0
अपग्रैड ऑनलाइन ब्लेंडेड डिग्री प्रोग्राम्स को सक्षम करने वाला भारत का पहला एडटेक

मुंबई : भारत की सबसे बड़ी ऑनलाइन उच्च शिक्षा कंपनी अपग्रैड ने पूर्वस्नातक शिक्षा क्षेत्र में जामिया हमदर्द के साथ पहली बार प्रवेश किया है। विद्यालयीन शिक्षा पूरी किए हुए छात्र अपग्रैड से बीबीए (बैचलर ऑफ़ बिज़नेस एडमिनिस्ट्रेशन) और बीसीए (बैचलर ऑफ़ कंप्यूटर एप्लीकेशन) यह डिग्रीज ऑनलाइन-ऑफलाइन ब्लेंडेड तरीके से प्राप्त कर सकते हैं। उसके बाद इन्हीं प्रोग्राम्स के लिए एमबीए और एमसीए यह मास्टर्स डिग्रीज भी शुरू की जाएंगी। सरकार द्वारा अनुदानित जामिया हमदर्द यह पिछले हफ्ते में एमएचआरडी ने प्रकाशित किए हुए नेशनल इंस्टीटूशनल रैंकिंग फ्रेमवर्क के अनुसार भारत की सबसे अग्रणी 25 युनिवर्सिटीज में से एक हैं और उन्हें एमएचआरडी से 'इंस्टीटूशन ऑफ़ एमिनेंस' (आईओई) का दर्जा प्रदान किए जाने के लिए आशय-पत्र दिया गया है।
ऑफलाइन बेसकैम्प्स और लाइव क्लासेस के साथ ऑनलाइन डिग्रीज देने वाला भारत का एकमात्र एडटेक अपग्रैड ने ओ. पी. जिंदल ग्लोबल यूनिवर्सिटी (जेजीयू) के साथ भी अपनी साझेदारी की घोषणा की है। इस साझेदारी के तहत कॉर्पोरेट और फायनांशियल लॉ में 1 साल का एलएलएम और 2 सालों का डिजिटल फाइनेंस और बैंकिंग में एमबीए यह दो मास्टर्स प्रोग्राम्स चलाए जाएंगे। क्यूएस वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग 2021 में जेजीयू भारत का पहला निजी विश्वविद्यालय है और इसे एमएचआरडी ने 'इंस्टीटूशन ऑफ़ एमिनेंस' (आईओई) का दर्जा दिया है।
अपग्रैड के एग्जीक्यूटिव चेयरमैन और सह-संस्थापक रॉनी स्क्रूवाला ने बताया, "आज पूरी दुनिया जिस विपदा का सामना कर रही है उसमें नियमित रूप से विकास करते रहना जरुरी है, खास कर शिक्षा क्षेत्र की मजबूती और पहुंच के लिए यह एकमात्र रास्ता है। अपग्रैड में हम बदलती स्थिति के साथ लगातार विकसित होने और अधिक बेहतर शिक्षा सुविधाएं बनाने की गवाही देते हैं। हमारे डिग्री पोर्टफोलियो से शिक्षार्थियों को उनकी शिक्षा को जारी रखने के लिए सक्षम करता है, जिसमें उन्हें ऑफलाइन शिक्षा प्रणाली पर आए हुए कुल संकट के बारे में सोचने की जरुरत नहीं है।
अपग्रैड के सह-संस्थापक और एमडी मयंक कुमार और सह-संस्थापक फाल्गुन कोमपल्ली ने बताया, "शिक्षार्थियों और शिक्षा संस्थानों की वित्तीय विपदाओं को सुलझाने के लिए अपग्रैड में हम त्रिस्तरीय दृष्टिकोण अपना रहे हैं। डिग्री प्रोग्राम्स शुरू करके अपग्रैड नए ग्रेजुएट्स और नौकरीपेशा व्यवसायिकों को अपने घरों में सुरक्षित वातावरण में डिग्री की पूरी पढाई करने के लिए सक्षम करेगा। कॉलेज छात्रों के लिए अपग्रैड में शुल्क सहित प्रोग्राम्स और मुफ्त सर्टिफिकेशन कोर्सेस दिए जा रहे हैं जिससे उन्हें उनके पास उपलब्ध रिक्त समय लाभकारी तरीके से इस्तेमाल करने की सुविधा मिलेगी, क्योंकि आने वाले कुछ महीनों में केवल अव्वल लोगों को ही नौकरियों में लिया जाएगा। ऑफलाइन महाविद्यालयों और विश्वविद्यालयों के लिए हमने अपग्रैड लाइव प्लेटफार्म, एलएमएस (लर्निंग मैनेजमेंट सिस्टम) का पूरा एक्सेस दिया है ताकि वे कुछ भी खर्च न करते हुए पूरी तरह से ऑनलाइन में परिवर्तित हो सकें।  इसके लिए 50 से ज्यादा संस्थान हमारे साथ जुड़े हैं।
देश की वित्त मंत्री सुश्री निर्मला सीतारमण जी ने ऑनलाइन शिक्षा का समर्थन करने के कुछ ही हफ़्तों बाद यह घोषणा की जा रही है। इसके लिए आयोजित पत्रकार परिषद में जामिया हमदर्द यूनिवर्सिटी के वाईस-चांसलर प्रोफ़ेसर (डॉ.) सैयद एहतेशाम हसनैन, ओ पी जिंदल ग्लोबल यूनिवर्सिटी के फौन्डिंग वाईस-चांसलर और जिंदल ग्लोबल लॉ स्कूल के फौन्डिंग डीन प्रोफ़ेसर (डॉ.) सी राज कुमार, आईआईआईटी-बी के निदेशक प्रोफ़ेसर एस सदागोपन और अपग्रैड के तीन सह-संस्थापक उपस्थित थे। उच्च शिक्षा क्षेत्र में 2022 तक 41 मिलियन छात्र दाखिल होने का अनुमान है, इस क्षेत्र में अपग्रैड ने अपने नए उद्यम के लिए 150 करोड़ रुपयों का भारी बजट निश्चित किया है।
आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और मशीन लर्निंग जैसे भविष्य के लिए जरुरी विषयों को सभी के लिए सुलभ बनाने के लिए ऑल इंडिया कौंसिल फॉर टेक्निकल एज्युकेशन (एआईसीटीई) इस एमएचआरडी के उद्यम द्वारा अपग्रैड को चुना गया है। कंपनी के प्रोग्राम्स को राष्ट्रीय कौशल विकास निगम ने मान्यता दी है। साथ ही अपग्रैड का पीजी डिप्लोमा इन डाटा सायंस यह भारत का पहला पीजी डिप्लोमा है जिसे नास्कॉम फ्युचरस्कील्स ने मान्य और अनुशंसित किया है। अपने प्रोग्राम्स पोर्टफोलियो को लगातार विकसित करते हुए विश्विद्यालयों को ऑनलाइन शिक्षा शुरू करने में सक्षम करके और ऑनलाइन शिक्षा को मुख्य धारा बनाते हुए अपग्रैड आगे बढ़ रहा है।

Post a comment

 
Top