0

~एलजीबीटीक्‍यू+ कम्‍यूनिटी, विकलांग लोगों व सशस्‍त्र बलों को सक्रियतापूर्वक दी जायेगी नौकरी ~

मुंबई : महिंद्रा लॉजिस्टिक्‍स लिमिटेड (एमएलएल), जो भारत के सबसे बड़े थर्ड-पार्टी लॉजिस्टिक्‍स (3पीएल) समाधान प्रदाताओं में से एक है, द्वारा आगामी त्‍यौहारी मौसम से पूर्व नौकरियों के लिए भर्तियां निकालकर अत्‍यावश्‍यक खुशी प्रदान की जाने की संभावना है। जहां महिंद्रा लॉजिस्टिक्‍स लिमिटेड (एमएलएल) मौसमी आधार पर 10,100 लोगों को पहले ही रोजगार प्रदान कर चुका है, वहीं इनमें से भारी संख्‍या में कर्मचारियों को विभिन्‍न परिचालनों में बनाये रखा जायेगा। इसके अलावा, कंपनी को गर्व है कि इसने महामारी के दौरान अपने थर्ड-पार्टी कार्यबल में 40 प्रतिशत कर्मचारी शामिल किये।  

अपनी पांचवर्षीय योजना के अनुरूप, कंपनी द्वारा विकलांग व्‍यक्तियों, भूतपूर्व सैनिकों को सक्रियतापूर्वक नौकरी दी जा रही है और विभिन्‍न पृष्ठभूमियों व अनुभवों वाली अधिकाधिक महिलाओं को नौकरी देकर लिंग-वैभिन्‍य के अंतर को दूर किया जा रहा है। वित्‍त वर्ष'21 में, महिंद्रा लॉजिस्टिक्‍स लिमिटेड (एमएलएल) का लक्ष्‍य अपने और अपने कारोबारी के सहयोगियों के यहां 500 से अधिक विकलांग व्‍यक्तियों को नौकरी देने की है। 

विशेष रूप से लॉजिस्टिक्‍स सेक्‍टर में, लिंग-वैभिन्‍य एक चुनौती बनी हुई है। इस अंतर को दूर करने के लिए, महिंद्रा लॉजिस्टिक्‍स इस क्षेत्र की एक ऐसी प्रमुख कंपनी है जिसने 'उड़ान' नामक एक विशेष पहल शुरू की। उड़ान, सभी स्‍तरों, कार्यों व खंडों की महिलाओं के लिए सेकंड कॅरियर (कमबैक) प्रोग्राम और सेकंड कॅरियर इंटरर्नशिप प्रोग्राम है। कंपनी ने उड़ान प्रोग्राम के तहत महिलाओं को नौकरी देना पहले ही शुरू कर दिया है और इसकी योजना वर्ष 2021 तक इस संख्‍या को 50 तक ले जाने की है। एमएलएल ने हाल ही में भिवंडी, महाराष्‍ट्र के अपने वेयरहाउस में ट्रांसजेंडर समुदाय के सहयोगियों को नौकरी पर रखना शुरू कर दिया है। 

महिंद्रा लॉजिस्टिक्‍स लिमिटेड के प्रबंध निदेशक व मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी रामप्रवीण स्‍वामीनाथन ने कहा, ''हम हमारे कर्मचारियों, सहयोगियों, कारोबारी सहयोगियों, ग्राहकों और समुदायों में विविधता को प्रोत्‍साहन देते हैं और इसकी कद्र करते हैं। इसलिए, यह आवश्‍यक है कि मिलेनियल्‍स के लिए एमएलएल को आकर्षक बनाएं, महिलाओं व विकलांग व्‍यक्तियों को समान अवसर प्रदान करें, विभिन्‍न पृष्‍ठभूमियों जैसे सशस्‍त्र बल और एलजीबीटीक्‍यूआईए कार्यबल के कर्मचारियों की भर्तियां करें। हम इन सहयोगियों को कुशल बनाकर हमारे राइज के व्‍यापक उद्देश्‍य के प्रति वचनबद्ध हैं जिससे उनके कॅरियर का दीर्घकालिक विकास एवं रोजगार सक्षम हो पायेगा।

एमएलएल का दृढ़ विश्‍वास है कि कौशल विकास, दीर्घस्‍थायी और स्‍वतंत्र कार्यबल के लिए अत्‍यावश्‍यक है। पिछले 2 वर्षों में, कंपनी द्वारा भारत सरकार के प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना (पीएमकेवीवाई) के तहत लगभग 20,000 कार्मिकों (ड्राइवर्स और वेयरहाउस ऑपरेटर्स सहित) को प्रशिक्षित किया जा चुका है।

Post a comment

 
Top