0



रिद्धि देवराह, जिनका जन्म कोलकाता में हुआ है, उनके पास कैंब्रिज विश्वविद्यालय, ब्रिटेन से अर्थशास्त्र में स्नातकोत्तर डिग्री और लंदन स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स से भी स्नातकोत्तर डिग्री है। उन्होंने 2013 में अपना ऑनलाइन बुना हुआ परिधान ब्रांड शुरू किया जो कि महज 2 वर्षों के अंतराल में एक लोकप्रिय नाम बन गया। गुरुग्राम में स्थित, रिद्धि ने थोड़े समय के लिए एक स्टार्टअप, रोपोसो के साथ भी काम किया। इसके अलावा, उन्होंने कुछ समय के लिए सार्वजनिक इक्विटी बाजारों में निवेश किया और 15% सीएजीआर में अपने पोर्टफोलियो को बढ़ाया। उन्होंने 2015 में अपना खुद का फैशन लेबल रिद्धि और रेविका भी लॉन्च किया, जिसका अब दिल्ली में एक फ्लैगशिप स्टोर है।  उन्होंने 2017 में पेरेंटिंग पर लिखना और उसे साझा करना शुरू कर दिया, जिससे 100,000 अभिभावकों को एक खुशहाल, समग्र जीवनशैली जीने में मदद मिलेगी।

 विचार के बारे में बात करते हुए, रिद्धि कहती है, “जब मैंने एक माँ के रूप में अपने अनुभवों को साझा किया, तो मैंने माताओं को यह कहते हुए मेरे पास पहुँचते देखा कि वे किस तरह से खुद को मुझसे जुड़ा हुआ समझती हैं।

 मुझे विश्वास है कि लोग आपके माध्यम से देख सकते हैं। यदि आप प्रामाणिक, ईमानदार हैं और एक सहायक रवैया रखते हैं, तो लोग आपकी ऊर्जा से आकर्षित होंगे। आप अपने समूह को अपने से ठीक पहले खूबसूरती से बढ़ते हुए देखेंगे। जो मेरा मानना ​​है कि मेरे साथ हुआ। यह सिर्फ मेरी यात्रा की शुरुआत थी और अनुभवों को साझा करने से, अब मैं अपने बच्चे के साथ संवाद करने, अपने बच्चे के साथ संवाद करने का नायाब विधि, सक्रिय पैरेंटिंग, आसान तनाव प्रबंधन,  वॉक विद्या और कई अन्य विषयों पर पेरेंटिंग पाठ्यक्रम बनाती हूं।  यात्रा वास्तव में सुंदर रही है, लेकिन मैं इसे आजीवन सीखने वालों का समुदाय बनाना चाहता हूं, जो न केवल एक खुशहाल बल्कि समृद्ध अनुभव भी बनाता हैं। 

 इन वर्षों में रिद्धि के लिए पेरेंटिंग बहुत बदल गई है, वह महसूस करती है, "पेरेंटिंग नियमों का एक सेट नहीं है जिसे आप पूर्व-निर्धारित लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए अनुसरण कर सकते हैं, यह हमारे और नन्हे से बच्चे के साथ एक सुंदर संबंध बनाने और उन्हें खुश करने के बारे में है और बड़ा होते हुए उन्हें एक खुश और जिम्मेदार व्यक्ति बनाना है। हालांकि, अंतिम परिणाम जो हो हम चाहते हैं कि माता-पिता कमोबेश एक ही तरह से बने रहे, पिछले कुछ समय से पेरेंटिंग में अभूतपूर्व बदलाव आया है।

पेरेंटिंग लगातार बदलते परवरिश के साथ हमें नए अनुभवों से दो चार करवाता है।

 माता-पिता को इंफ्लूएंस करने की प्रक्रिया का वर्णन करते हुए, वह मानती हैं, “मेरा प्रभाव एक माँ के रूप में मेरे व्यक्तिगत अनुभवों से पूरी तरह से प्रेरित है।  मैं अपने अनुभव के बारे में अपने बेटे के साथ साझा किए हुए पलों के बारे में, एक मां के रूप में मेरी चुनौतियां और विविध अनुभवों से मैंने जो कुछ भी सीखा उसे ही एक आसान तरीक़े से प्रस्तुत करती हूँ।

मुझसे जुड़े माता पिता मुझसे अपना जो भी अनुभव साझा करते हैं और मेरे अनुभवों को सुनते हैं और पढ़ते हैं उसे ही हम लोग एक सामंजस्य बनाकर एक आसान तरीक़े से बच्चों के बेहतर परवरिश और ज्ञान प्राप्ति के रूप में उपयोग करते हैं।

मेरा लक्ष्य एक लाख माता पिता को ख़ुशहाल समग्र जीवन जीने में मदद करने के लिए प्रयासरत है।

जो माता पिता मुझसे लाभान्वित हो वो भी इस मिशन में मुझसे जुड़े रहे हैं ताकि हम आने वाले युवा पीढ़ी को एक आत्मनिर्भर और एक उज्जवल भविष्य की ओर प्रेरित कर पाएंगे।

आत्मनिर्भर युवा ही किसी देश, संसार और समाज के उत्थान की सफलता की कुंजी होते हैं।

ये मेरा एक बहुत छोटा सा प्रयास है जो मुझे अंदर से बहुत ज्यादा ख़ुशी प्रदान करता है।

Post a comment

 
Top