0

तीन दशक तक, 500 से अधिक फिल्मों में शानदार अभिनय के बाद एक कुशल कलाकार और मोटिवेशनल स्पीकर के तौर पर अनुपम खेर की यात्रा किसी प्रेरणा से कम नहीं है।
शिमला में एक निम्न मध्यम वर्गीय परिवार से निकलकर, विश्व स्तर पर सबसे बहुमुखी और प्रशंसित अभिनेताओं में से एक बनने के बाद, अनुपम खेर ने निश्चित रूप से अपने कई उपलब्धियों और मान्यता के साथ एक अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपने देश को गौरवान्वित किया है।
प्रतिष्ठित अभिनेता अनुपम खेर की यात्रा वास्तव में कई लोगों के लिए एक प्रेरणा का स्तोत्र रही है जो अभिनेता बनने के सपने देखते हैं। एक तरफ जहां उनकी पहली किताब, 'द बेस्ट थिंग अबाउट यू इज़ यू' उनके जीवन से प्रेरित थी और बुकस्टोर्स में बेस्ट सेलर्स की की लिस्ट में शामिल है वहीँ अब जल्द ही उनकी नयी किताब आने वाली है। उनकी दूसरी किताब जिसका शीर्षक है - 'लेसन्स लाइफ टॉट मी अननोइंगली', जल्द ही संयुक्त राज्य अमेरिका में रिलीज़ होने की तैयारी में है।
अनुपम खेर के करीबी दोस्त और अभिनेता ऋषि कपूर इस किताब को लॉन्च करेंगे।
इस शाम की खास बात ये होगी कि एन बी सी के हिट टीवी सीरीज़ न्यू एम्स्टर्डम की स्टार कास्ट इस किताब के कुछ अंश को पढ़ेगी। इस शो में अनुपम खेर एक भारतीय ऑरिजिन के डॉक्टर विजय कपूर का किरदार निभाते हैं।
इस विशेष मौके को फेसबुक और बाकी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर लाइव स्ट्रीम किया जाएगा| फैंस के साथ हमेशा इमोशनली कनेक्ट रहने वाले अनुपम खेर सोशल मीडिया के ज़रिये उनसे और रीडर्स से बात करेंगे।
एक तरफ उनका पॉपुलर ड्रामा, "कुछ भी हो सकता है" एक विज़ुअल ट्रीट था तो वहीँ उनकी नई किताब उनकी उल्लेखनीय यात्रा के एक और प्रेरक और शानदार चरण के बारे में बात करती है।
किताब के बारे में बात करते हुए, अनुपम खेर कहते हैं, "मैं अपने दोस्त ऋषि कपूर द्वारा अपनी ऑटोबायोग्राफी रिलीज़ करने के लिए रोमांचित हूं क्योंकि वह न सिर्फ एक बेहतरीन अभिनेता हैं, बल्कि रोग से उबरने के इस लड़ाई में साहस और आशा के प्रतीक भी हैं। न्यू एम्स्टर्डम के मेरे दोस्तों को इस कार्यक्रम में भाग लेने और शाम में एक मनोरंजक आयाम जोड़ने के लिए अत्यंत आभारी हूं। मेरी किताब न्यूयॉर्क के इस कॉन्सुलेट में कॉन्सल जनरल संदीप चक्रवर्ती के अच्छे ऑफिसेस के माध्यम से लॉन्च की जा रही है, ये मैंने कभी सपने में भी नहीं सोचा होगा। शिमला के एक छोटे शहर के लड़के के लिए भारतीय फिल्म इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनाने और फिर, सिटी ऑफ़ ड्रीम्स (न्यूयार्क) में स्वीकार किया जाना ही मेरे जीवन की अधिकतमता साबित करता है .... 'कुछ भी हो सकता है! 

Post a comment

 
Top