0



लेखक-निर्देशक अमोल द्विवेदी द्वारा निर्देशित पारिवारिक कॉमेडी हिन्दी फिल्म ‘लल्लूराम‘ यूपी दिल्ली ईस्ट पंजाब में अपार सफलता के बाद अब मुम्बई महाराष्ट्र सौराष्ट्र और गुजरात में 4 जनवरी को रिलीज होने जा रही है। इस फ़िल्म का नाम और इसकी कहानी जितनी अलग है इसके निर्देशक अमोल द्विवेदी के डायरेक्टर बनने की कहानी भी उतनी ही फिल्मी है। 
आगरा के रहने वाले अमोल द्विवेदी अपने बिजनस को छोड़ कर १९८९ में मुंबई एक्टर बनने आये थे. जुहू होटल में ७ साल तक काम किया. वहीँ यश चोपड़ा जैसी हस्तियों से मुलाकात हुई. इंडस्ट्री में बतौर एक्टर शुरुआत की थी, डीडी वन के सीरियल 'तलाक क्यों?' में उन्होंने अभिनय किया था. उसी दौरान उन्होने गुरु अतीक शाह से निर्देशन की बारीकियां सीखीं. २००६ में एक फिल्म 'कब क्या हो किसको खबर' बनाई.  २०१५ से लल्लूराम की तयारी शुरू की. हरियाणा के डॉ प्रीतम कुमार से मुलाकात हुई और वह इस फिल्म से फाइनांसर के रूप में जुड़ गए. और इस तरह एंडी एन सैंडी फिल्म इंटरनेशनल एंड एकेडमी और एल पी जी इन्टरटेनमेन्ट के बैनर तले फिल्म 'लल्लूराम' बन गई।
यह फ़िल्म गाँव के एक मंदबुद्धि युवक की कहानी है जिसे लोग लल्लूराम कह कर पुकारते हैं. उसका एक बड़ा भाई और भाभी है. गाँव के मुखिया की बुरी नज़र इसकी भाभी पर पड जाती है. इस बीच लल्लू के भाई का मर्डर हो जाता है और इसके क़त्ल का आरोप लल्लू पर लग जाता है. इसको पागल खाने भेज दिया जाता है वहां पागलों पर पीएचडी कर रही हिरोइन से इसकी मुलाकात होती है. उसके बाद कहानी में मोड़ आता है. आज की ऑडियंस को जैसी मनोरंजक फिल्म चाहिए यह फिल्म उसी तरह की है. 
मोहन जोशी फिल्म के खलनायक हैं जबकि नाना पाटेकर की फिल्म तिरंगा में गेंडा स्वामी का रोल करने वाले अदाकार दीपक शिर्के ने इसमें विधायक का किरदार निभाया है। इस मूवी में न्यूटन लुक्का, मुकेश बहर, समर्थ चतुर्वेदी, रूची तिवारी, भाग्यश्री चैबीसा, पायल सिंह आदी मुख्य भुमिका में हैं।
लल्लूराम' एक्ट्रेस भाग्यश्री ने कई टीवी सीरियल में काम किया है। राजस्थान की रहने वाली भाग्य श्री को कत्थक में काफी दिलचस्पी थी। पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने एक्टिंग शुरू की। भाग्य श्री अनुपम खेर के एक्टिंग स्कूल से एक्टिंग सीख कर इस क्षेत्र में आई हैं।
फि‍ल्म 'लल्लूराम' के लीड एक्टर न्यूटन लुक्का भी आगरा के रहने वाले हैं। न्यूटन लुक्का की यह फिल्म बॉलीवुड में भले ही पहली मूवी है मगर उन्होंने सैकड़ों डीवीडी फिल्मो में एक्टिंग की है. इनकी एक फिल्म 'लुक्का चला ससुराल' बहुत बड़ी हिट हुई थी. पश्चिमी उत्तर प्रदेश में यह एक हिट स्टार हैं. फिल्म की हिरोइन रूचि तिवारी मिस एमपी रह चुकी हैं. फिल्म की कहानी एक रियल इंसिडेंट से इंस्पायर्ड बताई का रही है। 
इस फ़िल्म को यूपी, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा और पंजाब में रिलीज़ किया गया था जिसका अच्छा रेस्पोंस मिला है. और अब मुम्बई महाराष्ट्र सौराष्ट्र और गुजरात में 4 जनवरी को रिलीज होने जा रही है। इसके बाद एमपी, राजस्थान, बिहार और झारखण्ड में भी रिलीज़ करेंगे. 
फ़िल्म के निर्देशक अमोल द्विवेदी का कहना है कि इस फ़िल्म के बाद एक और हिंदी फिल्म बनाने की योजना है. जिसका टाइटल 'अग्र योद्धा' होगा. यह किसानो की ख़ुदकुशी और देश में किसानो की हालत पर बेस्ड है. किसानो की मेहनत के अनुसार उन्हें मुआवजा नहीं मिल पाता है. यह फ़िल्म उस बारे में होगी।यूपी दिल्ली ईस्ट पंजाब में अपार सफलता के बाद अब मुम्बई महाराष्ट्र सौराष्ट्र और गुजरात में 4 जनवरी को रिलीज के लिए तैयार फिल्म ‘लल्लूराम‘

Post a comment

 
Top