0

मुंबई : महामारी के कारण दुनियाभर में आर्थिक बदलाव देखे जा रहे हैं।इसके परिणामस्वरूप हाल ही में बाजार में कुछ बड़े बदलाव हुए हैं। वैक्सीन ट्रेल्स आशावादी नहीं हैं, और अभी भी बाजार में बहुत सारी अनिश्चितताएं मौजूद हैं। एंजल ब्रोकिंग लिमिटेड के रिसर्च नॉन एग्री कमोडिटी एंड करेंसी एवीपी प्रथमेश माल्या ने बताया के गुरुवार को सोने की कीमत 1.32 प्रतिशत बढ़कर 1953.5 डॉलर प्रति औंस हो गई। अमेरिकी फेडरल रिजर्व के चेयरमैन जेरोम पॉवेल ने रोजगार स्थितियों को सुधारने और मुद्रास्फीति कम करने के लिए नई रणनीति लाई है। इस रणनीति ने बाजार की भावनाओं का समर्थन किया और बाजार में सोने की कीमत में और कमी आई।
सोने की कीमतों में रिकवरी के लिए लगने वाला समय लंबा होने वाला है। इससे बाजार में प्रोत्साहन योजनाओं को आगे बढ़ाने में मदद मिलेगी। इस तरह, पीली धातु से होने वाले नुकसान को कम किया जा सकता है। कोरोना राहत बिल को लेकर अमेरिकी संसद में गतिरोध की स्थिति अभी भी सोने को नुकसान पहुंचा रही है। अमेरिकी ट्रेजरी सेक्रेटरी स्टीवन मेनुचिन ने बातचीत में देरी को लेकर प्रतिनिधि पैनल के समक्ष पेश होने वाले हैं।
कच्चा तेल: कच्चे तेल में 0.09% की तेजी आई और यह 43.4 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुआ। लोग महामारी में होने वाले उत्पादन नुकसान की रिकवरी की उम्मीद कर रहे हैं। इससे मांग बढ़ी और कच्चे तेल की कीमतों में वृद्धि हुई। हरिकेन मार्को और ट्रॉपिकल स्टॉर्म लॉरा दोनों के हमले से कच्चे तेल का उत्पादन प्रति दिन 1.56 मिलियन बैरल या मैक्सिको की खाड़ी में उत्पादन का 84% घट गया। हालांकि, क्षमता को कोई और नुकसान नहीं हुआ है और इससे कच्चे तेल की कीमतों में तेजी से सुधार होगा। जैसे-जैसे कोविड का प्रभाव बढ़ रहा है, और फिर से संक्रमित मामलों की संख्या बढ़ रही है, और कच्चे तेल की मांग में कमी आई है।
अमेरिकी क्रूड इन्वेंट्रीज पिछले सप्ताह लगभग 4.7 मिलियन बैरल तक चली गई थी, जबकि अपेक्षित संख्या 3.7 मिलियन बैरल थी। घटते इन्वेंट्री स्तर कच्चे तेल के नुकसान को सीमित करने में मदद कर रहे हैं।
बेस मेटल्स: इस गुरुवार, एलएमई पर बेस मेटल्स बढ़त के साथ बंद हुए। और जिंक को सबसे अधिक लाभ मिला। अमेरिका और चीन के बीच सैन्य तनाव बढ़ता रहा और इससे ट्रेड डील को लेकर उम्मीदों पर असर पड़ा। चीन और अमेरिका के बीच संबंध बिगड़ते रहे। इससे ग्लोबल आर्थिक स्थितियों में और भी अधिक बाधा आई। आगे कोई भी मुद्दा धातु बाजार को प्रभावित कर सकता है क्योंकि ये दोनों राष्ट्र धातुओं के सबसे बड़े उपभोक्ताओं में हैं।
चीन की फैक्ट्रियों में हुई वृद्धि ने वहां की धातुओं को कुछ सहायता की। चीन के स्टेनलेस-स्टील उत्पादन में वृद्धि ने जिंक और निकल की कीमतों को बढ़ाने में मदद की।
कॉपर: एलएमई कॉपर गुरुवार को उच्च स्तर पर 6594 डॉलर प्रति टन पर बंद हुआ। कॉपर इन्वेंट्री में भारी निकासी देखी जा रही है, और इन उम्मीदों ने लाल धातु की कीमत का समर्थन किया है। अमेरिकी डॉलर के कमजोर होने से धातु की कीमतों को और अधिक समर्थन मिलेगा। हालांकि, यू.एस.- चीन के बीच संबंधों की चिंता वैश्विक बाजार में अधिक चिंता पैदा कर रही है।

Post a comment

 
Top