0



बच्चे मन के सच्चे होते हैं, उनका पालन पोषणसंस्कार इसके अलावा उनको मॉँ - बाप का प्यार भी जरूरी होता है। किंतु समाज मे ऐसे अनेक बच्चे होते की जिनकी मॉँ नही होती। ऐसे हालात मे उनके डॅडी को किस हालात से गुजरना पडता है, उनका पालन पोषण किस कठिनाईयों से करना पडता है। बिन मॉँ के बच्चों की क्या हालत होती है। इन बच्चों को जीने के लिये किस परिस्थियों का सामना करना पडता है। इन बच्चोंकी मानसिकता को लेकर बनाई हुई “हमारे डॅडी” संदेश जनक फिल्म जल्द ही प्रदर्शित होने वाली है। इस फिल्म का निर्माण सुभाष भैसारे ने किया है तथा लेखन, निर्देशन आर लागीशेट्टी जी का है। हरेश चुग इस फिल्म के लाइन निर्माता है। रेखा लागीशेट्टी असोसिएट निर्देशक है तथा नविन जावधा संगीतकार है। गीतकार है आसिफ खान, गायक उर्वशी वाणी और नविन जी ने गीतों को स्वर दिया है। कॅमेरामन ऋषिकेश और डिओपी धीरज वाघ है।
“हमारे डॅडी” फिल्म की कहानी दो बच्चों के उपर आधारित है। उनकी मॉ बचपन मे गुजर जाती है। बीवी के गम मे बाप शराबी बनता है। मॉँ के गुजर जाने के बाद बच्चों की जिंदगी कैसे गुजरती है ? बाप किस तरह बच्चोंको मॉँ – बाप का प्यार देता है ? बाप बिन मॉँ के बच्चों को कैसे पालन पोषण करके बड़ा करता है इसका जवाब इस फिल्म मे मिल जायेगा। इस फिल्म हर्ष लागीशेट्टीआर्यन लागीशेट्टी, डॉल्सी मोजेसकार्तिक सालेकर, कार्तिक शेट्टी, अनुजा, काव्या सालेकर, विरेन तांबे, आदित्य घाडी, बालाजी, अनुराग सिंग, चंद्रहंस पांडे, स्नेहा पाटील, सुभाष भैसारे, कोमल जैसे कलाकारों के अलावा आर लागीशेट्टी की महत्वपूर्ण भूमिका है।

Post a comment

 
Top