0

मुंबई। सोमवार को स्पॉट गोल्ड की कीमतों में 0.2 प्रतिशत की मामूली वृद्धि हुई, क्योंकि दुनियाभर में कोरोनावायरस मामलों में कई गुना वृद्धि हुई थी। धीरे-धीरे बढ़ रहे मामलों ने आर्थिक सुधार की अवधि को विस्तार मिलने की चिंताओं को पैदा किया और सेफ-हेवन संपत्ति के तौर पर सोने की अपील को बढ़ाया। प्रथमेश माल्या (एवीपी- रिसर्च नॉन-एग्री कमोडिटी एंड करेंसी, एंजल ब्रोकिंग लिमिटेड) ने बताया के हालांकि, दुनिया की दो सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के व्यापार और आर्थिक विकास के आंकड़े सकारात्मक हैं और पीली धातु की लागत बढ़ने से कीमतों में वृद्धि सीमित हो गई। इंस्टीट्यूट फॉर सप्लाई मैनेजमेंट (आईएसएम) के अनुसार अमेरिकी सेवा गतिविधियां मई 2020 में 45.4 थी जो जून 2020 में बढ़कर 57.1 हो गईं।
सोमवार को, डब्ल्यूटीआई क्रूड में मामूली वृद्धि हुई। अमेरिका और चीन में कारोबार फिर से शुरू होने और व्यपारिक वृद्धि सकारात्मक रहने से यह 40.6 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुई। ओपेक और उसके सहयोगियों ने दुनियाभर में गिरती मांग का सामना करने के लिए अगले महीनों में आक्रामक और व्यावहारिक उत्पादन कटौती जारी रखने का फैसला किया, जिससे तेल की कीमतों को समर्थन मिला। जून 2020 में सऊदी और अन्य खाड़ी देशों ने महत्वपूर्ण उत्पादन कटौती की वजह से ओपेक के तेल उत्पादन के आंकड़े लगभग दो दशकों में सबसे निचले स्तर पर आ गए। हालांकि, कोरोनोवायरस के उपचार में अनिश्चितता और अगले महीनों में घातक म्यूटेशन की आशंका ने कच्चे तेल की कीमतों में वृद्धि को सीमित कर दिया।
लंदन मेटल एक्सचेंज (एलएमई) पर बेस मेटल की कीमतें अधिक हो गईं, सभी के बीच निकल सबसे अधिक लाभान्वित हुआ। सरकारी रिपोर्टों के अनुसार, चीन के पर्चेसिंग मैनेजर इंडेक्स (पीएमआई) मई-2020 में 50.8 तक पहुंच गया जो अप्रैल 2020 में गिरकर 20.8 दर्ज किया गया था। इसके अलावा, अमेरिकी मैन्यूफेक्चरिंग और सर्विस क्षेत्रों में मजबूत वृद्धि दर्ज की गई, जिससे औद्योगिक धातुओं की संभावनाओं में सुधार हुआ।
एलएमई कॉपर 1.85 प्रतिशत बढ़कर 6128.5 डॉलर प्रति टन पर बंद हुआ क्योंकि महत्वपूर्ण निर्यातक देशों में खदानें फिर से खुल गईं, और शीर्ष धातु उपभोक्ता, चीन से मांग में वृद्धि हुई।

Post a comment

 
Top