0


 मुंबई : रिवुलिस इरीगेशन इंडिया प्राइवेट लिमिटेड ड्रिप - खेतों में सिंचाई सुविधा पहुँचाने वाली एक अग्रणी कंपनी है, जो किसानों को पौधों तक प्रभावशाली ढंग से जल पहुँचाने में सहायता प्रदान करती है। कंपनी ने 'मन्ना' नामक सेटेलाईट आधारित सॉफ्टवेयर सॉल्यूशन को लांच किया इससे किसानों को रिवुलिस तकनीकी के प्रभावी ढंग से उपयोग करने और सिंचाई में सुधार और जल प्रबंधन में सहायता मिलेगी। रिवुलिस इंडिया के प्रबंध निदेशक कौशल जायसवाल ने कहा कि भारतीय किसानों के लिए जल प्रबंधन और जल संरक्षण के अलावा उसकी लागत एक बड़ी समस्या है। "कितना सींचें" और "कब सींचें" जैसी चुनौती का सामना भारतीय किसान को रोज करना पड़ता है। "मन्ना" दुनिया भर में अमेरिका, यूरोप, ऑस्ट्रेलिया और ब्राजील जैसे उन्नतशील कृषि बाजारों के लिए सफलतापूर्वक स्थान-विशेष सिंचाई सुविधा के समाधान प्रस्तुत कर रही है और अब इसे भारतीय किसानों की मदद के लिए लांच किया जा रहा है जिससे वह अपने सिंचन व्यवस्था में सुधार और प्रभावशाली ढंग से जल प्रबंधन कर सकें।   पानी की हर बूँद का सदुपयोग हो और पानी के प्रभावशाली ढंग से उपयोग करने को लेकर तमाम प्रयास किये जा रहे हैं। जब किसानों के फसल सींचने का समय आता है तो भारतीय किसान आज भी प्रकृति पर निर्भर रहता है/अंदाज से काम लेता है।इससे अक्सर ज्यादा सिंचाई हो जाती है या कम और इसका आर्थिक नुकसान भी होता है। अभी तक सिंचाई को लेकर कोई वैज्ञानिक अवधारणा न थी और पानी की उचित मात्रा को लेकर और सिंचाई के सही समय को लेकर अभी भी संशय की स्थिति बनी रहती है। मन्ना से किसानों को इस बात का लाभ मिलेगा कि वह सिंचाई की जरूरतों के विषय में पूर्व जानकारी पा जाएगा और उसे सिंचाई घाटा कम करने में मदद मिलेगी, लागत कम लगेगी और उत्पादन भी बढ़ेगा।   'संक्षिप्त सिंचाई" (प्रेसाईस इरीगेशन) की सुविधा के लिए 'रिवुलिस' ने नया मन्ना इरीगेशन इंटेलिजेंस सॉफ्टवेयर लांच किया है। भारत में जिन किसानों ने इस सॉफ्टवेयर का प्रयोग किया उनको उत्पादन में (मात्रा और गुणवत्ता) अच्छे परिणाम देखने को मिले हैं और उन्होंने अच्छे अनुभव बताये हैं।   'मन्ना' से किसानों को पानी और बिजली से होने वाले घाटों से मुक्ति मिलेगी जो सिंचाई के दौरान होती है और उनके उत्पादन में सुधार के साथ ही पानी के अच्छे प्रयोग और लाभ के परिणाम देखने को मिलेंगे। वेब और मोबाइल आधारित एप्लीकेशन आईओएस और एंड्राइड दोनों जगहों पर उपलब्ध हैं और किसानों को इस सुविधा का अधिकतम लाभ मिले इसलिए हमने एसएमएस सुविधा भी दे रखी है जिससे फीचर फोन का उपयोग करने वाले किसान भी लाभान्वित हो सकें।  रिवुलिस इंडिया और इजरायल के निदेशक सुधीर मेहता का कहना है कि कम्पनी ने केंद्रीय कृषि मंत्रालय में पहले से ही सूचना दे रखी है और हम विभिन्न राज्य सरकारों के साथ सहयोग करने के लिए तैयार हैं ताकि पानी के उपयोग और संरक्षण में हम उनकी मदद कर सकें। रिवुलिस और मन्ना किसानों के लाभ में वृद्धि करने और जल प्रबंधन में सुधार करने के लिए कृत संकल्प हैं और मानते हैं कि सरकार ने "प्रति बूँद अधिक फसल" और "किसानों की आय दूनी" करने का जो संकल्प लिया है उसी दिशा में उठाया गया यह एक महत्वपूर्ण कदम है।

Post a comment

 
Top