0
मुंबई : देशव्यापी लॉककडाउन को ध्यान में रखते हुए ट्रक मालिकों को सशक्त करने की दिशा में तेज़ी से बढ़ता हुआ स्टार्टअप 'व्हील्सआई'ने 'ट्रक मालिक सहायता केंद्र' की शुरुआत की है। इस ऑनलाइन पोर्टल का मुख्य मकसद ट्रांसपोर्ट उद्योग की जरूरी खबरें और सरकारी घोषणाएं ट्रक मालिकों व ड्राइवरों तक पहुंचाना है। जैसे ईएमआई से जुड़े मसले, खाने व रहने से जुड़े मसले, फेक न्यूज़ पर लगाम, ट्रांसपोर्ट उद्योग की भलाई के लिए बनाई गई नीतियों के बारे में जागरूकता की कमी इत्यादि का हल दे कर उद्योग जगत की सहायता की जाए।
सड़क पर फंसे ट्रक ड्राइवर और मालिक देश भर में 2000 से ज्यादा जगहों पर निकटतम सरकारी या प्राइवेट खाने व रहने के इंतजाम ढूंढने में भी पोर्टल की मदद ले सकते हैं। इसी के साथ लोकडाउन में सरकार की ओर से अधिकृत निकटतम रिपेयर और रखरखाव की दुकानों का भी पता लगाया जा सकता है। यह पोर्टल पूरी तरह से मुफ्त है और 8 भाषाओं में उपलब्ध है जिसमें अंग्रेज़ी व हिंदी के अलावा कुछ स्थानीय भाषाएं जैसे तेलगु, कन्नड, तमिल, मराठी, बंगाली और पंजाबी शामिल हैं।
 सोनेश जैन, व्हील्सआई के संस्थापकों में से एक जो इस पहल का नेतृत्व भी कर रहे हैं ने बताया के, 'एक तरफ जहां ट्रक मालिकों व ड्राइवरों का व्यापार प्रभावित हुआ है, वहीं दूसरी तरफ ट्रांसपोर्ट उद्योग के सहयोग के लिए सरकार की ओर से की गई कोशिशों को ले कर बड़े पैमाने पर जागरूकता की कमी है। इसलिए, हमने इस तरह की तमाम जानकारी और संसाधनों को एक जगह इक्कट्ठा किया और ट्रक मालिकों व ड्राइवरों, जो कि इस महामारी में सबसे ज्यादा प्रभावित होने वाले लोगों में से हैं, की मदद के लिए एक सहायता केंद्र शुरू किया।' 

Post a comment

 
Top