0
 



(फोटोग्राफर - राजेश कुमार कोरिल)
मुम्बई। कोरोना वायरस ने पूरी दुनियां में इंसानों का जीना मुश्किल कर दिया है. भारत देश के मुंबई में इस कोरोना ने काफ़ी संकट बढ़ा दिया है, जो रुकने का नाम नहीं ले रहा है, वैसे भी पिछले तीन माह की तालाबंदी से लोग इतने हैरान परेशान हो चुके है कि उनको आगे का जीवन अब बहुत ही मुश्किल लग रहा है. ऐसे में भी कई लोग भूखमरी से ही काफी गहरे संकट में है, जिससे वे अपने ही जान को खतरे में डालने की काफ़ी संभावना भी बढ़ती नजर आ रही है. जिनमें अक्सर लोगो को देश विदेश की खबरों से अखबार और टी वी के ज़रिए रूबरू कराने वाले पीड़ित पत्रकारों एवम् छाया चित्रकारो का भी गहरा समावेश है. मुम्बई शहर में भी हजारों की तादात में मीडिया कर्मी है जो मुंबई के साथ साथ नवी मुंबई, थाने एवम् पालघर जिला तक बसे हुए है , जिनकी माली हालत हर तरह से प्रभावित हैं.
ऐसे ही कुछ गिने चुने सैकड़ों मीडिया कर्मियों को पत्रकार, समाजसेवक एवम् उद्यमी के. रवि ( दादा ) ने अपनी इंडिया मीडिया लिंक अंड इवेंट्स मैनेजमेंट के ज़रिए इस तालाबंदी के शुरुआत से लेकर आज तक प्रत्यक्ष अप्रत्यक्ष रूप से कई पत्रकारों को राशन किट के साथ साथ कुछ स्वागत मूल्य भी भेंट स्वरूप दिए.
इन पीड़ित मीडिया कर्मीयो में मशहूर चैनलों के
पत्रकारो, छविकारो के साथ साथ पालिका, मंत्रालय, पत्रकार संघ और कुछ यूट्यूब के न्यूज कर्मियों को भी के. रवि ( दादा ) के जरिए मदद दी गई जिसे पाकर कुछ मीडिया पीड़ितो ने कहा के वैसे तो दादा अक्सर हमारी किसी ना किसी तरह से मदद करते ही रहे है, पर अब की बार यह मदत हमारे लिए कोरोना को लेकर एक यादगार जरूरत
मदद साबित हुई.
इंडिया मीडिया लिंक अंड इवेंट्स मैनेजमेंट के ज़रिए के. रवि (दादा) ने इन बीस सालो में कई यादगार सामाजिक कार्यों को अंजाम दिया है जो अपने आप में अनोखे साबित हुए हैं. मसलन इवेंट को उन्होंने हर कदम पर सामाजिक चोला पहनाया है. पीड़ित मीडिया कर्मियों के लिए की गई मदद करने में नंदू गमरे, राहुल रवि, अतुल चौभे, डॉ . रतन पवार, दिनेश सोलंकी, जॉयरोम फर्नांडिस, दीपक गमरे, चंद्रन कमलराज का सहयोग रहा.
राशन वितरण कार्यक्रम में मीडियाकर्मियों ने के .रवि ( दादा )  की तारीफ करते हुए कहा कि वे पत्रकार होते हुए भी दूसरे जरूरतमंद मीडियाकर्मियों के लिए अपना हाथ आगे बढ़ाते रहते है. उनका यह सेवाभाव सराहनीय व प्रसंशनीय है.

Post a comment

 
Top