0
मुंबई : दुनियाभर के देश धीरे-धीरे मैन्यूफेक्चरिंग और प्रोडक्शन इकाइयों को फिर से शुरू कर रहे हैं, क्योंकि कोरोनो वायरस को लेकर बना डर थोड़ा कम होता जा रहा है। एंजल ब्रोकिंग लिमिटेड के नॉन-एग्री कमोडिटीज एंड करेंसीज के चीफ एनालिस्ट प्रथमेश माल्या ने बताया कि दुनियाभर में लॉकडाउन प्रभावी होने से सभी प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में उत्पादन क्षमता पर गहरा आघात हुआ था और इससे वस्तुओं की कीमतों पर दबाव पड़ा है। लेकिन अब उत्पादन में तेजी से रिवाइवल की उम्मीद से पूरे स्पेक्ट्रम में मांग मजबूत हो रही है।
कई देशों में घोषित लॉकडाउन में छूट के उपायों के बीच मंगलवार को स्पॉट गोल्ड की कीमतें 0.27 प्रतिशत की मामूली बढ़त के साथ 1706 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुईं। बाजारों द्वारा किए गए विश्लेषण से पता चलता है कि लॉकडाउन के बाद बाजार में रिकवरी तेज होगी और उम्मीद से भी ज्यादा लंबी अवधि तक चलेगी। इससे सोने की कीमतों पर और प्रभाव पड़ सकता है। डॉलर की सुधरती शक्ति अन्य मुद्राओं के मालिकों के लिए सोने की कीमत को महंगा कर सकती है।
स्पॉट सिल्वर की कीमतें 1.21 प्रतिशत बढ़कर 15.0 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुई। एमसीएक्स पर कीमतें 0.21 प्रतिशत की मामूली गिरावट के साथ 41,005 रुपए प्रति किलो पर बंद हुईं।
डब्ल्यूटीआई क्रूड ऑयल की कीमतें 20.4 प्रतिशत बढ़कर 24.5 डॉलर प्रति बैरल के स्तर पर बंद हुईं। कठोर लॉकडाउन से संबंधित आर्थिक उपायों की योजना ने कच्चे तेल की कीमतों को अपना पुराना स्तर फिर से हासिल करने की अनुमति दी।
अमेरिका में यूरोपीय और एशियाई देशों और राज्यों की एक बड़ी संख्या ने कुछ प्रतिशत श्रमिकों को काम पर वापस जाने की अनुमति दी। उद्योगों और कार्यालयों के फिर खुलने के साथ, बहुत उम्मीद है कि वाहन यातायात भी धीरे-धीरे बढ़ेगा। कच्चे तेल की मांग को बढ़ाने में यातायात से मदद मिलेगी।
पेट्रोलियम निर्यातक देशों के संगठन ने 1 मई 2020 से प्रति दिन 9.7 मिलियन बैरल प्रतिदिन उत्पादन कम करने के निर्णय से तेल की कीमतों में वृद्धि को बढ़ावा मिला। अमेरिकी पेट्रोलियम संस्थान के आंकड़ों के अनुसार यूएस क्रूड इन्वेंट्री पिछले हफ्ते 8.4 मिलियन बैरल प्रतिदिन से अधिक बढ़ गई थी, जो कच्चे तेल की कीमतों को प्रभावित कर सकता है।

Post a comment

 
Top