0
 
आमतौर पर यही देखा जाता है कि भजन गायक का दायरा भक्ति संगीत से आगे नहीं बढ़ पाता और वह श्रोताओं को भी प्रभु भक्ति में ही तल्लीन रखता है।भजन सुनते हुए श्रोता आध्यात्म में खो जाते हैं। संतोष राज ने भी वही किया है। नवरात्रों में वह श्रोताओं के लिए खासतौर पर स्पेशल डिवोशनल सॉन्ग लेकर आए हैं जो अंबे मां को समर्पित है लेकिन भजन से पहले वह अपने एक रूहानी प्रेम गीत ‘शब’ से लाखों श्रोताओं के दिलों को झकझोर चुके हैं। लव सॉन्ग के साथ-साथ डिवोशनल सॉन्ग में भी उन्होंने रूह को पकड़ा है। प्यार का अहसास होना जरूरी हैवो चाहे प्रेम गीत में हो या भजन में। मां का प्यार एक अद्भुत शक्ति देता है। इन 9 दिनों में अंबे मां से उन्होंने प्यार ही मांगा है। गीतकार अनामिका गौड़ द्वारा लिखे इस गीत में आमिर अली सुल्तान ने संगीत के रंग भरे हैं और सहायक स्वर दिया है नज़ीर अहमद खान ने। गायक संतोष राज उम्मीद करते हैं कि नवरात्र में अंबे मां हर उस इंसान का उपकार करेगीजो उसे दिल से याद करेगा।

Post a comment

 
Top