0

नवी मुंबई। अखिल भारतीय अग्निशिखा मंच हर सप्ताह हिंदी के विस्तार व प्रचार प्रसार के साथ लेखन को दैनिक कार्यों में शामिल करने हेतू सप्ताह के हर दिन नया विषय देकर साहित्यकारों की ऑनलाइन कवि सम्मेलन आयोजित करती है। जिसमें आने वाली रचनाओं की समीक्षा हर दिन अलग अलग साहित्यकार करते हैं। सोमवार को रजनी अग्रवाल जोधपुर, मंगलवार कवि आनंद जैन कटनी, बुधवार को चंदेल साहिब हिमाचल, गुरुवार को नीरजा ठाकुर मुम्बई, शुक्रवार को विष्णु शर्मा हरिहर कोटा से तथा शनिवार को सब आपस में एक दूसरे की समीक्षा करते हैं। रविवार कवि सम्मेलन या विश्राम 

माह को अंत में रचनाओ की संख्या विषय वस्तु शिल्प आदि के  आधार पर प्रशस्ति पत्र देकर प्रोत्साहन दिया जाता है। नवम्बर माह के सर्वश्रेष्ठ रचनाकारों का सम्मान किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि कवि आनंद जैन, समारोह अध्यक्ष रजनी अग्रवाल, विशिष्ठ अतिथि पद्माक्षी शुक्ल, बृज किशोरी त्रिपाठी और आभार व्यक्तकर्ता लीला कृपलानी रहे। 

कार्यक्रम का संचालन अलका पाण्डेय एवं चंदेल साहिब ने किया।

गणेश वंदना चंदेल साहिब ने व सरस्वती वंदना अलका पाण्डेय ने  कर कार्यक्रम की शुरुवात की 

सभी रचनाकारो ने रचना सुनाकर सम्मान ग्रहण किया अतिथियों ने सबको सम्मानित किया और कहा कि निरन्तर लिखे लिखने की आदत डालना चाहिए, 

लिखते लिखते ही लेखन में निखार आता है। 

रचनाकारों की रचनाओं से चंद पंक्तियाँ -


नित्य नविन सुखदाईनी खबरों का हो अदान प्रदान। 

मन में दबी कामनाओं को मिले नव आकाश की उड़ान ।।

सब की जय हो सबकी विजय हो 

यही कामना है नव वर्ष की मेरी। 

सारे विश्व में अमन शांति रहे दुश्मन कोई न बने मिल कर रहे।

अभिनंदन करते हैं नव वर्ष तुम्हारा, 

वंदन करते हैं नव वर्ष तुम्हारा।

- डॉ अलका पाण्डेय


चांद तारे नहीं है सफर में तो क्या,

 जुगनूओं से भी रस्ता संवर जाएगा,

लोगों से भरी भीड़ में, इंसान बहुत हैं।

कुछ तो अदने और कुछ महान बहुत हैं।।

बारात सितारों की, कायनात में सजी।

और उसके आगे जहान बहुत हैं।।

- कवि आनंद जैन अकेला कटनी मध्यप्रदेश


साथ तू है तो हर पल गुजर जाएगा,

वरना इल्जाम तेरे ही सिर जाएगा. 

- रजनी अग्रवाल जोधपुर


राम नाम अनमोल है

जपो सुबह ओ शाम

जीवन की इस नाव को

पार लगाए राम

- चंदेल साहिब, देवभूमि हिमाचल


नमन मंच 

करती हूं आभार आपका 

करती हूँ आभार।

अभिव्यक्ति का सुंदर मंच 

जो दिया हमें उपहार।

उत्तम रचनाओं से सजा है

यह परिवार।

यही कामना दिल की है

यह फूले फले हजार।।

करती हूँ आभार आपका करती हूँ आभार।।

- श्रीमती निहारिका झा


जब कहो इंतिहान दे दूंगी। 

तुझ पे ख्वाहिशें तमाम दे दूंगी।

कभी शिद्दत सेआजमाना मुझे ,

तेरी खातिर ये जान दे दूंगी।

रागिकाँटों में रहकर गुलों की तरह मुस्कराईये, 

लोगों को दिल्लगी का करीना सिखाइए।

नफरत की तीरगी दिलों से मिटाईये, 

हर बज्म में चिरागे महोब्बत जलाइये ।

- वीना अचतानी जोधपुर 


मान मिला सम्मान मिला। 

सिखने का मौका मिला

परिवार जैसा प्यार मिला 

इतने सारे उपलब्धि के साथ जिन्दगी मे आगे बढने का मौका 

अग्निशिखा मंच ने दिया 

- अंजली तिवारी 


पल्लवों के मधुमास से, बन जाएँ हम तुम।

स्निग्ध बाली की लाली, जैसे छाएँ हम तुम।

नव कोंपलों से रसमयी, बन जाएँ हम तुम।

मधु-पराग का हो बाहुल्य, छलकें हम तुम।

प्रेम-मंत्र सीख जाएँ, इस मौसम से हम तुम।

मोहक मौसम जैसा, जीवन बनाएँ हम तुम।

असीम खुशियाँ वाली, तितली बने हम तुम।

आशाओं के बसन्ती, उपहार बनें हम तुम।

- वैष्णो खत्री वेदिका जबलपुर


गुलशन बना लिजीए

आज खुशियाँ मना लिजीए।

दिल को गुलशन बना लिजीए।।

वक्त ने जो भी जख्म दिया है।

उसमें मरहम लगा लिजीए।।

क्या खोया था और क्या था पाया।

गिला शिकवा सब जला दिजीए।।

हम सब मिलकर अंधेरा मिटाए।

दिपक आप भी जला लिजीए।।

वक्त कटता नही तन्हा अकेला।

हमको भी संग बुला लिजीए।।

- गोवर्धन लाल बघेल

टेढी़नारा जिला महासमुंद छत्तीसगढ़


आप जिन पर गुमान रखते हैं।

वह किसी का न मान रखते हैं।।

वक्त आने पर कुछ नहीं करते, साथ तीर -ओ- कमान रखते हैं।।

दिल में उनके नहीं मुरव्वत कुछ सिर्फ ऊंचा मकान रखते हैं ।।

पास धरती का नहीं है टुकड़ा ,

जश्न को आसमान रखते हैं।।

 बोलने का तो हक हमें भी है,

 हम भी मुंह में जुबान रखते हैं।।

- डॉ ब्रजेन्द्र नारायण द्विवेदी शैलेश वाराणसी

निम्नलिखित सम्मानित रचनाकारों हैं

1 रजनी अग्रवाल /सर्वश्रेष्ठ 

2 अलका पांडेय /सर्वश्रेष्ठ 

3 वीना अडवाणी / सर्वश्रेष्ठ 

4 चंदा डांगी /सर्वश्रेष्ठ 

5 बृज किशोरी /श्रेष्ठ 

6 गोवर्धन लाल बघेल / सर्वश्रेष्ठ 

7 वैष्णो खत्री /सर्वश्रेष्ठ 

8 पद्माक्षी शुक्ला /सर्वश्रेष्ठ 

9 सुरेन्द्र हर्डे /सर्वश्रेष्ठ 

10 आनंद जैन अकेला / सर्वश्रेष्ठ 

11 हेमा जैन / उत्तम 

12  शोभा रानी /श्रेष्ठ 

13 आशा लता नायडू  /सर्वश्रेष्ठ 

14 चंदेल साहिब /सर्वश्रेष्ठ 

15 विष्णु शर्मा /सर्वश्रेष्ठ 

16 कुमारी चंदा देवी /श्रेष्ठ 

17 बैजेन्द्र नारायण /सुंदर

18 कुमकुम वेद सेन /सर्वश्रेष्ठ

19 नीरजा ठाकुर /श्रेष्ठ 

20 चंद्रिका व्यास /श्रेष्ठ 

21 शुभा शुक्ला निशा / सुंदर

22 रानी अग्रवाल / सुंदर

23 निहारिका झा/ श्रेष्ठ 

24 रविशंकर कोलते /श्रेष्ठ 

25 अंजली तिवारी /सुंदर

26 अनिता झा /उत्तम 

27 जनार्दन शर्मा /सुंदर

28 पदमा तिवारी / सुंदर 

29 डॉ नेहा इलाहबादी /श्रेष्ठ 

30 वीना अचतानी / श्रेष्ठ 

31) लीला कृपलानी /उत्तम 

32) डॉ गुरिंदर गील / सुंदर 

33) रामेश्वर प्रसाद गुप्ता /श्रेष्ठ

34) रश्मि शुक्ला / श्रेष्ठ 

35) रागनी मित्तल/सुंदर

36) राम राय / सर्वश्रेष्ठ

Post a comment

 
Top