0
गोदरेज एयरोस्‍पेस ने 1000 प्रोपर्सनल सोलेनॉयड वाल्‍व्‍स - कोविड-19 वेंटिलेटर्स बनाने के महत्‍वपूर्ण घटक का पहला बैच तैयार कर डीआरडीओ को डिलिवर किया

मुंबई : गोदरेज ग्रुप की महत्‍वपूर्ण कंपनी, गोदरेज एंड बॉयस ने घोषणा की कि इसके घटक, गोदरेज एयरोस्‍पेस ने 1,000 प्रोपर्सनल सोलेनॉयड वाल्‍व्‍स तैयार कर रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) को डिलिवर कर दिया है। प्रोपर्सनल सोलेनॉयड वाल्‍व्‍स, वेंटिलेटर्स तैयार करने का एक महत्‍वपूर्ण घटक है।
प्रोपर्सनल सोलेनॉयड वाल्‍व, हर श्‍वांस में मरीज की आवश्‍यकता के आधार पर ऑक्‍सीजन के प्रवाह को नियंत्रित करता है। यह वेंटिलेंटर्स और अन्‍य चिकित्‍सा उपकरणों को बनाने हेतु एक महत्‍वपूर्ण घटक है।
चिकित्‍सा उपकरणों के लिए जटिल इलेक्‍ट्रो-मैग्‍नेटिक वाल्‍व्‍स के सफल उत्‍पादन के बाद, गोदरेज एयरोस्‍पेस अब विभिन्‍न तरह के पीएसवी के निर्माण को बढ़ायेगा, ताकि ऐसे महत्‍वपूर्ण चिकित्‍सा एवं अन्‍य उपकरणों की मौजूदा व भावी मांग पूरी की जा सके जो पूर्णत: ''मेड इन इंडिया'' हैं। कंपनी, वैश्विक चिकित्‍सा उपकरण उद्योग में नये सप्‍लाई लिंक के रूप में अंतर्राष्‍ट्रीय बाजार के लिए योजनाएं बना रही हैं, चूंकि कंपनियां कोविड-19 के परिणामस्‍वरूप सप्‍लाई-चेन्‍स को फिर से तैयार करने की तैयारी में हैं।
चूंकि कोविड-19 महामारी के चलते देश भर में वेंटिलेटर्स व अन्‍य जीवनरक्षक उपकरणों की मांग बढ़ गई, इसलिए गोदरेए एयरोस्‍पेस ने भारत में पहली बार समूचे प्रोपर्सनल सोलेनॉयड वाल्‍व बनाने की चुनौती स्‍वीकार की। इस कार्य में डीआरडीओ, एयरोनॉटिकल डेवलपमेंट एजेंसी (एडीए) और भारत इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स (बीईएल) की टीमों ने गोदरेज एयरोस्‍पेस के इंजीनियरों को सहयोग दिया। टीमों ने 24/7 काम किया और कठोर सप्‍लाई साइड व लॉजिस्टिक्‍स सीमाओं के तहत मात्र 10 दिनों में प्रोडक्‍शन शुरू कर दिया। इसमें डीआरडीओ डिजाइन्‍स के आधार पर प्रोटोटाइप्‍स के लिए टेस्ट-रिग स्‍थापित करना शामिल रहा। गोदरेज एयरोस्‍पेस कर्मचारियों के लिए कठोर सैनिटाइजेशन, सुरक्षा एवं सोशल डिस्‍टेंसिंग प्रोटोकॉल्‍स का उचित ख्‍याल रखते हुए यह किया गया।
एक डिजिटल समारोह में 1000वें वाल्‍व को सौंपे जाने की बात स्‍वीकार करते हुए, डॉ. जी सतीश रेड्डी, सचिव, रक्षा विभाग शोध एवं विकास, भारत सरकार; डीआरडीओ के चेयरमैन और एयरोनॉटिकल डेवलपमेंट एजेंसी के महानिदेशक ने कहा, ''हमें बहुत ही कम समय में पहले 1,000 वेंटिलेटर वाल्‍व्‍स के विकास एवं उत्‍पादन में गोदरेज एयरोस्‍पेस के साथ सहयोग करने की खुशी है, चूंकि ये कंपोनेंट्स इस भयंकर महामारी में जिंदगियों को बचाने हेतु महत्‍वपूर्ण है। दशकों से हमारे सहयोग के जरिए, गोदरेज हमेशा से एक विश्‍वसनीय सहयोगी रहा है। हम प्रोडक्‍शन को और अधिक बढ़ाने हेतु उन्‍हें प्रोत्‍साहित करते हैं, ताकि ऐसे समय में हमारे देश की जरूरतों को पूरा किया जा सके और हम उन्‍हें आवश्‍यकतानुसार सहयोग देंगे। हम गोदरेज के शीर्ष प्रबंधन, प्रोडक्‍शन स्‍टाफ व शॉपफ्लोर वर्कर्स और कंपनी के सप्‍लायर्स को बधाई देना चाहेंगे, ताकि ऐसे कठिन समय में आगे बढ़ सकें।
गोदरेज एंड बॉयस के कार्यकारी निदेशक व प्रेसिडेंट अनिल जी वर्मा ने कहा, ''राष्‍ट्र को आत्‍मनिर्भर बनाना वर्ष 1897 में गोदरेज की स्‍थापना के बाद से इसका उद्देश्‍य रहा है, जब हमने ताले व साबुन बनाना शुरू किया। गोदरेज एयरोस्‍पेस की हमारी टीमों की कड़ी मेहनत और सुविचारित प्‍लानिंग सफल रही है और मुंबई में लॉकडाउन के बावजूद, हम अल्‍प समयावधि में ही इन 1000 महत्‍वपूर्ण वाल्‍व्‍स डिलिवर कर पाये। डीआरडीए, बीईएल, एडीए टीमों और उन 22 सप्‍लाई चेन पार्टनर्स के निरंतर मार्गदर्शन व उत्‍साहवर्द्धन के बिना यह संभव नहीं हुआ होता, जिन्‍होंने कर्तव्‍य के आह्वान पर इस महत्‍वपूर्ण ''मेड इन इंडिया'' पहल को समर्थन दिया।
गोदरेज एयरोस्‍पेस के कार्यकारी प्रेसिडेंट व बिजनेस हेड सुरेन्‍द्र एम वैद्य ने बताया, ''रक्षा, स्‍पेस मिशन व सैटेलाइट्स जैसे क्षेत्रों में डीआरडीओ के साथ हमारा सहयोग तीन दशकों से अधिक समय से है। डीआरडीओ की डिजाइन के आधार पर, प्रोपर्सनल सोलेनॉयड वाल्‍व्‍स को 10 दिनों में तैयार किया गया। 1,000 वाल्‍व्‍स की डिलिवरी की जा चुकी है और हमारा लक्ष्‍य जून के अंत तक 2,000 वाल्‍व्‍स डिलिवर करने का है। मैं डीआरडीओ, एडीए व बीईएल को हार्दिक धन्‍यवाद देता हूं जिन्‍होंने ऐसे महत्‍वपूर्ण कंपोनेंट्स के निर्माण में भारत को आत्‍मनिर्भर बनाने की हमारी क्षमता पर लगातार भरोसा जताया।
बता दें कि गोदरेज समूह कंपनी, गोदरेज एंड बॉयस 14 विविध व्यवसायों में परिचालन करता है। 1897 में स्थापित, इस कंपनी ने उच्च गुणवत्ता वाले ताले के निर्माण के साथ शुरुआत की। उसके बाद से, यह उपभोक्ता वस्तु, कार्यालयीय और औद्योगिक उत्पाद और सेवाएं, बुनियादी ढांचा और रियल एस्टेट जैसे विविध क्षेत्रों में कदम रख चुका है। इसका मुख्यालय मुंबई में है। गोदरेज एंड बाॅयस को उपकरण, फर्नीचर और इंटेरियर्स, सुरक्षा समाधान, लॉकिंग समाधान, एवी समाधान, वेंडिंग, मैटेरियल हैंडलिंग, औद्योगिक लाॅजिस्टिक्स, एयरोस्पेस, परमाणु ऊर्जा, रक्षा, आॅटो इंडस्ट्री के लिए टूलिंग, प्रोसेस उपकरण, पावर इंफ्रास्ट्रक्चर, रियल इस्टेट और ग्रीन बिल्डिंग कंसल्टिंग में विशेषज्ञता हासिल है और यह उक्त क्षेत्रों में बाजार अग्रणी भी है। गोदरेज भारत के सबसे भरोसेमंद ब्रांड्स में से एक है जो हर रोज दुनिया भर के 1.15 अरब ग्राहकों को सेवा प्रदान करता है।

Post a comment

 
Top