0

त्योहार नवीकरण का संकेत देते हैं। किंवदंती के अनुसार, नवरात्रि बुराई पर अच्छाई की जीत का जश्न मनाती है। (शेयर) बाजारों के साथ नवरात्रि के रंगों का जश्न मनाते हुए अपने वित्तीय और आकांक्षी लक्ष्यों को पूरा करने की यात्रा शुरू करने के लिए यह उचित समय हैं। एंजल ब्रोकिंग के सीएओ प्रभाकर तिवारी ने यहां तीन सबसे महत्वपूर्ण खूबियों के बारे में बताया है, जिन्हें आपको एक सफल महिला निवेशक बनने के लिए अपनाना चाहिए: 

1. बाजार में तत्परता: कई महिला निवेशकों ने सफल ट्रेडर्स के रूप में अपनी एक दुर्जेय प्रतिष्ठा बना ली है, वह भी एक पुरुष-प्रधान जगह में। आप उनकी सफलता के राज़ के बारे में सोच रहे होंगे। यह बाजार में तत्परता दिखाने के अलावा और कुछ नहीं है। बाजार में तत्परता दिखाकर, इन महिला निवेशकों ने लगातार बाजार का अध्ययन किया, और अपने ट्रेडिंग अनुभव से कमाऊ अंतर्दृष्टि हासिल की।

बाजार में तत्परता दिखाने का अर्थ है कि एक व्यक्तिगत निवेशक के रूप में, आपके पास अपने कई गुना वित्तीय लक्ष्यों को पूरा करने के लिए एक निवेश नीति होनी चाहिए - सेवानिवृत्ति योजना से लेकर योजनागत व्यय तक के लिए धन रखने तक, और धन कमाने से लेकर संपत्ति बनाने तक। अपनी निवेश यात्रा शुरू करने से पहले आपको तीन महत्वपूर्ण कारकों पर भी विचार करना चाहिए। ये हैं: अपने व्यक्तिगत वित्तीय लक्ष्यों के आधार पर एक निवेश नीति बनाना - चाहे यह अल्पकालिक, मध्यावधि या दीर्घकालिक हो, अपनी जोखिम लेने की क्षमता को जानना और अपनी पसंदीदा निवेश शैली पर ध्यान देना।

एक निवेशक के रूप में, जिसने अभी-अभी ट्रेडिंग शुरू की हो, आपको बाजार की अच्छी समझ होनी चाहिए। सफल महिला निवेशकों की तरह, जिन्होंने बाजार में तत्परता दिखाई है, आपको हमेशा बाजार के प्रमुख बदलाव याद रखने चाहिए, न कि तुरंत अमीर बनने की प्रबल धारणा से मोहित होना चाहिए। बाजार में तत्परता दिखाने का अर्थ यह भी है कि निवेश करने से पहले, आपको अच्छी तरह से बाजार अनुसंधान करना चाहिए, और कुछ महत्वपूर्ण मानदंड समझने चाहिए, जैसे कि बाजार पूंजीकरण, इक्विटी अनुपात पर ऋण, आय अनुपात पर मूल्य, शुद्ध आय, आय में वृद्धि, लाभांश जारी करना और बाकी सब।

2. लगातार सीखना: सफल महिला निवेशकों ने लगातार सीखकर ऐसा कुछ किया जो पहले कभी नहीं देखा गया। इसका मतलब है कि आप न केवल दिन-प्रतिदिन के आधार पर ट्रेडिंग के बारे में सीखते हैं, बल्कि यह ट्रेडिंग करते समय सीखी गई बातों पर भी लागू होता है। लगातार सीखना सफलता की पहचान है - चाहे आप किसी निवेश-संचालित वातावरण में काम कर रहे हों, या किसी मीडिया कंपनी, या यहां तक कि विकास संगठनों में। अपने दैनिक कामों के साथ शेयर बाजार के बारे में भी थोड़ा-बहुत सीखते रहें, और समय के साथ, आप सफल निवेशकों की सूची में भी शामिल हो सकते हैं।

जैसा कि सफल महिला निवेशकों ने दिखाया है, निरंतर सीखने का मतलब अच्छा निवेश पोर्टफोलियो बनाना भी है। याद रखें, शेयर बाजार आपको विविधताओं का लाभ देते हैं, जहां आप स्टॉक, कमोडिटीज, फ्यूचर्स और ऑप्शंस और मुद्राओं में निवेश कर सकते हैं। हर दिन सीखने का मतलब विज्ञापनों की नौटंकी, या कंपनियों द्वारा बिना सोचे-समझे किए गए दावों से प्रभावित न होना भी है। इसके साथ-साथ, आपको मैक्रोइकॉनॉमिक इंडिकेटर्स पर निरंतर ध्यान देना होगा, जिसका बाजार पर काफी प्रभाव पड़ता है। बाजार के साथ नवरात्रि के रंगों का जश्न मनाते रहें, सीखते रहें, और आप सही रास्ते पर चलकर एक सफल निवेशक बन सकते हैं।

3. धैर्य और भावनात्मक बुद्धिमत्ता: सफल महिला निवेशकों में धैर्य और भावनात्मक बुद्धिमत्ता जैसे कुछ सामान्य लक्षण देखने को मिलते हैं। लाभदायक और प्रतिस्पर्धी रिटर्न पाने के लिए दीर्घकालिक निवेश नीति रखने के साथ, आपको हर कीमत पर, निवेश के भावनात्मक निर्णयों से बचना चाहिए।

सफल महिला निवेशकों के अनुसार, ट्रेडिंग को बाजार की चाल और कंपनी की रिपोर्ट जैसे व्यावहारिक विचारों से प्रासंगिक होना चाहिए। यदि बाजार अचानक ही गिरने लगता है, तो यह आपके धैर्य और भावनात्मक बुद्धिमत्ता की परीक्षा का समय होगा। परीक्षा के इस समय पर, कई निवेशक खरीद और बिक्री से घबराएंगे। हालांकि, यह सफल निवेशक की खूबी नहीं है। याद रखें, बाजार एक निश्चित अवधि के बाद पलट सकता है। कई बार, जब बाजार में गिरावट होती है, तो सफल महिला निवेशक अपनी समग्र निवेश नीति का ही पालन करने, अनुभवी निवेशकों/विश्लेषकों को ध्यान में रखने, बाजार की बुनियादी बातों पर नज़र रखने और फिर एक कुशल निर्णय लेने का सुझाव देती हैं।

Post a comment

 
Top