0

मुंबई : कोविड-19 के बढ़ते मामलों और वैश्विक अर्थव्यवस्था में रिकवरी में देरी की आशंका ने निवेशकों की भावनाओं को बुरी तरह प्रभावित किया। एंजल ब्रोकिंग लिमिटेड के रिसर्च नॉन एग्री कमोडिटी एंड करेंसी एवीपी प्रथमेश माल्या ने बताया कि क्रूड ऑयल और बेस मेटल्स निगेटिव में बंद हुए जबकि स्पॉट गोल्ड के कारोबार में तेजी रही। कच्चे तेल की मांग में कमी से कच्चे तेल की कीमतों में और गिरावट हो सकती है, जबकि अमेरिकी-चीन तनाव बढ़ने से बेस मेटल्स की धातुओं में गिरावट को बढ़ाया।
सोना: अमेरिका और चीन के बीच बढ़ते तनाव के बीच स्पॉट गोल्ड की कीमतें 0.7% तक बढ़ गईं। दुनियाभर में कोविड-19 मामलों में निरंतर वृद्धि ने आर्थिक सुधार की उम्मीदों को गति दी। इससे पीली धातु की मांग बढ़ गई है। अमेरिका में रोजगार वृद्धि रुकने से भी बाजार सेंटिमेंट कमजोर हुआ और पिछले महीने में स्थायी नौकरियों में गिरावट आई। इसका भी जल्द आर्थिक सुधार की उम्मीद को नुकसान हुआ।
दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था ने कमजोर लेबर मार्केट का संकेत दिया है। बेरोजगारी के बढ़े हुए स्तर ने सेफ हैवन गोल्ड की मांग को और बढ़ा दिया है। आज के सत्र में एमसीएक्स पर सोने के  उतार-चढ़ाव के साथ कोराबार करने की उम्मीद है।
क्रूड ऑयल: महामारी के दौरान मांग को बढ़ाने की चिंताओं के बीच पिछले हफ्ते डब्ल्यूटीआई क्रूड की कीमतों में 6% से अधिक की गिरावट आई। अमेरिकी ऑयल इन्वेंट्री में वृद्धि और अमेरिकी डॉलर की मजबूती ने कच्चे तेल की कीमतों को और कम कर दिया। अमेरिकी एनर्जी इंफर्मेशन एडमिनिस्ट्रेशन (ईआईए) ने बताया कि 4 सितंबर 2020 को समाप्त सप्ताह में क्रूड इन्वेंट्री का स्तर 2.0 मिलियन बैरल बढ़ गया।
तेल की कीमतों में गिरावट आई क्योंकि क्रूड निर्यातक, सऊदी अरब ने कच्चे तेल की गिरती मांग को ध्यान में रखते हुए अक्टूबर के लिए एशिया का ऑफिशिलय सेलिंग प्राइज (ओएसपी) घटाने का फैसला किया।
ओपेक और उसके सहयोगियों ने तेल बाजार के मौजूदा परिदृश्य पर चर्चा करने के लिए 17 सितंबर को बैठक बुलाई है। अगस्त के बाद से कच्चे तेल की बढ़ती मांग को ध्यान में रखते हुए ओपेक+  ने उत्पादन को प्रति दिन 7.7 बैरल तक घटा दिया था।
अमेरिकी खाड़ी में तूफान से उत्पादन रुका और इससे क्रूड ऑयल का नुकसान सीमित होने की संभावना है। आज के कारोबारी सत्र में तेल की कीमतें एमसीएक्स पर उतार-चढ़ाव के साथ कारोबार करने की उम्मीद है।
बेस मेटल्स : कोविड-19 के बढ़ते मामलों और दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं अमेरिका और चीन के बीच बढ़ते तनाव के बीच पिछले सप्ताह एलएमई पर बेस मेटल्स लाल रंग में बंद हुए।
अमेरिकी राष्ट्रपति ने इस साल नवंबर में होने वाले राष्ट्रपति चुनावों के बाद चीन के साथ सभी संबंध समाप्त करने का सुझाव दिया है। इसने दोनों देशों के संबंधों को और खराब कर दिया, जिससे औद्योगिक धातुओं की कीमतों में गिरावट आई है।
औद्योगिक धातु की कीमतों में हुए घाटे को सीमित करते हुए अगस्त 2020 में लगातार तीसरे महीने चीन का निर्यात दुनिया के सबसे बड़े धातु उपभोक्ता के रूप में बढ़ा। चीन के रिफाइंड जिंक का उत्पादन 2.8% बढ़ा और 450,000 टन रहा, जबकि निकल उत्पादन 15% बढ़ा।
एलएमई कॉपर 0.7% कम हो गया। हालांकि, नुकसान एलएमई वेरिफाइड गोदामों पर कॉपर इन्वेंट्री ने सीमित कर दिए थे। इस प्रकार चीन से बढ़ती मांग और एलएमई कॉपर की इन्वेंट्री कम करने से कॉपर की कीमतों को सपोर्ट मिला है। कॉपर के आज के सत्र में एमसीएक्स पर अधिक व्यापार करने की उम्मीद है।

Post a comment

 
Top