0

                


मुंबई। कोरोना संकट के चलते देशभर में सुरक्षात्मक लॉकडाउन प्रक्रिया धीरे-धीरे सहज हो रही है. इस लॉकडाउन का असर औद्योगिक गतिविधियों पर भी पड़ा है. छोटे-बड़े सभी तरह के कल-कारखाने या तो बंद हैं अथवा उनमें बहुत सीमित मात्रा में औद्योहिक गतिविधियाँ संचालित हो रही हैं. इन आद्योगिक संस्थानों, व्यापारिक व वाणिज्यिक संस्थानों की सुरक्षा एक बहुत बड़ा प्रश्न है जिसे निजी सुरक्षा क्षेत्र की सिक्यूरिटी एजेंसियों द्वारा पूरा किया जाता है. निजी सुरक्षा क्षेत्र की सबसे पुरानी संस्था सिक्यूरिटी एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया ने कहा है कि ऐसा संज्ञान में आया है कि इस आपदा काल में भी कुछ फर्जी किस्म के तत्व सिक्यूरिटी का काम कार रहे हैं जो कि वैधानिक रूप से गलत है. एक भरोसेमंद सिक्यूरिटी एजेंसी वह होती है जिसको सुरक्षा क्षेत्र में काम करने का अधिकृत लाइसेंस मिला हो, जो पसारा कानून में पंजीकृत हो और सुरक्षा के सभी पहलुओं की जानकार हो. कर्मचारी प्रशिक्षित व स्वस्थ हों आदि. एसोसिएशन के अध्यक्ष गुरुचरण सिंह चौहान ने औद्योगिक, व्यावसायिक व वाणिज्यिक संस्थानों से अपील की है कि अगर किसी भी तरह की सुरक्षा जरुरत हो तो संस्था को securityassociationofindia@hotmail.com पर मेल करें. एसोसिएशन देश भर में कहीं भी और कभी भी बेहतर सुरक्षा बंदोबस्त उपलब्ध कराने में आपको नि:शुल्क परामर्श व उचित मदद देगी.

Post a comment

 
Top