0
 
"पंचलैट"  फ़निश्वर नाथ रेणू की कहानी पर आधारित है जिसका निर्देशन  प्रेम मोदी ने किया है ।
प्रेम मोदी कहते हैं, "लंबे समय के बाद, सेंसर बोर्ड ने एक पूर्ण रूप से " यू " प्रमाण पत्र के साथ एक फिल्म पारित की है। एक फिल्म जिसमें दादा दादी, माता-पिता, बच्चों और हर कोई एक साथ बैठकर देख सकता है। यह फिल्म जड़ों, संस्कृतियों और हमारे देश के मूल्यों पर प्रतिबिंबित करती हैं। यह हमारे भारतीय साहित्य की शक्तियों को प्रदर्शित करता है और यह साबित करता है कि यह कितना मजबूत है! "
हम शेक्सपियर और विदेशी कहानियों के पीछे क्यों चल रहे हैं? जबकी हमारे अपने राष्ट्र में साहित्य के आसपास घूमते प्रचुर मात्रा में कहानियां हैं और यदि हम उन्हें ध्यान में रखते हैं तो हम इस तरह के शक्तिशाली सिनेमा बनाने में सक्षम होंगे।
गोदान की भूमिका निभाते हुए अमितोश नागपाल ने फिल्म की प्रमुख भूमिका निभाई है और राज कपूर शैली में वे सब कुछ करते दिखाई देते है। वह उनके जैसे कपड़े पहने हुए हैं, उनके ही समान एक टोपी पहनते हैं और यहां तक ​​कि उनके गाने गाते रहते हैं।
इस फिल्म में रंगमंच में सक्रीय बॉलीवुड के कलाकार अमितोश नागपाल, अनुराधा मुखर्जी, यशपाल शर्मा, राजेश शर्मा, रवि झांकल , बृजेन्द्र काला, ललित परिमू, प्रणय नारायण, इकबाल सुल्तान, मालिनी सेन गुप्ता, कल्पना झा और अन्य कलाकार हैं जो महत्वपूर्ण भूमिकाओं में नजर आएंगे ।
यह फिल्म 1954 में एक ग्रामीण पृष्ठभूमि पर आधारित है और एक गांव की कहानी बताती है जहाँ बिजली नहीं है। गांव में आठ समुदाय होते हैं जहां अन्य समुदायों के अपने पेट्रोमैक्स प्रकाश हैं, लेकिन महतो समुदाय के पास यह नहीं है और अंत में वे बहुत प्रयास के बाद एक पंचलैट खरीदते हैं। यह कहानी उस समाज में चल रही पारस्परिक विचार विमर्श और उनके बिच होने वाले आपसी कहा सुनी पर आधारित है, फिल्म के प्रमुख पात्रों के बीच एक रोमांस भी दिखाया गया है। इस छोटे से गांव के लोग अंधेरे में रहते हैं और वे अपने छोटे मोटे दुख-सुख में ही खुश रहते हैं।

पंचलैट, जिसे पेट्रोमॅक्स के रूप में भी जाना जाता है, ग्रामीणों के जीवन का एक अभिन्न हिस्सा है और उनके सम्मान का प्रतीक भी है।
लेकिन ग्रामीण इतने मासूम और अनुभवहीन होते हैं कि उन्हें पता ही नहीं होता कि एक साधारण से दीपक को कैसे जलाया जाता है ? उनके इस ज्ञान की कमी उन्हें एक मजेदार परिस्थिति की ओर ले जाता है। गांव में एकमात्र व्यक्ति गोदान ही होता है जो पेट्रोमॅक्स को प्रकाश में रखना जानता है, जिसे गाँव से निष्कासित किया गया है, जिस पर झूठे आरोप के चलते अपने ही समुदाय से बाहर फेंक दिया गया था। बाकी की कहानी इस बात पर केंद्रित है कि कैसे गलतियों के बावजूद गांव वाले अपने गांव को रौशनमय करते है।
यह फिल्म राकेश कुमार त्रिपाठी द्वारा लिखी गई है और कल्याण सेन बारोट द्वारा रचित गीत है और छायांकन जॉय सुप्रीम ने किया है।
प्रेम मोदी द्वारा निर्देशित "पंचलैट" अनिल सोमानी, प्रमोद गोयल और अनुप टोडी द्वारा संयुक्त रूप से फनटाइम एंटरटेनमेंट के बैनर के तहत फिल्म का निर्माण किया गया है ।
- संतोष साहू

Post a comment

 
Top