0

मुंबई : अमेरिकी वित्तीय सहायता को लेकर अनिश्चितता ने स्पॉट गोल्ड और बेस मेटल की कीमतों को समर्थन किया।  चीन के जीडीपी में विकास के साथ चीन की बढ़ी हुई आर्थिक गतिविधियों ने औद्योगिक धातुओं को आगे बढ़ाया। तेल उत्पादन में बढ़ोतरी और महामारी के व्यापक प्रभाव ने क्रूड ऑयल को मामूली रूप से कम किया। 

एंजल ब्रोकिंग लिमिटेड के रिसर्च नॉन एग्री कमोडिटी एंड करेंसी एवीपी प्रथमेश माल्या ने बताया के स्पॉट गोल्ड 0.28 प्रतिशत बढ़कर 1904.3 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुआ। प्रोत्साहन पैकेज पर अमेरिकी अनिश्चितता ने कीमतों को स्थिर रखा। अमेरिकी हाउस स्पीकर नैन्सी पेलोसी और ट्रेजरी सेक्रेटरी स्टीव मेनुचिन ने दोनों पक्षों के बीच विवाद का हल निकालने की कोशिशें जारी रखीं। लेकिन आम सहमति तक पहुंचने में प्रयास विफल रहने से राहत कोष की उम्मीदों पर उसका असर पड़ा। सोने की कीमतों को यूरोप में महामारी से जुड़े प्रतिबंधों को मजबूत करने से भी समर्थन मिला क्योंकि बढ़ते मामलों ने सेफ हेवन की अपील को बढ़ाया।

अब तक, ग्लोबल सेंट्रल बैंकों ने उच्च स्तर की लिक्विडिटी इंफ्यूज करने की कोशिश की जिससे इस साल सोने की कीमतों में 25 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि की है।  

कच्चा तेल: डब्ल्यूटीआई क्रूड मंगलवार को 0.12 प्रतिशत की मामूली गिरावट के साथ 40.8 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुआ। लीबिया के तेल उत्पादन में उछाल और महामारी के बढ़ते प्रभाव का कीमतों पर असर जारी रहा। यूरोप और उत्तरी अमेरिका में कोविड-19 मामलों की खतरनाक वृद्धि से कीमतें भी थम गई थीं। इसके अलावा, धूमिल मांग की संभावनाओं के बीच लीबिया में क्रूड उत्पादन में वृद्धि की वजह से कीमतों में गिरावट आई, जिसमें इसके सबसे बड़े तेल क्षेत्र शरारा में उत्पादन फिर से शुरू होना महत्वपूर्ण है।

बेस मेटल्स: एलएमई पर बेस मेटल्स चीनी अर्थव्यवस्था में लगातार विस्तार की वजह से पॉजिटिव बंद हुई और यू.एस. में अतिरिक्त स्टिमुलस पैकेज की उम्मीद ने भी कीमतों को बढ़ाया। चीन की जीडीपी जुलाई’20 से सितंबर’20 तक लगभग 4.9 प्रतिशत बढ़ी और 2020 की दूसरी तिमाही में औद्योगिक धातुओं के 3.2% की वृद्धि का समर्थन किया। हालांकि, यूरोप और उत्तरी अमेरिका में कोरोनोवायरस के नए मामलों में खतरनाक वृद्धि के रूप में लाभ सीमित रहे, चीन के बाहर मांग पर चिंताएं बढ़ गईं। 

सितंबर 2020 में चीन में प्रायमरी एल्युमीनियम का प्रोडक्शन 3.16 मिलियन टन रहा, जो साल दर साल 7.9 प्रतिशत की दर से बढ़ा है। एल्युमीनियम की कीमतों में बढ़ोतरी और चीन में पेश किए गए नए स्मेल्टर्स के कारण उत्पादन में उछाल आया।

Post a comment

 
Top