0


मुंबई : अमेरिकी तेल इन्वेंट्री में भारी उछाल और मांग की संभावनाओं के कमजोर होने से क्रूड की कीमतों में गिरावट आई। एंजल ब्रोकिंग लिमिटेड के रिसर्च नॉन एग्री कमोडिटी एंड करेंसी एवीपी प्रथमेश माल्या ने बताया के डब्ल्यूटीआई क्रूड 1.7% से अधिक की गिरावट के साथ 40.2 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुआ। हालांकि, अमेरिका में क्रूड इन्वेंट्री लेवल बढ़ गया और इससे ऑयल के डिमांड आउटलुक पर संदेह के बादल छाए रहे। हालांकि, लिमिटेड क्रूड सप्लाई ने इस गिरावट को सीमित रखा। एनर्जी इंफर्मेशन एडमिनिस्ट्रेशन ने 2 अक्टूबर 2020 को समाप्त सप्ताह के लिए अमेरिकी क्रूड इन्वेंट्री में 501,000 बैरल की मामूली वृद्धि की सूचना दी।

क्रूड की कीमतों में घाटा तब और सीमित हो गया जब तूफान डेल्टा ने यूएस गल्फ कोस्ट से टकराया। नुकसान रोकने के लिए कंपनियों ने अपने ऑपरेशंस बंद किए, जिससे यूएस क्रूड आउटपुट का लगभग 17% प्रभावित हुआ। छह नॉर्वेजियन ऑफशोर ऑयल एंड गैस फील्ड्स में हड़ताल रही, जिसकी शुरुआत यूनियन और नॉर्वेजियन ऑयल एंड गैस एसोसिएशन के बीच बातचीत विफल रहने से हुई थी। इस हड़ताल ने क्रूड ऑयल की कीमतों को समर्थन देते हुए 330,000 बैरल प्रति दिन तेल का उत्पादन करने का जोखिम उठाया।

राष्ट्रपति ट्रम्प की ओर से पेरोल असिस्टेंस की डिमांड के बीच ज्यादातर एलएमई मेटल्स हरे रंग में बंद हुए। कमजोर अमेरिकी डॉलर ने औद्योगिक धातु की कीमतों का समर्थन किया। हालांकि, कोरोनोवायरस की दूसरी लहर से जुड़ी चिंताओं और चीन में सप्ताहभर की छुट्टी के कारण कमजोर मांग के कारण कीमतों में गिरावट रही।

सितंबर 2020 में चीन की औद्योगिक गतिविधियों में मजबूत वृद्धि हुई और इसने ओवरसीज डिमांड और स्टिमुलस ड्रिवन इंफ्रास्ट्रक्चर ग्रोथ में प्रतिबिंबित किया। नेशनल ब्यूरो ऑफ स्टैटिस्टिक्स द्वारा जारी रिपोर्टों के अनुसार, चीन का ऑफिशियल मैन्युफैक्चरिंग पर्चेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स सितंबर में 51.5 के स्तर पर था, जो आधार धातु की कीमतों का समर्थन करता है।

Post a comment

 
Top