0

चित्रकूट। पाठा के बीहड़ों में दहशत का पर्याय बने दस्यु गैंगों की गैंगवार से इलाके में ख़ौफ़ का सन्नाटा पसर गया है। खासतौर पर सीमाई क्षेत्रों में डकैतों की दहशत सिर चढ़कर बोल रही है। कुख्यात दस्यु गैंगों की गैंगवार की सूचना से ख़ाकी के भी कान खड़े हो गए हैं। और दो राज्यों की पुलिस अपने-अपने इलाकों सहित बीहड़ में बसे गांवों में डकैतों के खिलाफ सर्च ऑपरेशन चला रही है।

एक लाख के इनामी डाकू गौरी यादव ने सड़क निर्माण के कार्य में पांच लाख की फिरौती मांगते हुए ख़ाकी को खुली चुनौती दी है। दस्यु गौरी यादव और बीहड़ के बेताज बादशाह सात लाख के इनामी खूंखार डकैत बबुली कोल के बीच क्षेत्र में वर्चस्व को लेकर दो दिन पहले उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश की सीमा पर स्थित सती अनुसुईया के जंगल में घंटों गोलियां चलीं।

मध्य प्रदेश पुलिस ने डाकुओं की चहलकदमी को देखते हुए जंगल में कांबिंग शुरू कर दी है। वहीं उत्तर प्रदेश पुलिस स्थानीय घटनाओं में ही उलझी नजर आ रही है। इससे डकैतों की लोकेशन ट्रेस करने में ख़ाकी को सफलता नहीं मिल पा रही।

दो गुटों में घंटों हुई फायरिंग

दो महीने बाद बीहड़ में दस्यु गैंगों की आहट सुनाई पड़ी है। बीहड़ में वर्चस्व कायम करने को लेकर काफी दिनों बाद कोई बड़ी मुठभेड़ हुई है। सती अनुसुईया जंगल में दस्यु बबुली और गौरी यादव के बीच घंटों फायरिंग हुई और पूरा जंगल थर्रा उठा। हालांकि पुलिस सीधे इस बात की पुष्टि नहीं करती है, परंतु सीमाई इलाकों में ख़ाकी की मौजूदगी जरूर सब कुछ बयां कर रही है। 

गौरी यादव ने मांगी फिरौती

एक करोड़ की लागत से सती अनुसुईया से लेकर गुप्त गोदावरी तक सड़क निर्माण का कार्य हो रहा है। मजदूरों ने बताया कि रविवार को दस्यु गौरी यादव आधा दर्जन असलहाधारी साथियों के साथ आया और फायरिंग की। इसके बाद धमकी देते हुए पांच लाख की फिरौती मांगने की सूचना ठेकेदार तक पहुंचाने की बात कही। साथ ही फिरौती न मिलने पर अंजाम भुगतने की चेतावनी दी। डकैतों ने ठेकेदार का मोबाइल नम्बर भी मांग था। 
नया गांव थाना प्रभारी (चित्रकूट सतना) सुधांशु त्रिवेदी ने बताया कि ठेकेदार की सूचना पर पुलिस उपलब्ध कराई गई है। आवश्यकता पड़ने पर संख्या बधाई जाएगी। दस्यु गौरी यादव के खिलाफ रंगदारी मांगने की रिपोर्ट दर्ज की गई है।

आपसी वर्चस्व को लेकर गैंगवार

सूत्रों के मुताबिक दस्यु बबुली कोल को दस्यु गौरी यादव द्वारा फिरौती मांगना नागवार गुजरा और वर्चस्व को कायम करने के लिए उसकी गौरी यादव से मुठभेड़ हो गई। दोनों गैंगों के पास अत्याधुनिक हथियार हैं। ऐसे में कोई भी गैंग पीछे हटने को तैयार नहीं। दस्यु बबुली गैंग में इस वक्त लगभग 8 से 9 साथी हैं, तो गौरी यादव के गैंग में भी इतने ही साथी हैं। 

सीमाई इलाकों में दहशत

दस्यु गैंगों की गैंगवार ने सीमाई इलाकों में दहशत कायम कर दी है। सती अनुसुईया और गुप्त गोदावरी से लगे ग्रामीण क्षेत्रों में खौफजदा सन्नाटा पसर गया है। मानिकपुर और मारकुंडी थाना क्षेत्रों के बीहड़ में बसे गांवों में भी दहशत की चहलकदमी जारी है। सतना मध्य प्रदेश के पुलिस अधीक्षक राजेश हिंगड़कर ने बताया कि सर्विलांस से ट्रेस करने पर इलाके में गैंग की मौजूदगी तय मानी जा रही है। गैंगों की टोह में सीमाई क्षेत्रों के टाठीघाट, कटनी, अमरावती, पथरा आदि के जंगलों में कांबिंग की जा रही है। 

Post a comment

 
Top