0

रोनी स्क्रूवाला और सिद्धार्थ रॉय कपूर ने अपनी आगामी फिल्म की घोषणा की है। एयरलिफ्ट फिल्म को डायरेक्ट कर चुके राजा कृष्णा मेनन इस फिल्म का निर्देशन करेंगे। इस फिल्म में अभिनेता ईशान खट्टर मुख्य भूमिका में नज़र आएंगे। पहली बार ईशान एक्शन से भरपूर वार फ़िल्म में नज़र आएंगे, जहां फिल्म के एक महत्वपूर्ण मोड़ पर एक शानदार आर्मी टैंक पेश की गई है।
इस बहादुरी से भरे टैंक बेटल फिल्म में ईशान 45 वें कैवलरी टैंक स्क्वाड्रन युद्ध के दिग्गज ब्रिगेडियर बलराम सिंह मेहता की भूमिका में नजर आएंगे, जिन्होंने अपने भाई-बहनों के साथ मिलकर 1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के समय पूर्वी मोर्चे पर लड़ाई लड़ी थी। गरीबपुर में हुई इस लड़ाई के दौरान पहली बार घुसकर दुश्मन के देश में प्रवेश किया इस प्रकार उन्होंने पड़ोसी देश बांग्लादेश स्वतंत्र किया।
उनके पिप्पा में, बलराम और उनके टैंक स्क्वाड्रन ने गरीबपुर के लिए 48 घंटे की लड़ाई लड़ी, जिसने भारत के पक्ष में आसन्न युद्ध के परिणाम की नींव रखी और प्रभावित किया। यह फिल्म हमारे देश के साथ-साथ मेहता के विकास की पराकाष्ठा को भी चित्रित करती है क्योंकि दोनों ने ही आगे बढ़कर दूसरे देश की मुक्ति लिए खुद को एक युद्ध में साबित किया था। इस लड़ाई ने भारत की जीत का मार्ग प्रशस्त किया क्योंकि कप्तान मेहता इस अवसर पर उठे और अपने सैनिकों को जीत की ओर ले गए।
 युद्ध पर आधारित इस फिल्म में रोमांचकारी और शूरवीर
 मिलिट्री सैन्य बल की दोस्ती के साथ ही साथ कई जबरदस्त एक्शन दृश्य भी होंगे जो निश्चित रूप से दर्शकों को लुभायेंगे, यह कहानी युद्ध के दौरान विस्थापित हुए एक ऐसे परिवार की मार्मिकता की पड़ताल करती है, जो आज भी हमारी दुनिया को दहला रहा है। फिलहाल मेहता के बड़े भाई और छोटी बहन की प्रमुख भूमिकाएँ, जिन्होंने युद्ध के दौरान भी बहादुरी से काम लिया, अभी उनके लिए कलाकारों की कास्टिंग प्रक्रिया में ही है।
निर्माता सिद्धार्थ रॉय कपूर का मानना है कि 1971 में हुए भारत-पाकिस्तान युद्ध की व्याख्या बड़े पैमाने पर की गई है, पर गरिबपुर में गुप्तरूप से किए युद्ध के बारे में बहुत कम लोगों को जानकारी है, जिसने भारत की अंतिम जीत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। यह वह युद्ध है जिसे अक्सर इतिहास में एक ऐसे युद्ध के रूप में चित्रित किया गया है जो मानव जीवन को बचाने और एक राष्ट्र को मुक्त करने के लिए लड़ा गया था। ब्रिगेडियर मेहता की कहानी ने हमें आकर्षित किया और हमें पता है ईशान इस किरदार के लिए बहुत सटीक चॉइस हैं। ईशान की युवा एनर्जी ब्रिगेडियर मेहता की वीरता और साहस के सराहना करता है। ईशान का अभिनय इस विषय के प्रति राजा की संवेदनशीलता, इस युद्ध के हर पहलू का ज्ञान और बड़े पैमाने पर आडंबर से भरा एक्शन ड्रामा भी शामिल है, जो हमें एक कहानी को स्क्रीन पर लाने  के लिए मजबूर करता है।
अभिनेता ईशान खट्टर का मानना है कि मैं इस तरह की महत्वपूर्ण फिल्म का हिस्सा बनने के लिए बेहद उत्साहित हूं। सभ्य और बहादुर टैंक कमांडर कैप्टन बलराम मेहता की भूमिका निभाना मेरे लिए सौभाग्य की बात है। रोंनी सर, सिद्धार्थ सर और राजा सर द्वारा मुझपर दिखाए गए विश्वास से मैं बहुत ही सम्मानित महसूस कर रहा हूं, और मैं पिप्पा के रोमांचक अनुभव का बेसब्री से इंतज़ार कर रहा हूं।
 निर्माता रॉनी स्क्रूवाला का मानना है कि यह फिल्म सिर्फ एक महान देशभक्ति की लड़ाई के बारे में नहीं है। कैप्टन बलराम मेहता के नेतृत्व में 45 वें स्क्वाड्रन की इस कहानी आज की पीढ़ी को बताना ज़रूरी है। यह फिल्म न केवल भारत की वीरता को दर्शाात है बल्कि 1971 के दौरान बांग्लादेश के साथ हुए गठबंधन में हमारे द्वारा अपनाई गई रणनीति को भी दर्शाता है। मेहता परिवार ने इस संघर्ष की आंतरिक और बाहरी क्रियाशीलता को अपनी आंखों से देखा है।
 निर्देशक राजा कृष्णा मेनन ने कहा, "पिप्पा एक वॉर फिल्म है लेकिन ये भावुक कर देने वाली फिल्म भी है जो प्रेम और मानवता की जीत का जश्न मनाती है। एक फिल्ममेकर होने के नाते इस बात को लेकर भी उत्साहित हूं कि ये बेहद नई टैंक वार एक्शन फिल्म है लेकिन अपनी जिंदगी की तमाम परिस्थितियों के बावजूद जिस तरह से इसमें युवा और बहादुर ब्रिगेडियर मेहता ने अपनी शौर्य और देशभक्ति को पेश किया है, इसके चलते मैं कहानी से और भी जुड़ सका, जब सिद्धार्थ ने मुझे ये कहानी सुनाई। मुझे बेहद खुशी है कि सिद्धार्थ और रोंनी ने मेरे दृष्टिकोण पर अपना विश्वास रखा और मुझे नहीं लगता कि ईशान जैसे प्रतिभाशाली कलाकार के अलावा कोई और एक्टर इस रोल के साथ न्याय कर पाता। ये बेहद खास होगी।
आरएसवीपी और रॉय कपूर फिल्म्स द्वारा निर्मित 'पिप्पा' अगले साल के अंत में सिनेमाघरों में प्रदर्शित की जाएगी।

Post a comment

 
Top