0

सितंबर 2020 की शुरुआत से अब तक अन्य उभरती बाजार मुद्राओं के साथ रुपये में 1.9 प्रतिशत की मजबूती आई है। जोखिम वाले असेट क्लास में बढ़ोतरी की लाइन पर डॉलर इंडेक्स में इस दौरान 0.85 प्रतिशत की गिरावट आई है। अमेरिकी सरकार के दूसरे प्रोत्साहन पैकेज के साथ ही जल्द ही वैक्सीन रिलीज की उम्मीद के तौर पर सकारात्मक वैश्विक संकेतों ने पिछले कुछ महीनों में भारतीय रुपए को मजबूती दी है। आने वाले समय में रुपए की राह कैसी रहेगी इस बारे में बता रहें हैं एंजल ब्रोकिंग लिमिटेड के रिसर्च एनालिस्ट वकार जावेद खान। 

2021 में भारत की जीडीपी 8.8 प्रतिशत में रिबाउंड करेगी: भारत के कोरोना वायरस मामलों की दैनिक संख्या 15 सितंबर को एक ही दिन में 97000 केस का पीक बनाकर कम हो रही है। दैनिक मामलों की गिरती संख्या के साथ-साथ रोगियों के रिकवरी रेट में भी वृद्धि हुई है और अब यह 88.8 प्रतिशत को छू रहा है। हालांकि, नए मामले अब भी सामने आ रहे हैं, लेकिन अपेक्षित मांग में सुधार वित्त वर्ष 2021 की दूसरी छमाही में देखा जा सकता है।

आईएमएफ के नवीनतम आउटलुक में 2020 में भारत की जीडीपी में 10.3 प्रतिशत तक की गिरावट का अनुमान लगाता है, जो जून 2020 में अपने पिछले अनुमान से 4.5 प्रतिशत कम था। इस प्रकार पहली तिमाही में तेजी से फैल रही महामारी को नियंत्रित करने के लिए देशव्यापी लॉकडाउन की वजह से आर्थिक गतिविधियों में अनुमानित गिरावट की तुलना में यह एक गंभीर स्थिति को दर्शाता है। हालांकि, आईएमएफ के अनुसार भारतीय अर्थव्यवस्था 2021 में 8.8 प्रतिशत की रिबाउंड की उम्मीद है।

इकोनॉमिक रिकवरी में मुख्य भूमिका रहेगी स्टिमुलस की: यूएस फेड की बैलेंस शीट मार्च 2020 में महामारी के शुरू होने के बाद से $4 ट्रिलियन से लगभग $7 ट्रिलियन हो गई है। 7 अक्टूबर को नवीनतम यूएस फेड मीटिंग के मिनट्स में केंद्रीय बैंक ने आने वाले वर्षों के लिए ब्याज दरों को शून्य के आसपास रखने का फैसला किया। हालांकि, अमेरिका में आर्थिक रिकवरी में दूसरे कोरोनवायरस रिलीफ पैकेज के तौर पर फिस्कल प्रोत्साहन महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। जेरोम पॉवेल ने कहा कि अमेरिका ने मई 2020 के बाद से आर्थिक सुधार उम्मीद से बेहतर देखा है, लेकिन आगे राजकोषीय प्रोत्साहन की कमी से आर्थिक सुधार थम सकता है।

वैश्विक केंद्रीय बैंकों के साथ-साथ आरबीआई ने भी अपनी मौद्रिक नीति में 4 प्रतिशत की कम रेपो दरों के साथ आक्रामक रुख बनाए रखा है। हालांकि, आरबीआई की नवीनतम मौद्रिक नीति बैठक में केंद्रीय बैंक ने आखिरकार स्वीकारा कि वित्त वर्ष 2021 में भारतीय बाजार में 9.5% की गिरावट हो सकती है।

आउटलुक: यूएस फेड प्रमुख जेरोम पावेल के अनुसार मई से अमेरिकी आर्थिक सुधार उम्मीद से बेहतर रहा है, लेकिन अमेरिका अभी भी रोजाना कोविड-19 मामलों के हायर नंबर पोस्ट कर रहा है। उन्होंने सीनेट से अतिरिक्त फिस्कल प्रोत्साहन पैकेज के लिए अपने प्रयास जारी रखने का आग्रह किया।

हालांकि, राजकोषीय प्रोत्साहन पैकेज पर बातचीत दिनों और हफ्तों के लिए खींची गई है और आने वाले दिनों में इसके होने की संभावना कम ही है।

इस बीच, भारतीय इक्विटी बाजार में एफआईआई का प्रवाह महामारी की शुरुआत के बाद पहली बार निगेटिव हो गया। सितंबर में भारतीय इक्विटी बाजार से 7783 करोड़ रुपए का आउटफ्लो दर्ज हुआ। हालांकि, अक्टूबर के महीने के लिए एफआईआई इनफ्लो 14417 करोड़ के साथ पॉजिटिव रहा है।

ट्रेजरी यील्ड्स में बढ़ोतरी हुई है और अगस्त के मुकाबले अगस्त में 0.515 प्रतिशत के मुकाबले 0.856 प्रतिशत रही है। अगस्त में 0.515 प्रतिशत के मुकाबले 0.856 प्रतिशत की मौजूदा पैदावार के बाद से ट्रेजरी की पैदावार में तेजी देखी जा रही है।

भारतीय रुपए के बाजार में एफआईआई फ्लो पर बहुत अधिक निर्भर रहने के कारण रुपए की ट्रेजेक्टरी कोविड-19 वायरस के लिए शुरुआती टीके की उम्मीद के साथ मिलकर होगा। इसलिए, यूएसडीआईएनआर (यूएसडी आईएनआर) (सीएमपी: 73.65) नवंबर 2020 के अंत तक स्पेक्ट्रम के निचले सिरे पर 73 और स्पेक्ट्रम के हायर साइड में 75 में शिफ्ट होने की संभावना है।

Post a comment

 
Top