0

मुंबई। पिछले हफ्ते डब्ल्यूटीआई क्रूड की कीमतें अमेरिकी क्रूड इन्वेंट्री लेवल और ओपेक देशों द्वारा उत्पादन में की गई आक्रामक कटौती के बीच लगभग 6 प्रतिशत बढ़ी। प्रथमेश माल्या (एवीपी- रिसर्च नॉन-एग्री कमोडिटी एंड करेंसी, एंजल ब्रोकिंग लिमिटेड) ने बताया कि एनर्जी इंफर्मेशन एडमिनिस्ट्रेशन के अनुसार, अमेरिकी क्रूड इन्वेंट्री लेवल 26 जून 2010 को समाप्त सप्ताह में 7.2 मिलियन यूनिट तक गिर गया। हालांकि, लीबिया क्रूड उत्पादन में संभावित वृद्धि के बीच लगातार बढ़ते कोरोनावायरस मामलों ने कीमतों में वृद्धि को सीमित कर दिया। यह दुनिया के कई हिस्सों में हवाई यातायात पर प्रतिबंधों की वजह से था।
पिछले हफ्ते स्पॉट गोल्ड की कीमतों में 0.2 प्रतिशत की मामूली वृद्धि हुई, क्योंकि महामारी को लेकर अनिश्चितताओं ने अर्थव्यवस्था में रिकवरी की संभावित अवधि को लंबा कर दिया है और इससे चिंता बढ़ गई है। इस फेक्टर ने सेफ-हेवन संपत्ति गोल्ड की अपील को बढ़ाया। हालांकि, दुनिया की दो सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं से आए सकारात्मक आर्थिक आंकड़ों ने वाणिज्यिक गतिविधियों में सुधार और व्यवसायों फिर से खोलने के संकेत दिए। इसने पीली धातु की लागत में वृद्धि को सीमित कर दिया।
लंदन मेटल एक्सचेंज (एलएमई) पर बेस मेटल की कीमतें मिश्रित रही, जिसमें सबसे ज्यादा लाभ निकल को मिला। अमेरिका और चीन ने जून के महीने में औद्योगिक गतिविधियों में काफी सुधार किया, जिसने बेस मेटल्स की कीमतों को बढ़ा दिया।
एलएमई कॉपर 1.0 प्रतिशत अधिक पर बंद हुआ क्योंकि शीर्ष धातु उपभोक्ता चीन की मांग में वृद्धि हुई और चिली व पेरू की खानों में आपूर्ति का गंभीर संकट था।

Post a comment

 
Top