0

दिवाली, प्रकाश का त्योहार, भारत की सबसे शुभ घटनाओं में से एक है। यह कारोबार और मार्केटिंग समुदायों सहित सभी के लिए एक विशेष स्थान रखता है। इस निहितार्थ का मतलब है कि दिवाली आम तौर पर व्यापारिक अवकाश है। हालांकि, एनएसई और बीएसई दोनों शाम के ट्रेडिंग सेशन के लिए स्पेशल अलाउंस लेते हैं। इस ट्रेडिंग सत्र को मुहूर्त ट्रेडिंग के रूप में जाना जाता है, जो देवी लक्ष्मी को समर्पित होता है। देवी लक्ष्मी धन और समृद्धि की देवी हैं।

इस शुभ मुहूर्त में शेयर बाजार में ट्रेडिंग करने से समृद्धि और धन की प्राप्ति होती है। इस अवसर पर एंजल ब्रोकिंग लिमिटेड के सीएमओ प्रभाकर तिवारी बता रहें हैं कि मुहूर्त ट्रेडिंग के दौरान क्या करना चाहिए और क्या नहीं…

क्या करें

1. मुहूर्त ट्रेडिंग के दौरान इक्विटी मार्केट में प्रवेश करें: निवेशकों के अक्सर सवाल रहते हैं कि इक्विटी बाजार में कब प्रवेश करना है। इक्विटी में प्रवेश एक बहुत ही अच्छा कदम है, भले ही आप एक नए निवेशक हों। बाजार में ऐसे निवेशकों की भरमार है जो टोकन ऑर्डर करने और ऐसे स्टॉक खरीदने की क्षमता रखते हैं, जिनमें उच्च क्षमता वाले रिटर्न ऑन इन्वेस्टमेंट हैं। इसका मतलब यह है कि इस शुभ दिन बाजार में उतार-चढ़ाव कम होता है क्योंकि ट्रेडर्स का रुझान स्टॉक को बेचने के बजाय खरीदने पर ज्यादा रहता है।

आप टोकन खरीद कर इक्विटी में प्रवेश कर सकते हैं। इस बीच यदि आपने वित्तीय अनुशासन का पालन किया तो यह निवेश यात्रा आपके लिए लंबी दूरी तय करेगी क्योंकि आखिर नई शुरुआत के लिए दिवाली से अच्छा क्या दिन हो सकता है। आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि आप अपने निवेश को यदि रोज या मासिक आधार पर नहीं कर सकते तो कम से कम हर तिमाही में ट्रैक करें। इक्विटी, डेट, गोल्ड या रियल एस्टेट पोर्टफोलियो के लिए नियमित समीक्षा की आवश्यकता होती है।

2. गांवों में खपत पर केंद्रित स्टॉक्स खरीदें: दिलचस्प बात यह है कि खपत आधारित कंपनियों खासकर एफएमसीजी और टू-व्हीलर सेग्मेंट में काम कर रही कंपनियों का ग्रोथ डायनामिक्स मजबूत है। इस सेग्मेंट में होने वाला प्राइज वॉर अक्सर टॉप-लाइन ग्रोथ होता है जिससे ग्रोथ रेट अक्सर दो अंकों में पहुंच जाता है। जीएसटी लागू होने से इन शेयरों में अतिरिक्त अल्फा लेयर बढ़ी है, जिसका अर्थ है आने वाले वर्षों में उनकी आवंटन दक्षता में काफी सुधार होगा। कहा गया है कि जीएसटी लंबे समय से खाद्य कंपनियों का पक्ष ले रहा है, अपेक्षाकृत समृद्ध मूल्यांकन के बावजूद, और उनके तेजी से पनपने की संभावना है।

इस बीच खपत-केंद्रित सेग्मेंट में आपको ग्रामीण खपत जैसे सब-सेक्टर की तलाश करनी चाहिए। चूंकि एमएसपी उत्पादन लागत पर अनुमानित 150% निर्धारित होता है, इस वजह से एमएसपी लाभ रबी फसलों को कवर करता है, साथ ही ग्रामीण क्रय शक्ति भी बढ़ती है। इस तरफ देखें तो आपको उन कंपनियों को देखना होगा जो इनपुट-एंड पर काम करते हैं, जैसे कि हाइब्रिड बीज, ड्रिप सिंचाई, उर्वरक, और कृषि समेत अन्य।

क्या न करें

1. अच्छे मुनाफे के वादे को देखकर फिसलना नहीं है: निवेश जगत में आपको अपनी बुद्धिमत्ता अपने पास रखने की जरूरत है। यथार्थवादी तरीके से दिमाग को रखकर आप अपने लिए रास्ता बना सकते हैं। यह सबसे अच्छा होगा कि आप निवेश करते समय किसी के ज्यादा लाभ के बहकावे में भावुक होकर बह न जाएं। मुहूर्त ट्रेडिंग वास्तव में निवेश कैरियर में एक उम्मीद से भरा अध्याय है। लेकिन, आपको पता होना चाहिए कि 'शुभ' निश्चित भविष्य की सफलता को निरूपित नहीं करता, और यदि आप सही गणना नहीं करते तो इस दिन की सकारात्मकता बाकी साल के लिए एक सुंदर आरओआई की गारंटी नहीं देती है।

इस तरह दिन की जीवंत गतिशीलता के बावजूद आपको अभी भी गहन रिसर्च का लाभ उठाना चाहिए और स्थायी वेल्थ जनरेशन मॉडल के लिए अपने पोर्टफोलियो में फेरबदल करने के लिए वित्तीय विशेषज्ञों / प्रबंधकों के मार्गदर्शन पर अमल करना चाहिए।

2. बहुत ज्यादा एक्सपोजर रखना: मुहूर्त ट्रेडिंग में लिक्विडिटी की कमी का मुद्दा रहता है। यह एक संकेत है कि आपको किसी विशिष्ट स्टॉक के लिए भारी जोखिम नहीं लेना चाहिए। इस सत्र में घरेलू बाजार सिर्फ एक घंटे के लिए कारोबार के लिए खुलता है। इसका मतलब है कि भागीदारी बहुत कम होगी, जिसके परिणामस्वरूप तरलता में अस्थिरता होगी। निवेशक के रूप में, आपको बाजार का जायजा लेने और सावधानी से कदम उठाने की जरूरत है।

इस संबंध में आपको इस मुहूर्त ट्रेडिंग दिन पर किसी भी विशिष्ट स्टॉक में भारी जोखिम लेने के बारे में दो बार सोचना चाहिए। वास्तव में एक्सपोज़र के मामले में एक्सचेंज से आप पर कोई प्रतिबंध नहीं होगा, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आपको सबकुछ अपने अधिकार में ही ले लेना है और भारी एक्सपोज़र ले लेना चाहिए। इस वजह से मॉडरेशन की कुंजी सोच-समझकर गणना के बाद मूव करने में निहित है।

नए निवेशकों के लिए यह बाजार में प्रवेश करने का सही समय है। चीजें आपको पता होना चाहिए और यह एक शुरुआत है तो खरीद भी टोकन होना चाहिए। यही आपके लिए सही रणनीति है। वर्ष का यह समय व्यापार/निवेश में कैरियर पर विचार करने वालों के लिए आदर्श प्रवेश बिंदु है। दीर्घकालिक निवेश पर विचार करने वाले लोगों के लिए मुहूर्त ट्रेडिंग और भी अधिक आदर्श है। दीर्घकालिक लक्ष्य अधिक प्रासंगिक होते हैं, यदि आप समझते हैं कि साइकल एक महत्वपूर्ण पहलू है और कम तरलता है। आखिरकार, यह एक शुभ अवसर है और एक नई यात्रा को शुरू करने का एक सही समय है।

Post a comment

 
Top