0


मुंबई : कोविड -19 मामलों की दूसरी लहर ने क्रूड ऑयल और बेस मेटल्स की मांग को कमजोर करते हुए निवेशकों को सेफ हैवन गोल्ड की ओर आकर्षित किया। एंजल ब्रोकिंग लिमिटेड के रिसर्च नॉन एग्री कमोडिटी एंड करेंसी एवीपी श्री प्रथमेश माल्या ने बताया के इकोनॉमिक आउटलुक की कमजोरी ने कच्चे तेल की कीमतों को और कम कर दिया। कोविड-19 के बढ़ते मामलों ने चीन के मजबूत आर्थिक आंकड़ों को कमजोर किया और बेस मेटल्स का लाभ सीमित रहा।

सोना: स्पॉट गोल्ड संयुक्त राज्य अमेरिका में स्टिमुलस उपाय की उम्मीदों के बीच 1.13% ऊपर चला गया। कोविड-19 मामलों की बढ़ती संख्या ने सेफ हैवन सोने की अपील को बढ़ा दिया। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और उनके डेमोक्रेटिक प्रतिद्वंद्वी जो बिडेन के बीच पहली प्रेसिडेंशियल डिबेट विवाद का विषय बन गई है। इस वजह से निवेशकों ने अमेरिकी डॉलर में आश्रय ले लिया। चार वर्षों में अमेरिकी डॉलर के लिए पिछला महीना सबसे खराब रहा और इस वजह से डॉलर से तय होने वाला सोना दबाव में रहा।

सितंबर 2020 में चीन की औद्योगिक गतिविधियों में मजबूत वृद्धि ने विदेशी मांग में सुधार दिखाया। निवेशकों की रिस्क लेने की भूख को बढ़ावा मिला जिससे गोल्ड की कीमतें सीमित रही। हालांकि, कोविड-19 पॉजिटिव टेस्ट होने के बाद राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने तेजी से रिकवरी की और इससे पीली धातु की मांग कमजोर हुई, लेकिन कोविड-19 के नए मामलों में बेतहाशा वृद्धि ने सोने की कीमतों को समर्थन दिया।

क्रूड ऑयल: डब्ल्यूटीआई क्रूड क्रूड पिछले हफ्ते 8% से कमजोर हुआ क्योंकि कोविड-19 वायरस की दूसरी लहर से जुड़ी चिंताओं ने निवेशकों के बीच क्रूड के डिमांड आउटलुक को कमजोर कर दिया। कोविड-19 मामलों में वृद्धि ने ग्लोबल ऑइल मार्केट के लिए एक बड़ा झटका दिया है। दुनिया की कई महत्वपूर्ण अर्थव्यवस्थाओं में लॉकडाउन की संभावना ने कच्चे तेल की कीमतों को और कम कर दिया।

ओपेक कमजोर मांग संभावनाओं का मुकाबला करने के लिए जनवरी 2021 से तेल उत्पादन बढ़ाने के लिए अनिच्छुक है। इसके अलावा, ओपेक द्वारा प्रेरित उत्पादन कटौती के बावजूद, लीबिया और ईरान के निर्यात में वृद्धि ने लिक्विड गोल्ड की कीमतों को और नीचे कर दिया है। हालांकि, अमेरिकी की ओर से स्टिमुलस पैकेज की उम्मीदें क्रूड की कीमतों में गिरावट को सीमित कर सकती हैं।

बेस मेटल्स: एलएमई पर बेस मेटल्स पिछले सप्ताह हरे रंग में बंद हुए थे क्योंकि अमेरिका और चीन ने मजबूत आर्थिक आंकड़े पेश किए। हालांकि, कीमतों को कोविड-19 मामलों की दूसरी लहर और कमजोर मांग की चिंताओं ने रोक रखा है। चीन के मजबूत आर्थिक सुधार और वैश्विक केंद्रीय बैंकों की ओर से बड़े पैमाने पर स्टिमुलस जारी करने के बाद मार्च 2020 में रिकॉर्ड गिरावट के बाद बेस मेटल्स ने रिकवरी की है। हालांकि, ग्लोबल इकोनॉमिक रिकवरी के किसी भी ठोस संकेत की कमी से औद्योगिक मेटल्स की कीमतों को नियंत्रित रखा।

कॉपर: एलएमई कॉपर 0.45% बढ़कर और 6553 डॉलर प्रति टन के उच्च स्तर पर बंद हुआ क्योंकि चीन की फैक्ट्री की गतिविधियाँ बढ़ी हैं। एलएमई कॉपर की कीमतों में वृद्धि, हालांकि, एलएमई कॉपर इन्वेंट्री में वृद्धि से सीमित थी।

Post a comment

 
Top