0

मुंबई। साहित्यिक, सामाजिक व सांस्कृतिक संस्था काव्यसृजन की 88 वीं व चौथी ऑनलाइन काव्य-गोष्ठी दिनाँक 5 जुलाई 2020 दिन रविवार को श्रीधर मिश्रा की अध्यक्षता व संस्थापक पंडित शिवप्रकाश जौनपुरी के मार्गदर्शन में सम्पन्न हुई। कार्यक्रम का कुशल संचालन संस्था के महासचिव लाल बहादुर यादव कमल ने किया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि मशहूर गीत व ग़ज़लकार प्रमोद कुमार कुश तनहा थे। संस्था के संस्थापक पं. शिवप्रकाश जौनपुरी की पहल पर काव्यगोष्ठी शुरू की गई।
इस ऑनलाइन काव्यगोष्ठी में काव्यपाठ करने वाले कवियों में पं. शिवप्रकाश जौनपुरी, कोषाध्यक्ष बीरेन्द्र कुमार यादव, संगीता पाण्डेय, डॉ वर्षा सिंह, इंदू मिश्रा, सुमन तिवारी, मंजू गुप्ता, पूनम तिवारी वनांचली, सुमित्रा गुप्ता सखी,
नीलिमा दूबे पाण्डेय, रजनी साहू, नीतू पाण्डेय क्रांति, दिवाकर वैसम्पायन, हसरत हुसैन जौनपुरी, सौरभ दत्ता जयंत, रजनीश प्रजापति, विजय कुमार अग्रवाल, मिल्टन राय, प्रेमनरायण शर्मा, उप सचिव अवधेश यदुवंशी, प्रमोद कुमार कुश तनहा व पंकज तिवारी (दिल्ली) आदि रहे।
अध्यक्षीय उदबोधन में श्रीधर मिश्र ने आशीर्वाद के रूप में दो शब्द कहकर हम सबका उत्साहवर्धन किया और अपना स्नेहाशीष प्रदान किया। कार्यक्रम के अध्यक्ष ने सभी कवियों की रचनाओं की समीक्षा भी की।
पं. शिवप्रकाश जौनपुरी ने काव्यसृजन परिवार की सफलता के लिए अपने परिवार के सभी सदस्यों के समर्पण व कर्तव्यनिष्ठा के प्रति अपनी कृतज्ञता ज्ञापित करते हुए सभी के प्रति आभार व्यक्त किया।
अंत में संस्था के उप कोषाध्यक्ष महेश गुप्त जौनपुरी ने कार्यक्रम में आये हुए सभी अतिथियों, कवियों,श्रोताओं व सहयोगियों के प्रति हृदय से आभार ज्ञापित किया।
कार्यक्रम के अवसान के अवसर पर संस्था की तरफ से गलवान घाटी व कानपुर हमले में शहीद हुए जवानों को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की गई तथा सम्पूर्ण विश्व से कोरोना नामक महामारी की समाप्ति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की गई। अंत में राष्ट्रगान के साथ काव्यसृजन की ऑनलाइन काव्य गोष्ठी सम्पन्न हुई। 

Post a comment

 
Top