0

मुंबई : नए कोरोनावायरस रिलीफ बिल को लेकर निवेशकों की बढ़ी आशाओं ने डॉलर को कमजोर किया और गोल्ड, बेस मेटल्स व क्रूड ऑयल की कीमतों को सपोर्ट बढ़ाया। चीन की बढ़ी हुई औद्योगिक गतिविधियों ने बेस मेटल और क्रूड ऑयल की कीमतों का समर्थन किया। 

एंजल ब्रोकिंग लिमिटेड के रिसर्च नॉन एग्री कमोडिटी एंड करेंसी एवीपी प्रथमेश माल्या ने बताया के डॉलर में गिरावट के बीच सोना 0.5% की बढ़त के साथ 1900.9 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुआ। ग्लोबल इकोनॉमिक रिकवरी पर बढ़ी चिंताओं ने सेफ हैवन असेट सोने का आकर्षण और बढ़ा दिया है। यू.एस. में राजनीतिक अनिश्चितता सहित कई कारणों को सोने में लाभ को जिम्मेदार ठहराया गया और डॉलर में कमजोरी रहने से इसमें रिवाइवल आया। यू.एस. हाउस स्पीकर नैन्सी पेलोसी ने नए कोरोनोवायरस रिलीफ बिल पर संभावित समझौते की उम्मीद जताई, जिसने पीली धातु की कीमतों को थोड़ा कमजोर कर दिया। 

हालांकि, सोने की कीमतों में बढ़त सीमित रही, क्योंकि सितंबर में चीन की अर्थव्यवस्था में भी तेजी आई। चीन की बढ़ी हुई औद्योगिक गतिविधियों ने विदेशी मांग में सुधार और एक संतुलित रिकवरी को दर्शाया। इसने निवेशकों के बीच जोखिम की भूख को बढ़ाया। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष ने कई उभरते बाजारों के लिए आउटलुक पर चिंता व्यक्त की क्योंकि वायरस खतरनाक दर से फैल रहा है, जिससे सेफ हेवन असेट गोल्ड के लिए नुकसान सीमित हो गया। अतिरिक्त कोरोना रिलीफ फंड पर अनिश्चितताएं कायम रही जिससे अमेरिकी डॉलर प्रभावित हुआ और इसका असर सोने की कीमतों पर दिख सकता है।

डब्ल्यूटीआई क्रूड 2% बढ़ गया और 41.0 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुआ क्योंकि अमेरिकी इक्विटी में तेजी आई और डॉलर में गिरावट आई। हालांकि, क्रूड ऑयल की मांग में रिवाइवल को लेकर चिंता ने आउटलुक कमजोर कर दिया। चीन का क्रूड इम्पोर्ट सितंबर 2020 में 17.5% बढ़ गया और 11.8 मिलियन हो गया क्योंकि कुछ कार्गो ने अंतिम रूप से कस्टम को मंजूरी दे दी थी। चीन से बढ़ती मांग के कारण दुनिया के शीर्ष तेल उपभोक्ता ने क्रूड ऑयल की कीमतों को और समर्थन दिया।

दुनिया की कुछ सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में कोरोनोवायरस के मामलों के फिर बढ़ने और लॉकडाउन से जुड़ी चिंता का साया क्रूड ऑयल पर कायम बना हुआ है। ओपेक ने भी महामारी के कारण मची उथल-पुथल के कारण तेल की मांग में कमजोर रिकवरी का अनुमान लगाया। इसके अलावा, अमेरिकी क्रूड इन्वेंट्री के स्तर में गिरावट की रिपोर्ट्स हैं, जो कीमतों का समर्थन कर सकती हैं।

एलएमई पर बेस मेटल्स नए कोरोनोवायरस रिलीफ फंड की उम्मीद के बीच बढ़त के साथ बंद हुए। कमजोर डॉलर ने औद्योगिक धातु की कीमतों को समर्थन बढ़ाया। चीन के एक्सपोर्ट में 9.9% की वृद्धि हुई क्योंकि अधिक अर्थव्यवस्थाओं ने महामारी की वजह से लगाए लॉकडाउन के बाद अपने यहां गतिविधियों को तेजी दी है। इसी दौरान दूसरी ओर, चीन का आयात 13.2% बढ़ा, जो दुनिया के सबसे बड़े धातु खपत वाले देश की अर्थव्यवस्था में संतुलित वृद्धि का सबूत है।

Post a comment

 
Top