0
मुंबई: मार्केट की लॉकडाउन अवधि में विस्तार एवं डोनाल्ड ट्रम्प ने निकट भविष्य में ट्रेड वॉर के नए दौर के संकेत दिए जिससे सोमवार को पूरे एशियाई बाजारों में गिरावट दर्ज की गई। सेंसेक्स और निफ्टी में क्रमशः 5.94% और 5.74% की गिरावट हुई। सबसे अधिक प्रभावित होने वाले क्षेत्रों में बैंक, धातु और ऑटो स्टॉक शामिल थे क्योंकि वे सेशन के दौरान 7% से अधिक गिर गए थे।
 एंजल ब्रोकिंग लिमिटेड के प्रमुख सलाहकार अमर देव सिंह ने बताया कि ऐसे में एकमात्र राहत आज फार्मा और हेल्थकेयर सेक्टर से मिली। निफ्टी फार्मा में इंडेक्स में 10 में से 9 स्टॉक कारोबार खत्म होने के समय हरे रंग में ट्रेड कर रहे थे। ऑरबिंदो फार्मा ने सबसे ज्यादा लाभ कमाया। उसके बाद सिप्ला, अलकेम लैब्स और कैडिला हेल्थ ने क्रमश: 3.77%, 2.47% और 1.93% की बढ़त हासिल की। ट्रेडिंग सत्र के दौरान केवल डिविस लैबोरेटरीज के शेयर गिरे और आज 1.96% कम पर बंद हुए।
बैंकिंग सबसे बुरी तरह प्रभावित सूचकांकों में से एक था। निफ्टी प्राइवेट बैंक, निफ्टी बैंक और एसएंडपी बीएसई बैंक्स क्रमशः 8.6%, 8.32% और 8.25% गिर गए। एनएसई में आईसीआईसीआई बैंक ने 11.07% की गिरावट के साथ नुकसान का नेतृत्व किया, उसके बाद फेडरल बैंक, इंडसइंड बैंक और एक्सिस बैंक क्रमशः 9.73%, 9.63% और 9.46% गिरे। बीएसई में, यस बैंक ने 3.22% की गिरावट के साथ सबसे कम नुकसान का अनुभव किया। अन्य सभी बैंकिंग शेयरों में आज 5% से अधिक की गिरावट आई।
मेटल इंडेक्स में भी निचले स्तर पर कारोबार देखा गया। एनएसई में हिंडाल्को इंडस्ट्रीज, वेदांत और जिंदल स्टील पावर जैसे शेयरों ने ट्रेडिंग सेशन में 10% से अधिक नुकसान दर्ज किया। निफ्टी मेटल में केवल चार शेयरों ने 5% से कम का नुकसान देखा, जिनमें से तीन (वेलस्पन कॉर्प, कोल इंडिया और रत्नमनी मेटल) में गिरावट 4% से 5% की सीमा के भीतर थी, और एमओआईएल 3.63% की बढ़त के साथ बंद हुआ।

Post a comment

 
Top