1




साहित्यिक, सामाजिक व सांस्कृतिक संस्था काव्यसृजन का होली स्नेह-मिलन व सम्मान समारोह दिनांक 15 मार्च 2020 दिन रविवार को कमलेश पाण्डेय मेमोरियल स्कूल 90 फीट रोड साकीनाका, मुम्बई में सम्पन्न हुआ। इस होली स्नेह-मिलन व सम्मान समारोह कार्यक्रम की अध्यक्षता साहित्यकार श्रीहरि वाणी ने की। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि भोपाल से पधारे साहित्यकार मुकेश कबीर थे। सभी अतिथियों ने मिलकर सरस्वती पूजन व दीप प्रज्वलन कर कार्यक्रम की शुरुआत की।
  प्रथम सत्र के कार्यक्रम का शुभारंभ संस्थापक शिवप्रकाश जौनपुरी के द्वारा सरस्वती वंदना "विनती करूँ तोंसे माई शारदा, मंदिर में तोहरे आई" गीत से हुआ। कार्यक्रम का कुशल संचालन संस्था के कार्याध्यक्ष प्रो.अंजनी कुमार द्विवेदी ने किया। काव्यपाठ करने वाले कवियों में राजेन्द्र प्रसाद पाण्डेय, सौरभ दत्ता, हौंसिला अन्वेषी, मुकेश कबीर, अरुण मिश्र अनुरागी, आशीष राज, रीतेश गौड़, सुरेश सरोज, श्रीनाथ शर्मा, अवधेश यदुवंशी, अनिल राही, एड. राजीव मिश्रा, प्रज्ञा राय, रमेश श्रीवास्तव, श्रीराम शर्मा, महेश गुप्ता जौनपुरी, रामस्वरूप साहू, अभिलाज, इंदू मिश्रा, सुमन तिवारी, गायत्री साहू, पूनम खत्री, लालबहादुर यादव 'कमल', हीरालाल यादव, शिवप्रकाश जौनपुरी, संचालक- अंजनी कुमार द्विवेदी, बीरेन्द्र कुमार यादव , राजेश दुबे 'अल्हड़ असरदार, आर.जे. आरती सैया, स्नेहल यादव, कोमल यादव, राजेश राज, संदीप प्रजापति, श्रीधर मिश्रा, ज़ाकिर हुसैन 'रहबर', रेशमा शेख, नताशा गिरी, संगीता पाण्डेय, फूलचंद यादव, लालमणि यादव श्याम अचल प्रियात्मीय आदि प्रमुख रहे। होली गीत, फगुला चउताल से सराबोर आयोजन में सभी उपस्थित श्रोतागण खूब झूमे व आनंदित हुए।
 कार्यक्रम के दूसरे सत्र में काव्यसृजन के सम्मान मूर्तियों को सम्मानित किया गया। इस सत्र का संचालन शिवप्रकाश जौनपुरी ने किया जिसके तहत हौंसिला अन्वेषी को 'काव्यसृजन रत्नाकर सम्मान', श्रीनाथ शर्मा को 'साहित्य-रत्न समान', अल्हड़  असरदार को 'युवा साहित्य रत्न सम्मान', 'महिला साहित्य रत्न' से सुमन तिवारी सम्मानित हुई, 'बाल साहित्य-रत्न' कृष्णा तिवारी और नीतू पाण्डेय क्रांति को 'ललित साहित्य रत्न' प्रदान किया गया। कवयित्री और पत्रकार गायत्री साहू को 'साहित्य श्री रत्न', अरुण अनुरागी को 'अमर ज्योति सम्मान', स्व.मूलचंद निहलानी को 'साहित्य सेवी सम्मान'(मरणोपरांत), धीरज पाण्डेय को 'भारत-भारती सम्मान', सुरेंद्र मिश्रा को 'समाज रत्न सम्मान', पूरनमल यादव को 'सेवाभावी सम्मान' से विभूषित किया गया।
 उपरोक्त सम्मानित विभूतियों और अतिथियों को स्मृति चिह्न, काव्यसृजन परिवार का दुपट्टा तुलसी का पौधा, कलम आदि देकर काव्यसृजन परिवार के सभी पदाधिकारियों ने मिलकर सम्मानित किया। कार्यक्रम में संस्था के संचालक मिथिलेश पाण्डेय का भी स्वागत व सम्मान किया गया। अपने स्वागत व्याख्यान में हौसिला अन्वेषी  ने संस्था के प्रति आभार व्यक्त करते हुए सभी के प्रति धन्यवाद व कृतज्ञता ज्ञापित की तथा परिवार को बधाई व साधुवाद दिया। अपने अध्यक्षीय भाषण में श्रीहरि वाणी ने एक सफल कार्यक्रम व होली स्नेह मिलन व सम्मान समारोह के आयोजन के लिए काव्यसृजन परिवार को बधाई दी और सभी कवियों के रचनाओं की समीक्षा की। श्रीहरि वाणी ने काव्यसृजन संस्था को हृदय से धन्यवाद देते हुए कहा कि मुझे इस परिवार में आने पर हरदम ही अपनापन व बहुत ही स्नेह मिलता रहा है। वे कार्यक्रम की सफलता पर अभिभूत व प्रसन्न थे। हौसिला प्रसाद अन्वेषी, अनुरागी, मुकेश कबीर, सुरेंद्र मिश्रा और मिथिलेश पाण्डेय ने भी आशीर्वचन के रूप में दो शब्द कहे। शिवप्रकाश जौनपुरी ने काव्यसृजन परिवार द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम के सफल आयोजन के लिए अपने परिवार के सभी सदस्यों व पदाधिकारियों के प्रति अपनी कृतज्ञता ज्ञापित करते हुए सभी को बहुत-बहुत धन्यवाद व बधाई दी। अंत में काव्यसृजन परिवार के महासचिव कमल ने कार्यक्रम में आये हुए सभी अतिथियों, कवियों, श्रोताओं व सहयोगियों के प्रति हृदय से आभार प्रकट और ज्ञापित किया।
कार्यक्रम के समापन सत्र में सभी लोगों ने एक दूसरे को अबीर- गुलाल लगाकर गले मिलकर होली की हार्दिक शुभकामनाएं और बधाइयाँ दी। इस तरह से काव्यसृजन के एक सुखद व सफल आयोजन के साथ होली स्नेह मिलन का यह सुंदर कार्यक्रम संपन्न हुआ। 

Post a comment

  1. यह संस्था साहित्य सेवा का उत्कृष्ट कार्य कर रही है। उत्तरोत्तर उन्नति के लिये शुभकामनाएं।

    ReplyDelete

 
Top