0





नवी मुम्बई - पिछले दिनों अखिल भारतीय अग्निशिखा मंच का अंतराष्ट्रीय महिला दिवस के उपलक्ष्य में अग्निशिखा गौरव सम्मान का आयोजन अलका पांडेय के कोपरखैरने स्थित निवास पर सफलतापूर्वक किया गया। ज्ञात हो कि कोरोना की महामारी के कारण शिकारा सभागृह में पूर्व नियोजित कार्यक्रम सरकारी आदेश के चलते रद्द करना पड़ा। गौरव सम्मान के लिए भारत वर्ष के हर प्रांत से महिलाओं का चयन किया गया था। सम्मान समारोह में कुल चालीस महिलाओं सहित आठ पुरुषों का सम्मान प्रदान किया गया।
मंच अध्यक्ष अलका पाण्डेय ने बताया कि कोरोना की महामारी के बावजूद लोग कष्ट उठाकर भी देश के कोने कोने से आये। विशेष रूप से महिलाओं ने आकर नारी शक्ती को दिखा दिया।
कार्यक्रम की अध्यक्षता कानपुर से पधारे वरिष्ठ साहित्यकार श्रीहरि वाणी ने की वहीं कार्यक्रम की मुख्य अतिथि बेंगलुरु से पधारी कवयित्री एवं आलोचक डॉ ऊषारानी राव (साहित्यकार) थी। साथ ही विशिष्ठ अतिथि के रूप में शिव कुमार शर्मा (पूर्व आयकर निदेशक एवं साहित्यकार), अभिलाष अवस्थी (वरिष्ठ पत्रकार), पवन तिवारी (युवा साहित्यकार) एवं वरिष्ठ साहित्यकार अशोक तिवारी उपस्थित रहे। कार्यक्रम का सुंदर संचालन कुमार जैन ने किया।
प्रसिद्ध साहित्यकारों की गरिमामय उपस्थिति में झारखंड से आई अंकिता सिन्हा को अग्निशिखा अरुणोदय सम्मान,
जूहु मुम्बई की प्रमिला हिंगोरानी 75 वर्षीय धावक को अग्निशिखा गरुड रथ प्रतिभा सम्मान, दिल्ली की मोहनी चतुर्वेदी को अग्निशिखा गार्गी सम्मान, बेंगलूरू की डॉ. ऊषा रानी राव को अग्निशिखा साहित्य गौरव सम्मान, लखनऊ की अलका अस्थाना को अग्निशिखा अरुणोदय प्रतिभा सम्मान, उत्तर प्रदेश की देविदीन अविनाशी को अग्निशिखा छंद सारथी सम्मान, इंदौर की रश्मि तिवारी को अग्निशिखा अरुणोदय सम्मान, छत्तीसगढ़ की अंजली तिवारी को अग्निशिखा नारी गौरव सम्मान, अहमदाबाद से पधारे अशोक तिवारी को अग्निशिखा साहित्य गौरव सम्मान, कलवा के विनय शर्मा दीप को अग्निशिखा छंद सारथी सम्मान, भायंदर की रंजना चौबे को अग्निशिखा अरुणोदय सम्मान, रायपुर छत्तीसगढ़ की नीरजा ठाकुर को अग्निशिखा अरुणोदय सम्मान, मीरा रोड के डॉ जमील अहमद शाद को अग्निशिखा शब्दसाधना सम्मान, लोखंडवाला से आई ख़ुशबू कमल को अग्निशिखा कला गौरव सम्मान, सानपाडा के कुमार जैन को अग्निशिखा शब्दसाधक सम्मान, मीना शिंदे को अग्निशिखा अरुणोदय सम्मान, नेरुल की देविका मिश्रा को अग्निशिखा अरुणोदय सम्मान, घनसोली की सुप्रिया चौहान को अग्निशिखा गार्गी सम्मान, एरोली की गौरी नंदी को अग्निशिखा गार्गी सम्मान प्राप्त हुआ।
उसी अवसर पर 75 वर्षीय प्रमिला हिंगोरानी ने डांस भी किया तथा अनेक महिलाओं ने अपने वक्तव्य दिये। एक्ट्रेस ख़ुशबू कमल मास्क पहनकर आई और करोना से सावधान रहने की सलाह दी।
मंच की अध्यक्ष अलका पाण्डेय ने कहा महिलाओं को दो मोर्चे सम्भालने पड़ते हैं, घर की जवाबदारी व नौकरी की जद्दोजहद, सबकुछ सम्भालते हुये वह मेहनत कर अपना मुक़ाम बनाती हैं। उनकी मेहनत का और प्रतिभा का सम्मान होना ही चाहिए। समाज भी जाने कि महिला कहाँ कहाँ क्या क्या कर रही है ?
अलका पांडेय ने आगे बताया कि मेरे पास कुछ 357 आवेदन आये थे। उनमें से हमारे निर्णायक अश्विन पाण्डेय, डॉ. अनामिका अवस्थी व डॉ. अंजना बाजपेई ने 45 लोगों को चुना।
मैं सबको धन्यवाद देती हूँ एवं उज्जल भविष्य की शुभकामनाएँ देती हूँ।
इस समारोह में मुकेश कुमार जैन, कल्पेश यादव, पवन तिवारी, अश्विन पाण्डेय, नंदलाल थापर, विश्वम्भर दयालु तिवारी, चंद्रिका व्यास, प्रीतम कुमार त्यागी ने शानदार कविता पाठ किया।

Post a comment

 
Top