0

आमतौर पर सोना ऐसे असेट क्लास में आता है, जिसका इस्तेमाल निवेशक बाजार में उतार-चढ़ाव के समय में अन्य निवेश पोर्टफोलियो में होने वाले नुकसान के खिलाफ बचाव के लिए करता है। सोने को अक्सर चांदी के मुकाबले प्राथमिकता दी जाती है, भले ही संकट या आर्थिक मंदी के समय चांदी को भी एक सुरक्षित विकल्प माना जा सकता है। हालांकि, मौजूदा स्थिति के लिए कमजोर अमेरिकी डॉलर के साथ महामारी को भी जिम्मेदार ठहराया जा रहा है।

इन्हीं कारकों की बात हम तब भी करते हैं जब बात चांदी की डिमांड बढ़ने की आती है। कहते हैं कि अच्छे समय में भी सोना और चांदी अपनी चमक नहीं खो रहे हैं। कई निवेशक सोना या चांदी के रूप में अपनी संपत्ति के एक हिस्से को पोर्टफोलियो विविधीकरण रणनीति के हिस्से के रूप में स्थापित करना जारी रखते हैं। इन दोनों में कई समानताएं हैं, लेकिन कुछ महत्वपूर्ण अंतर भी हैं, और निवेशकों को सलाह दी जाती है कि वे निवेश करने से पहले उन्हें स्वीकार करें। इस बारे में अधिक जानकारी दे रहें हैं एंजल ब्रोकिंग लिमिटेड के रिसर्च नॉन एग्री कमोडिटी एंड करेंसी एवीपी प्रथमेश माल्या। 

1. सप्लाय की कमी होने की वजह से चांदी से ज्यादा महंगा है सोना: कीमतों के संदर्भ में, सोने-चांदी का अनुपात बहुत ही बेतरतीब है। सोने का एक औंस खरीदने के लिए आपको कई औंस चांदी की आवश्यकता होगी। सितंबर 2020 की पहली तिमाही तक सोने और चांदी की कीमत का अनुपात लगभग 72: 1 था। यह इंगित करता है कि दिए गए बिंदु पर चांदी के प्रत्येक औंस के लिए सोना सत्तर गुना अधिक कीमती था। इस मूल्य असमानता से परे मार्च के महीने में सोने-चांदी के अनुपात में और भी अधिक नाटकीय अंतर था। यह ऐतिहासिक 120:1 पर खड़ा था। अंतर की विशालता को परिप्रेक्ष्य में रखने के लिए, 21वीं सदी का औसत लगभग 60: 1 अंक के आसपास स्थिर हो गया।  

जब चांदी अच्छा प्रदर्शन करती है, तब भी यह सोने के मूल्य से निकट नहीं होती है। सोना दोनों में एक दुर्लभ धातु है, और यह परिणाम के रूप में एक हायर वैल्यू का दावा करता है। सोने की आपूर्ति की कमी बहुत स्पष्ट है, विशेषज्ञों ने वर्ष 2019 में दुनियाभर में सोने की संपत्ति में गिरावट देखी है। यह 27,000 टन चांदी की तुलना में सिर्फ 3,300 टन तक सीमित था।

2. चांदी से कम अस्थिर है सोना: लंबी अवधि के निवेश के लिए सोना पहली पसंद बना हुआ है, अल्पकालिक उतार-चढ़ाव के बावजूद जो कभी-कभी निवेशकों को हिला सकता है। 1989 और 2019 के बीच 30 वर्षों में सोने की वार्षिक अस्थिरता एसएंडपी 500 इंडेक्स की तुलना में थोड़ी अधिक थी, जो सोने के लिए 15.44% और एसएंडपी 500 के लिए क्रमशः 14.32% थी। दूसरी ओर, चांदी की अस्थिरता आमतौर पर सोने की तुलना में लगभग दोगुनी होती है। इसके अलावा, सोने के बाजार के आकार की तुलना में, चांदी बाजार का आकार काफी छोटा है। चांदी के $4.4 ट्रिलियन की तुलना में सोने का बाजार $24.5 ट्रिलियन है। हालांकि, मूल्यों में लगातार उतार-चढ़ाव के प्रति संवेदनशीलता के संदर्भ में समान परिणाम देखे जा सकते हैं।

जैसा कि उल्लेख किया गया है, ओवरऑल चांदी के बाजार मूल्य की सोने के बाजार मूल्य के सिर्फ एक अंश से तुलना की जा सकती है। इस वजह से चांदी केवल एक मामले में सोने की तुलना में अधिक आकर्षक है, यदि आप अल्पकालिक उतार-चढ़ाव पर सट्टा लगाने में रुचि रखते हैं। हालांकि, यदि आप लंबी अवधि की हेजिंग में रुचि रखते हैं, तो सोना अधिक आकर्षक विकल्प है।

3. विविधता लाने में महत्वपूर्ण: निवेशकों के बीच अपने पोर्टफोलियो में कीमती धातुओं को शामिल करना एक सामान्य प्रवृत्ति है। इसका कारण यह है कि बेशकीमती धातुओं की कीमत स्टॉक और बॉन्ड जैसी अन्य प्रतिभूतियों के साथ संबंध नहीं रखती है, जिससे ओवरऑल पोर्टफोलियो रिस्क कम हो जाता है। यह निवेश के विकल्प को व्यापक बनाता है, जिससे सोने और चांदी दोनों निवेशकों के बीच लोकप्रिय हो जाते हैं। हालांकि, विविधीकरण की बात आती है, तो सोना दोनों धातुओं में टॉप पर आता है। उदाहरण के लिए, केंद्रीय बैंक अमेरिकी डॉलर सहित अन्य मुद्राओं को रखने के जोखिम से जुड़े विविधीकरण के लिए अप्रौच के रूप में, चांदी की बजाय सोना खरीदते हैं।

4. औद्योगिक इस्तेमालों को लेकर तुलना: सोने की तुलना में औद्योगिक इस्तेमाल चांदी का बड़ी मात्रा में होता है, जो चांदी को उच्च मांग वाली कमोडिटी बनाती है। चांदी में रिफ्लेक्टिव गुण होते हैं, और थर्मली और इलेक्ट्रॉनिक रूप से अनुकूल होते हैं। पिछले दो दशकों में पता चला है कि सोने की तुलना में चांदी के लिए अधिक पेटेंट हुए हैं। पिछले दस वर्षों में उपभोक्ता उत्पादों में 1 अरब औंस चांदी का उपयोग हुआ है। यह एक पहलू है जहां चांदी ने सोने पर बढ़त हासिल की है। आने वाले वर्षों में चांदी की कीमत में वृद्धि की उम्मीद करना तर्कसंगत है।

अंतिम नोट: उन लोगों के लिए जो कीमती धातुओं में निवेश करना चाहते हैं, सोना और चांदी दोनों ही लोकप्रिय विकल्प हैं। इसके अलावा, भारतीयों के पास सोने का इस्तेमाल जेवरात में है, वहीं यह निवेशकों के लिए भी एक आकर्षक कमोडिटी है क्योंकि यह निवेश विकल्पों में विविधता लाता है। डिजिटल सोने के उद्भव से निवेशकों के बीच स्थिति और भी मजबूत हुई है। डिजिटल गोल्ड ने उच्च भंडारण लागत की चिंताओं को दूर करते हुए कमोडिटी निवेश को अधिक किफायती बना दिया है। सोने की संपत्ति को अब एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ईटीएफ) और ई-गोल्ड के रूप में खरीदा जा रहा है। ईटीएफ को अब डीमैट खातों के माध्यम से संचालित किया जा सकता है, जिससे डिजिटल रूप में लेनदेन सुचारू हो सके। इसके अलावा, ई-वॉलेट और पेमेंट गेटवे भी ई-गोल्ड को परिवर्तनीय मात्रा में ट्रेड करने के विकल्प प्रदान कर रहे हैं, जिसने वर्तमान संकट के समय में स्मार्टफोन आधारित लेनदेन और रिवॉर्ड्स की अनुमति दी है, जब फिजिकल सोना प्राप्त करना एक चुनौती बन गया है।

इन अंतरों के आधार पर निवेशकों के लिए किसी एक को चुनना आसान हो जाएगा। महत्वपूर्ण यह है कि आपको सारी बातें पता हो, तब आप सोच-समझकर कोई निर्णय ले सकेंगे और रिटर्न के अवसरों का अधिकतम लाभ उठा सकेंगे।

Post a comment

 
Top