0

 मुंबई : प्रत्येक व्यक्ति के पास एक संरक्षक है, जिसके माध्यम से वे एक सार्थक जीवन जीने के लिए अपनी गुणवत्ता को विकसित करते हैं। लोगों के कुछ मूल्य हैं जो वे जीवन के लिए संजोते हैं और इसे आगे बढ़ने पर विश्वास करते हैं ताकि पीढ़ियां उनके साथ उस गुणवत्ता को हमेशा के लिए संरक्षित रख सकें। तरुण खन्ना जिन्हें दंगल टीवी की देवी आदि पराशक्ति पर भगवान शिव के रूप में देखा जा सकता है, अपने दर्शकों से एक बात साझा करते है जो उन्होंने अपने पिता से सीखा था और अब वह अपने बेटे को सिखाते हैं।

तरुण हमेशा अच्छे आकार में रहे है। वह कम उम्र से ही फिटनेस पर विश्वास करते थे और इसका कारण उनके पिता स्वर्गीय धर्मवीर खन्ना हैं। आगे उन्होंने इसके बारे में बात करते हुए कहा, "मेरे लिए फिटनेस बहुत महत्वपूर्ण है और यह चीज़ मेरे पिता ने मुझे बहुत स्पष्ट कि थी। वे वह थे जिन्होने मुझे फिटनेस की सभी छोटी बारीकियों को सिखाया। वह मेरे स्कूल के दिनों में रोज सुबह 5:30 बजे मुझे जगाते थे। उन्होंने सुनिश्चित किया कि मैं नियमित रूप से कसरत करूं। यहां तक कि वह हर सुबह मेरे साथ दौड़ते थे और मुझे कई तरह के व्यायाम करवाते थे। वे वह थे जिन्होंने मुझमें फिटनेस कल्चर को उकेरा था। 

इस बारे में बात करते हुए कि उन्होंने इस आदत को कैसे आगे बढ़ाया उसपर उन्होंने साझा किया, “परंपरा को आगे बढ़ाने के लिए मै  मेरे बेटे आदम्य के साथ व्यायाम करता हूं। वह केवल छह साल का है और मैंने पहले ही उसे सिखाया है कि पुश-अप, योग कैसे करते है, क्योंकि मानसिक फिटनेस भी बहुत महत्वपूर्ण है। इसलिए मैं और मेरा बेटा हर हफ्ते कम से कम तीन सत्र करते हैं जहां हम योग और तैराकी करते हैं। दौड़ना, साइकिल चलाना, पुश-अप्स करना कुछ ऐसा है जो वह करता है। और इसलिए उसके साथ व्यायाम करना मुझे उतना ही अच्छा लगता है जितना मुझे मेरे पिता के साथ महसूस होता था।

यह कहने में कुछ भी गलत नहीं है कि तरुण ने अपने पिता के नक्शेकदम का पालन किया और उसने स्वयं को वास्तव में अच्छी तरह से तैयार किया।

Post a comment

 
Top