0
 
मुंबई : दुनिया की दो बड़ी आर्थिक महाशक्तियों- चीन और यू.एस. के बीच बढ़ते तनाव के बीच सोमवार को स्पॉट गोल्ड की कीमतें 0.14 प्रतिशत बढ़ गईं। अमेरिकी विदेश मंत्री ने कहा कि इस बात के पुख्ता सबूत हैं कि इस महामारी को चीनी अधिकारियों ने अमेरिकी अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचाने के उद्देश्य से पैदा और प्रसारित किया है। इसके अलावा, अमेरिका का मैन्यूफेक्चरिंग डेटा 11 वर्षों में सबसे कम है, जो 41.5 पर समाप्त हुआ।
एंजल ब्रोकिंग लिमिटेड के नॉन-एग्री कमोडिटीज एंड करेंसीज के चीफ एनालिस्ट प्रथमेश माल्या ने बताया कि लॉकडाउन के उपायों में छूट से आर्थिक स्थितियों में सुधार की परिस्थितियों ने तेजी से गिर रहे तेल उद्योग को फिर से पैर जमाने और बेहतर इंटर-वर्ल्ड व्यापार प्रदान करने की अनुमति दी है। सोमवार को मध्य-पूर्व, संयुक्त राज्य अमेरिका और दुनिया के अन्य हिस्सों में अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने वाली योजनाओं की घोषणाओं और उपायों के कारण डब्ल्यूटीआई क्रूड की कीमतें 3.08 प्रतिशत से अधिक हो गईं और $ 20.4 पर बंद हो गईं।
पेट्रोलियम निर्यातक देशों और उसके समर्थकों के संगठन ने 1 मई 2020 से उत्पादन में कटौती करने और 9.7 मिलियन बैरल प्रति दिन उत्पादन करने पर सहमति व्यक्त की है। एमसीएक्स पर कच्चे तेल की कीमतों में आज अधिक कारोबार होने की उम्मीद है।
चांदी कीमतें 0.67 प्रतिशत कम रहीं और 14.8 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुई। एमसीएक्स पर कीमतें 0.77 प्रतिशत नीचे गिरकर 40,918 रुपए प्रतिकिलो पर बंद हुई।

Post a comment

 
Top