0

मुंबई : महामारी पर बढ़ी चिंताओं के कारण पिछले सप्ताह के दौरान सोना 0.1% बढ़ा। इसके अलावा चुनावों से पहले अमेरिका में अतिरिक्त प्रोत्साहन सहायता के बारे में अनिश्चितता ने निवेशकों के बीच पीली धातु के लिए अपील को बढ़ावा दिया है। एंजल ब्रोकिंग लिमिटेड के रिसर्च नॉन एग्री कमोडिटी एंड करेंसी एवीपी प्रथमेश माल्या ने बताया कि अमेरिकी हाउस स्पीकर नैन्सी पेलोसी ने नए कोरोनोवायरस रिलीफ पंड के बारे में व्हाइट हाउस के अधिकारियों के साथ बातचीत आगे बढ़ने के बीच डॉलर में गिरावट आई। हालांकि, दोनों पक्षों के बीच एक वास्तविक समझौते के संकेतों की कमी ने कीमतों को नियंत्रित रखा। 

सोने को मुद्रास्फीति और मुद्रा की दुर्बलता के खिलाफ एक बचाव माना जाता है। सोने ने 2020 में लगभग 25% की मजबूती हासिल की है। यह वृद्धि वैश्विक केंद्रीय बैंकों द्वारा ब्याज दरें कम करने और अतिरिक्त तरलता के प्रयासों की वजह से थी। वैश्विक कोरोनोवायरस मामलों ने 41.7 मिलियन का आंकड़ा पार कर लिया। इसने सेफ हैवन गोल्ड की अपील को और बढ़ावा दिया। इसके अलावा यूरोप में महामारी की वजह से किए जा रहे लॉकडाउन के प्रावधानों ने पीली धातु को समर्थन दिया। हालांकि, अतिरिक्त कोरोनावायरस रिलीफ फंड पर समझौते के निश्चित संकेतों की कमी से सोने की कीमत कम हो सकता है। आज के कारोबारी सत्र में एमसीएक्स पर सोने की कीमतों में गिरावट देखी जा सकती है।

Post a comment

 
Top