0




मुम्बई। हाल ही में बोरिंग रोड, पटना (बिहार) स्थित एस के पुरी में एक बहुत बड़े स्टूडियो साप रिकॉर्ड्स का उद्घाटन किया गया। इसके बारे में स्टूडियो के फाउंडर सौरव अंकित ने बताया कि बिहार में पहले बहुत सारे कामों के लिए उन्हें मुंबई जाना पड़ता था। इसी को ध्यान में रखते हुए अत्याधुनिक मशीनों एवं इंफ्रास्ट्रक्चर के साथ यह स्टूडियो तैयार किया गया है। 

 सौरभ अंकित ने आगे बताया कि पिछले कई सालों तक उन्होंने इस फील्ड में स्ट्रगल किया है और कई सारे जगह और कई सारे नामचीन हस्तियों से प्रशिक्षण प्राप्त किया है। उन्होंने बताया कि पटना उनका होमटाउन होने के बावजूद अच्छे क्वालिटी के ऑडियो, प्रोडक्शन, मिक्सिंग और मास्टरिंग के लिए मुंबई या कोलकाता जाना पड़ता था। उनका एक सपना था कि पटना में एक ऐसा अत्याधुनिक उपकरणों एवं एकॉस्टिक रूम अथवा रिकॉर्डिंग के लिए साउंडप्रूफ स्टूडियो का निर्माण किया जाए ताकि जिन कठिनाइयों का सामना उन्हें अपने प्रोजेक्ट के लिए करना पढ़ता था वह किसी और को ना करना पड़े और उसमें अच्छे श्रेणी का काम अथवा उचित क्वालिटी का रिजल्ट लोगों तक पहुंचाया जा सके। इसके उद्घाटन के अवसर पर बिहार की म्यूजिक इंडस्ट्री, बॉलीवुड एवं टॉलीवुड से बिलॉन्ग करने वाले स्टूडियो देखकर दंग रह गए कि ऐसे स्टूडियो का निर्माण पटना में कैसे हुआ, जिसके उत्तर में सौरव बताते हैं कि इसका निर्माण करने के लिए उन्होंने मुंबई से स्पेशल टेक्निकल टीम को बुलाया था और उन्होंने अपनी मौजूदगी में रहकर स्टूडियो का रूप, डिजाइन अथवा निर्माण करवाया साथ में सौरव बताते हैं कि इस स्टूडियो को खोलने का खास मकसद यह है कि इस स्टूडियो के माध्यम से बिहार में अत्याधुनिक मशीनों से मुंबई जैसा उच्च श्रेणी के ऑडियो उत्पादन किया जा सके और इस क्षेत्र में विकास किया जा सके। सौरभ का मानना है कि इस स्टूडियो के खुलने से यहां के म्यूजिक इंडस्ट्री में बदलाव आने की संपूर्ण संभावना है। इस स्टूडियो में 5.1, 2.1 एवं स्टीरियो मिक्सिंग और मास्टरिंग की सुविधाएं भी उपलब्ध है।

सौरभ पटना के निवासी हैं। इन्होंने अपने शुरुआती शिक्षा पटना से पूरी की और फिर उन्हें संगीत में रुचि जागी जिस वजह से वह मुंबई चले गए। वहां उन्होंने गिटार, पियानो, तबला, ड्रम्स, सेक्सोफोन, ट्रम्पेट, वायलिन और भी कई सारे वाद्य यंत्र बजाना सिखा। उसके बाद उन्होंने 2 साल म्यूजिक प्रोडक्शन, मिक्सिंग और मास्टरिंग शिखा। वह बताते हैं की इन सब में उनके परिवार ने बहुत साथ दिया। हालांकि उनके परिवार में से किसी के क्षेत्र में ना होने के बावजूद उनके पिता ओम प्रकाश चाहते थे कि उनका पुत्र इस क्षेत्र में उनका नाम रोशन करें।

सौरभ का सपना है कि वह हंसजिमर और ए आर रहमान को सौरभ भगवान मानते हैं और उनके साथ काम करने की तमन्ना रखते हैं। सौरभ ने पहले कई सारे फिल्मों में डबिंग, बैकग्राउंड म्यूजिक दिया है। इसके अलावा उन्होंने बहुत सारे गाने भी बनाए हैं। और अब वह अपने म्यूजिक को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पूरी दुनिया को सुनाना चाहते हैं।

Post a comment

 
Top