0




 अ भा अग्निशिखा मंच (राष्ट्रीय ) एवं प्रेमांजली साहित्य संस्था (ठाणे) द्वारा युवा कवि, साहित्यकार एवं पत्रकार पवन तिवारी को साहित्य भूषण सम्मान प्राप्त हुआ एवं उनके व्यक्तित्व - कृतित्व पर चर्चा का आयोजन  मराठी ग्रंथ संग्रहालय हॉल, प्रभात टाकीज के पास,ठाणे (प) पर किया गया ।
   इस अवसर पर प्रमुख वक्ता के रूप में दयाशंकर त्रिपाठी (विचारक), डॉ बाबुलाल सिंह (समाजसेवी),
रमेश यादव (साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित),अखिलेश मिश्रा (वरिष्ठ पत्रकार), आर पी गुप्ता (अधिवक्ता), अबोध चतुर्वेदी(वरिष्ठ पत्रकार), विदेह जी (प्रवचनकार) उपस्थित रहे।
   अतिथियों द्वारा सरस्वती माँ की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर एवं दीप प्रज्वलित कर समारोह का उद्घाटन किया गया व सरस्वती वंदना ,वंदना श्रीवास्तव ने की ।
कार्यक्रम का सफल संचालन नामदार राही (वरिष्ठ पत्रकार) ने किया।
आयोजक श्रीमती अलका पांडेय, विधुभूषण त्रिवेदी, अरविंद पांडेय, श्रीराम शर्मा ने सभी अतिथियों का शॉल, श्रीफल, पुष्पगुच्छ देकर सत्कार किया।
  इस अवसर पर वक्ताओं ने पवन तिवारी के संघर्ष एवं साहित्य, कविता, गजल, लघुकथा एवं पत्रकार के रूप में किये गये कार्यों की समीक्षा की तथा महाराष्ट्र साहित्य अकादमी द्वारा उनके "अठन्नी वाले बाबूजी" पुस्तक को पुरस्कृत कर 34 वर्ष की आयु में यह अभूतपूर्व सफलता हासिल करने पर बधाई दी।
   इस अवसर पर महानगर के कई साहित्यकार, पत्रकार, कवि, शिक्षाविद लेखराज ( व्यंग्यकार ), सतीश शुक्ल (कवि) विश्वम्भर तिवारी , सेवासदन , अतुल शास्त्री , अजय पाठक(पत्रकार),  प्राध्यापक दिनेश पाठक , उमेश मिश्र (कवि), एन बी सिंह नादान (गजलकार), वंदना श्रीवास्तव , रजनी साहू , मंजूगुप्ता , मीनागुप्ता ,भारती श्रीवास्तव , सीमा तिवारी ,अंजना मिश्रा , विजय मिश्रा , देवनारायण शर्मा , दुर्गा गुप्ता , चंद्रवीर यादव, राजकुमार यादव, विनोद दुबे (शिक्षाविद), संतोष जैसवार, प्यारेलाल जायसवाल, मनोज सिंह आदि ने पवन तिवारी से जुड़ी अनुभूतियों को प्रकट किया एवं उनके उज्जवल भविष्य हेतु शुभकामनाएं प्रदान किया। 

Post a comment

 
Top