0

~ इस साल भारत में 168% और पूरी दुनियाभर में 100% ग्रोथ हासिल की ~

मुंबई : वैश्विक महामारी ने शिक्षा परिदृश्य को नया आकार दिया है। लाखों स्टूडेंट्स और पैरेंट्स सपोर्ट के लिए डिजिटल होमवर्क-हेल्पर प्लेटफॉर्म ब्रेनली की ओर रुख कर रहे हैं। डिजिटल प्लेटफार्मों को अपनाने में रिमोट लर्निंग ने तेजी लाई है और ब्रेनली दुनियाभर में 100% ग्रोथ हासिल की है, जो छात्रों को अपनी तरह के सबसे बड़े पीयर-टू-पीयर लर्निंग प्लेटफार्म के जरिए 24*7 पहुंच प्रदान करता है। यह प्लेटफार्म अकेले भारत में 168% की रफ्तार से बढ़ा है, क्योंकि हर महीने 55 मिलियन से अधिक स्टूडेंट्स और पैरेंट्स रियलटाइम में शैक्षणिक सफलता और गहरी समझ सुनिश्चित करने के लिए ब्रेनली कम्युनिटी और एक्सपर्ट्स, पर्सनलाइज्ड स्टडी सपोर्ट पर भरोसा कर रहे हैं। 

ब्रेनली के सीपीओ राजेश बिसानी ने कहा 'हर शैक्षणिक समस्या के लिए स्टेप-बाय-स्टेप गाइड करने के लिए प्रोफेशनल्स और स्टूडेंट्स के साथ ब्रेनली रिमोल लर्निंग के दौरान लर्नर्स के लिए एक महत्वपूर्ण प्लेटफार्म बन गया है। ब्रेनली का मॉडल न केवल ज्ञान साझा करने की सुविधा प्रदान करता है, बल्कि आत्मविश्वास और लर्निंग की खुशी और आगे बढ़ने का आनंद भी देता है।'

महामारी ने लर्निंग के लिए जिसे महत्वपूर्ण माना जाता है, उसे ही रेखांकित किया है कि- छात्र केवल तभी सफल हो सकते हैं जब उनके पास जरूरत पड़ने पर मदद मांगने के लिए विश्वसनीय चैनल हों। ब्रेनली किसी भी सेटिंग में चौबीसों घंटे पहुंच प्रदान करता है, जब भी छात्र को इसकी सबसे अधिक आवश्यकता होती है। यह छात्रों के लिए एक तेजी से महत्वपूर्ण साधन बन गया है क्योंकि वे एक पूरे नए वर्चुअल लर्निंग फॉर्मेट के माध्यम से अपना रास्ता बना रहे हैं जिसमें पर्सनलाइज्ड अटेंशन का अभाव होता है जिस पर कई स्टूडेंट्स का भरोसा होता है।

Post a comment

 
Top