0


मुंबई : शुरुआती सत्र में बिकवाली के दबाव के बाद बाजार सकारात्मक रुख के साथ बंद हुआ। निफ्टी 65.30 अंक या 0.71% ऊपर 9270.90 पर था, वहीं सेंसेक्स 232.24 अंक या 0.74% बढ़कर 31685.75 पर बंद हुआ। एंजल ब्रोकिंग लिमिटेड के प्रमुख सलाहकार अमर देव सिंह ने बताया कि निफ्टी के 9300 अंकों के स्तर से नीचे जाने पर एफएमसीजी, और तेल व गैस क्षेत्रों में तत्काल बिक्री के लिए दबाव बन गया था। बैंकिंग, फार्मा, ऑटो और इंफ्रा जैसे अन्य क्षेत्रों में भी इंट्रा-डे ट्रेडिंग सत्र में खरीदारी में दिलचस्पी देखी गई। 1074 शेयरों ने सकारात्मक गति दिखाई जबकि 1223 शेयर लाल रंग में बंद हुए और बाकी 141 शेयरों में कोई बदलाव नहीं हुआ। ओवरऑल मार्केट ही खरीदारी के लिए अनुकूल था।
सत्र में टॉप गेनर्स में बजाज फाइनेंस शामिल था, जो 2010 रुपए पर खुला और 2160.25 रुपये पर बंद हुआ। अन्य गेनर्स में एमएंडएम शामिल रहा, जो 5.16% की बढ़त के साथ 388 रुपए पर बंद हुआ, गेल 3.95% ऊपर 94.70 रुपये पर, एचडीएफसी बैंक 3.83% ऊपर 946.55 रुपये और भारती एयरटेल 3.40% की बढ़त के साथ 546 रुपये पर बंद हुआ। बीएसई मिडकैप और स्मॉल कैप सूचकांकों में सकारात्मक गति देखी गई, जो 0.5-0.8 प्रतिशत के बीच बढ़ी।
एफएमसीजी और आईटी जैसे सेक्टर नकारात्मक रुझान के साथ बंद हुए। अन्य सभी सूचकांकों में अस्थिरता दिखाई दी, जिससे निवेशकों ने पैसा बनाया। सत्र में लूजर्स में आईटीसी -5.76%, भारती इंफ्राटेल में -5.69%, कोल इंडिया -3.08%, आईओसी -2.73 और यूपीएल -2.08 शामिल थे।
सरकार ने आईटीसी में 7.94% की हिस्सेदारी बेचकर 22,000 करोड़ रुपए जुटाने की घोषणा की और इसके बाद एफएमसीजी सेक्टर का बड़ा शेयर आईटीसी 5% तक गिर गया। सरकार की घोषणा के बाद आईटीसी के इंट्राडे सेशन पर बिकवाली का दबाव देखने को मिला।

Post a comment

 
Top