0



अखिल भारतीय अग्निशिखा मंच का 54वां ऑनलाइन कवि सम्मेलन स्वतंत्रता दिवस पर भव्यता से हुआ संपन्न।
उसी अवसर पर अधिकतर कवियों व कवयित्रियों ने हरे केशरी सफ़ेद वस्त्र पहनकर हाथ में तिरंगा झंडा लेकर देश को सलाम और अमर शहीदों को श्रद्धांजलि दी।
इस अनुपम उत्कृष्ट भव्य शानदार ऑनलाइन काव्य गोष्ठी का आयोजन संस्था की अध्यक्षा डॉ अलका पांडेय ने किया, जिसमें उन्हें भरपूर साथ मिला उनके अनुज चंदेल साहिब (बिलासपुर हिमाचल प्रदेश), प्रतिभा पराशर, बिजेंद्र मेव और सुरेंद्र हरड़े का।
हर बार की तरह इस बार भी मंच का संचालन बेहतरीन उत्कृष्ट औऱ सदाबहार रहा।
सभी कलमकारों, रचनाकारों ने एक से बढ़कर एक रचना पेश की, आज़ादी पर गीत गाए, तिरंगे के तीनों रँगों से सराबोर रंगविरंगी पोशाक धारण की, नृत्य किए, अदभुत झलकियां प्रस्तुत की, जिसे देख कर सबका मन प्रफुल्लित हो गया। वहीं कुछ रचनाएं व प्रस्तुतियां देशभक्ति पर ऐसी भी रही जिन्हें देख कर सबकी आँखे नम हो गयी। सभी देशप्रेम के रंग में रंग गए।
हर बार की तरह इस उत्तम कार्यक्रम का आयोजन दो सत्रों में आयोजित किया गया।
पहले सत्र में संचालनकर्ता की भूमिका को मिलकर निभाया मुंबई से अग्निशिखा मंच की अध्यक्ष अलका पांडेय व उनके अनुज चंदेल साहिब (हिमाचल प्रदेशाध्यक्ष) व बिहार से प्रतिभा पराशर ने।
स्वतंत्रता दिवस के उपलक्ष्य पर आयोजित इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि राम राय व समारोह -अध्यक्ष हरिप्रसाद शर्मा यमदूत, विशेष अतिथि डॉ रश्मि नायर (वरिष्ठ साहित्यकार) एवं आशा जाकड (साहित्यकार) इंदौर एवं सुनील मिश्रा (एक्टर राइटर छतीसगढ़) थे। सभी ने बड़े ही खूबसूरत अंदाज़ से काव्य पाठ कर अग्निशिखा मंच की शान को औऱ गौरवान्वित कर दिया।
मंच की अध्यक्ष अलका पाण्डेय ने बताया कि सबको तिरंगे के साथ रख कर काव्य पाठ व नृत्य किया। ७४ वर्ष आजादी के बाद क्या खोया क्या पाया ? आठवीं क्लास की आद्रिका शर्मा ने सुदंर काव्यपाठ किया। आबूधाबी से शेखर तिवारी, मलेशिया से गुरविन्द्र गिल, यूएस से पूर्णिमा ने राष्ट्र ध्वाज को सलामी देकर देश को याद किया। ऐसा लग रहा था कि हम घर पर ही साक्षात कार्यक्रम का आनंद ले रहे थे। पाँच घंटे कार्यक्रम चला सबने बहुत आनंद लिया देश भर के 90 लोगों ने भाग लिया।
दूसरे सत्र को भी अग्निशिखा परिवार की मुखिया अलका पाण्डेय ने बखूबी संभाला जिसमें उनका साथ दिया विजेंद्र मेव एवं सुरेंद्र हरड़े ने औऱ सह संयोजक की भूमिका संजय कुमार मालवी, चंदेल साहिब व रजनी अग्रवाल ने निभाई।
निर्णायक का कार्यभार डॉ अरविंद जी ने संभाला, आभार
अंजली तिवारी ने प्रकट किया वहीं सरस्वती वंदना पद्माक्षी शुक्ल तथा शोभा रानी तिवारी ने की।
अग्निशिखा के संग काव्य के विविध रंग ऑनलाइन कवि सम्मेलन में कुछ रचनाएं इस प्रकार थी:-
अलका पांडेय मुंबई से:-
राजगुरू सुखदेव भगतसिंह
हंसकर फाँसी पर झूले!
चन्दशेखर अश्फाक बिस्मिल
सा फूल चमन मे खिले !!
मंगल पान्डे झाँसी की रानी
कुँअरसिह तात्या टोपे!
महाबली सब सन्तावन के
नही कोई थे छोटे!!

चंदेल साहिब बिलासपुर हिमाचल से:-
अपनी आज़ादी की खातिर,
तुमने क्या क्या जतन किए।
मुझे बताओ चंदेल साहिब,
कितने पंछी आज़ाद किए।
वो बूढ़ा आम बरगद का पेड़,
मुझसे अक़सर करते सवाल।
कहाँ गए वो धरा के लाल,
रखते थे बच्चों जैसे ख़्याल।।

मगर न भूलो ये, इस आजादी में शहीदों की शहादत शामिल
न जाने कितनी मां के लालो का लहू शामिल
जागृति वशिष्ठ देहरादून

पंछी है बोल पाए कब
दर्द उसका है वहां ।
शेखर तिवारी

ऐ वतन वतन मेरे आबाद रहे तू मैं जहां रहूं जहां में याद रहे तू - शुभा शुक्ला निशा रायपुर छत्तीसगढ़

सफ़ेद शांति का धागा पहनूं
प्रेम का सुरमा लगाऊं
हरियाली की चादर ओढ़
 अमन शांति सबको सिखाऊं
स्मिता धीरसरिया, बरपेटा

हर आहट पे मां, राह देख रही, सुनी गलियां अश्रु से, भिगोती रही - पद्माक्षी शुक्ल

जननी-जन्मभूमि
हे पूज्य जननी, हे जन्मभूमि भारत पतित-पावन-पुष्पित तेरे चरण हैं!
अमर-अतुल-अमिट इति आलोकित लक्ष-लक्ष, कोटि-कोटि तुझे नमन है!
 ज्योति भाष्कर "ज्योतिर्गमय"

आजादी का जश्न मनाओ
गीत शहीदों के गाओ ।
याद करो उन बलिदानों को
वीरों को शीश नवाओ ।
मीरा भार्गव सुदर्शना

देश की अस्मिता पर अब न कोई आंच होगी
विश्व शीर्ष पर सदा भारत विराजमान रहेगा
न जाएगा व्यर्थ अमर सपूतों का बलिदान
सदा अमर ये मेरा हिंदुस्तान रहेगा...
मीना गोपाल त्रिपाठी

बात करें जो इतिहास के पन्नों की,
तो लहू से लिखे हुए दिखते हैं।
आजादी के संघर्ष को बयां करते,
अश्रु आँखों में नहीं टिकते हैं
सुनीता चौहान हिमाचल प्रदेश

जांबाज सिपाही बंदूक तान
 देश की रक्षा कर रहे
भेज रही बहना रक्षा सूत्र
माथे चंदन टीका लगाया
भाई की सुरक्षा करे देश की रक्षा
यह सबका अभिमान है
तिरंगे में लिपट आए जो वीर
वह देश की शान है
डा. अंजुल कंसल"कनुप्रिया"इंदौर मध्यप्रदेश

मै कारगिल पर लिख नही पाया कविता
नहीं दे सका जवानों को शाबशी!!
सुरेन्द्र हरड़े

हे भारत के वीर सपूतों, तेरे ही कारण -
आजाद है वतन ..../ भारत माँ के रणबांकुरे शत-शत तुम्हें नमन .........
डाॅ.पुष्पा गुप्ता, मुजफ्फरपुर बिहार

1947 की वो आजादी याद है।
भारत किन मूल्यों पर स्वतंत्र हुआ, हमको बर्बादी याद है।
रागिनी मित्तल, कटनी मध्यप्रदेश

मेरे दिल पूरा यह अरमान हो!
प्यारा तिरंगा मेरे कफन की शान हो!!
डा. महताब आज़ाद

स्वतंन्त्रता जहा देश प्रेम की भावना हो,
अपने झंडे के प्रति सम्मान हो,
अपने देश के नियम कायदे कानून का पालन हो
अपने नागरिकों, बुजुर्गो के प्रति सदभावना हो,
शहादत देने वालों की,
खून पसीना बहाने वालो की,
आजादी का सच्चा सम्मान,
तभी होगा उनका सार्थक बलिदान हो तभी होगा उनका सार्थक बलिदान ।
जय हिंद , जय भारत , वन्देमातरम
संजय कुमार मालवी (आदर्श)

बच्चों में देश भक्ति की भावना बनी रहे इसलिए बच्चों के साथ नन्हा मुन्ना राही पर प्रस्तुति दी
चन्दा डांगी आदित्य सीमेंट चित्तौड़गढ़ राजस्थान

समारोह के प्रतिभागियों में सम्मिलित नाम कुछ इस प्रकार से थे:-
1)शकुन्तला (पावनी), चंडीगढ
2)वंदना शर्मा बिंदु देवास
3)छगनराज राव 'दीप'
4)दीपा परिहार 'दीप्ति'
5)सुनीता चौहान, हिमाचल प्रदेश
6)शेखर राम कृष्ण तिवारी, आबू धाबी
7)मंजुला वर्मा हिमाचल प्रदेश
8)डॉ रश्मि शुक्ला प्रयागराज
9)सीमा दुबे सांझ
10)शोभा रानी तिवारी
11)कवि आनन्द जैन अकेला कटनी मध्यप्रदेश
12)सुरेंद्र कुमार हरड़े मंच संचालक नागपुर
13)प्रतिभा कुमारी पराशर बिहार
14)अलका पाण्डेय मुंबई
15)चंदेल साहिब - हिमाचल प्रदेश
16)सुनील दत्त मिश्रा - फ़िल्म एक्टर राइटर छत्तीसगढ़
17)संजय मालवी आदर्श इंदौर
18)डॉ. शरद नारायण खरे, डॉ नीलम खरे
19)ब्रजेन्द्र नारायण द्विवेदी
20)अर्चना पाण्डेय
21)दिनेश शर्मा
22)ममता तिवारी इंदौर,
23) गुरिंदर गिल मलेशिया
24)प्रेरणा सेन्द्रे
25) सुषमा शुक्ला इंदौर
26)ओमप्रकाश पाण्डेय, खारघर नवीं मुम्बई
27) आशा जाकड़
28)अश्मजा प्रियदर्शिनी पटना बिहार
29)रामेश्वर प्रसाद गुप्ता, नवी मुम्बई
30)सीमा निगम रायपुर
31) गोवर्धन लाल बघेल छत्तीसगढ़
32)डा. महताब अहमद आज़ाद उत्तर प्रदेश
33)डा. साधना तोमर, बागपत, यू.पी.
34)चन्दा डांगी आदित्य सीमेंट चित्तौड़गढ़
35)वैष्णो खत्री वेदिका जबलपुर   
36)रेखा पांडे
37)बरनवाल मनोज अंजान धनबाद, झारखंड
38)शुभा शुक्ला निशा रायपुर छत्तीसगढ़
39)अनिता शरद झा रायपुर
40)अंकिता सिन्हा,
41)अर्चना पाठक छत्तीसगढ़
42)डां अँजुल कंसल इंदौर मध्यप्रदेश
43)सुनीता अग्रवाल इंदौर मध्यप्रदेश
44)डाॅ पुष्पा गुप्ता मुजफ्फरपुर बिहार
45)पदमा तिवारी दमोह एवं ओजेंद्र तिवारी दमोह
46)शोभा किरण जमशेदपुर
47)डॉ रश्मि नायर - मुम्बई
48)उपेन्द्र अजनबी गाजीपुर उत्तर प्रदेश
49)पद्माक्षी शुक्ल,
50)विजय बाली.जोधपुर
51)डाॅ0 उषा पाण्डेय कोलकाता
52)रानी अग्रवाल मुंबई
53)जनार्दन शर्मा इंदौर
54)रजनी अग्रवाल जोधपुर
55)लीला कृपलानी जोधपुर
56)माधवी अग्रवाल आगरा
57)डॉ ज्योत्सना सिंह लखनऊ
58)मीना कुमारी परिहार
59)मुन्नी गर्ग
60)दविंदर कौर होरा
61)रानी नारंग
62)अंजली तिवारी मिश्रा
63)द्रोपती साहू "सरसिज"
64)इंद्राणी साहू साँची
65)गरिमा लखनऊ
66)निहारिका झा
67)स्मिता धिरासरिया  बारपेटा
68) जय श्री शर्मा रायपुर
69)कल्पना भदौरिया
70)गीता पांडे "बेबी"जबलपुर
71)मीना गोपाल त्रिपाठी अनुपपुर (मध्यप्रदेश)
72)अरविंद कुमार, सुपौल बिहार
73)डॉ जनार्दन सिंह
74)नीलम पाण्डेय गोरखपुर
75)ज्ञानेश कुमार मिश्र अजमेर
77)प्रतिभा द्विवेदी मुस्कान सागर मध्यप्रदेश
78)रागिनी मित्तल कटनी
79)विजय कान्त द्विवेदी
80)ज्योति भाष्कर "ज्योतिर्गमय"
81)प्रा रविशंकर कोलते ।
82)सुरेंद्र कुमार जोशी
देवास, मध्य प्रदेश
83)आद्रिका शर्मा, क्लास 8
84)रवि नारायण रायगढ़ छत्तीसगढ़
85)डॉ अविनाशी
86)मीरा भार्गव कटनी
87)निक्की शर्मा - मुम्बई
88)जागृति वशिष्ठ देहरादून
89)विजेन्द्र मेव जी राजस्थान

Post a comment

 
Top