0


सरोज इंटरटेनमेंट प्राइवेट लिमिटेड की फ़िल्म 'गेम ऑफ अयोध्या' विवादों में घिरी होने के बावजूद सिनेमाघरों में प्रदर्शित हो गयी । सुनील सिंह निर्देशित इस फ़िल्म में भारत की ऐतिहासिक घटना बाबरी विध्वंस और आडवाणी जी की रथ यात्रा के दौरान की एक युवा पत्रकार की प्रेम कहानी है । यह हिन्दू पत्रकार एक मुस्लिम लड़की से प्रेम  करता है । उन्हीं दिनों वह गलत रिपोर्टिंग की वजह से साम्प्रदायिक तनाव का हिस्सा बन जाता है । फिर वह रथ यात्रा के समय पूरे देश में फैली हिंसा व अराजकता की कवरेज करता है । अखबार को सुर्खियों में रखने के लिए उससे कुछ गलतियां भी हो जाती है । बाद में उम्र बढ़ने के साथ परिपक्वता आने पर पत्रकार को गलती का एहसास होता है और वह माफीनामा के तहत लिब्राहन आयोग के रिपोर्ट , ऐतिहासिक मसलों के जानकार शास्त्री जी , मुस्लिम लाइब्रेरियन और अपने प्रोफेसर ससुर की मदद से आज की युवा पीढ़ी को सच से अवगत कराता है ।
अयोध्या विवाद इतिहास की परिचर्चा और वास्तविक वीडियो फुटेज से फ़िल्म डॉक्यूमेंट्री सी लगती है मगर एक छोटी सी प्रेम कहानी मनोरंजन के साथ संदेश दे जाती है ।
बाकी गेम ऑफ अयोध्या आखिर है क्या यह तो फ़िल्म देखकर ही समझना होगा ।
फ़िल्म में मकरंद देशपांडे , अरुण बक्शी , अभय भार्गव , एहसान खान , रोहन सिंह , पूजा , अमनदीप , सविता बजाज और सुनील सिंह ने अभिनय किया है ।

- संतोष साहू

Post a comment

 
Top