.99% लाभ के साथ नाथबायोजीन्स शामिल था, 286.00 की कीमत पर बंद हुआ। इस क्षेत्र के अन्य लाभार्थियों में सांवरिया कंज्यूमर्स, मैरिको, ई.आई.डी पैरी और टाटा कॉफी शामिल हैं।
एनर्जी और इंफ्रा सेक्टर में ही स्टॉक्स में तेजी दिखाई दी। बीएसई मिडकैप और स्मॉलकैप सूचकांक भी दिन के अंत तक 1 प्रतिशत गिर गए। मिडकैप और स्मॉलकैप शेयरों में निफ्टी मिडकैप 100 इंडेक्स में 0.7 फीसदी की गिरावट के साथ बिकवाली का दबाव देखा गया, जबकि निफ्टी स्मॉलकैप इंडेक्स 1.3 फीसदी गिर गया। इनमें से बाजार में अन्य गेनर्स में भारती एयरटेल शामिल है जो 3.6 प्रतिशत बढ़ा और 1,70.35 रुपये की कीमत पर बंद हुआ।
सरकारी राहतों का प्रभाव: जून 2020 को समाप्त होने वाली तिमाही के लिए क्रेडिट रेटिंग एजेंसी इक्रा (आईसीआरए) ने रिपोर्ट दी है कि देश की जीडीपी में 20 प्रतिशत तक की गिरावट हो सकती है। हालांकि, यह उम्मीद है कि वर्ष के अंत तक चीजें सामान्य हो सकती हैं।

Post a comment

 
Top