0

मुंबई : फाइनेंशियल सेक्टर के नेतृत्व में लगातार दूसरे दिन भारतीय सूचकांकों में तेजी रही। निफ्टी 1.23% या 138.25 अंक चढ़कर 11,385.35 अंक पर बंद हुआ, जबकि एसएंडपी बीएसई सेंसेक्स 1.26% या 477.54 अंक चढ़कर 38,528.32 पर बंद हुआ।
एंजल ब्रोकिंग लिमिटेड के प्रमुख सलाहकार अमर देव सिंह ने बताया के आज के कारोबारी सत्र में लगभग 1860 शेयर ऊपर चढ़े, 886 शेयरों में गिरावट आई, जबकि 132 शेयर अपरिवर्तित रहे। ग्रेसिम (6.50%), अल्ट्राटेक सीमेंट (3.33%), कोटक महिंद्रा बैंक (3.01%), जेएसडब्ल्यू स्टील (3.12%), और ज़ी एंटरटेनमेंट (2.70%) निफ्टी के टॉप गेनर थे, जबकि बीपीसीएल (1.25%), टेक महिंद्रा (0.91%), एचसीएल टेक (0.56%), सिप्ला (0.80%), और आईओसी (0.51%) निफ्टी में टॉप लूजर थे। फार्मा सेक्टर में मामूली नुकसान को छोड़कर सभी सेक्टोरल इंडेक्स ने हरे रंग के साथ कारोबार किया। बीएसई मिडकैप 1.16% और बीएसई स्मॉलकैप 1.33% चढ़े।
वैस्कॉन इंजीनियर्स लिमिटेड: कंपनी के स्टॉक में 5.22% की गिरावट आई और कंपनी ने 10.90 रुपए पर कारोबार किया। इससे पहले कंपनी ने वित्त वर्ष 2021 की पहली तिमाही के दौरान 37.3 करोड़ रुपए कंसोलिडेटेड नेट लॉस को रिपोर्ट किया। कंपनी के कंसोलिडेटेड रेवेन्यू में 66.8% की गिरावट आई है।
पीएनबी हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड: कंपनी के शेयरों में 8.72% की वृद्धि हुई और उसने 261.90 रुपए पर कारोबार किया। इससे पहले कंपनी ने इक्विटी शेयरों या अन्य प्रतिभूतियों को जारी कर फंड जुटाने पर विचार करने के लिए निदेशक मंडल की बैठक बुलाने की घोषणा की।
बिरलासॉफ्ट लिमिटेड: कंपनी ने माइक्रोसॉफ्ट के साथ ग्लोबल स्ट्रेटिजक क्लाउड अलायंस की घोषणा की। इस अलायंस का उद्देश्य ग्राहकों को उनकी डिजिटल यात्रा में तेजी लाने में मदद करना है। कंपनी के शेयरों में 14.69% की वृद्धि हुई और घोषणा के बाद इसने 172.20 रुपए पर कारोबार किया।
वोल्टास लिमिटेड: एसी निर्माता वोल्टास लिमिटेड ने जून में समाप्त तिमाही के लिए 102.86 करोड़ रुपये का नेट प्रॉफिट दर्ज किया। कंपनी का नेट प्रॉफिट 30.05% घट गया जबकि नेट सेल्स 50.34% घट गई। स्टॉक की कीमतें हालांकि 2.43% बढ़ीं और इसने 644.40 रुपये पर कारोबार किया।
भारतीय रुपया: अमेरिकी डॉलर के मुकाबले भारतीय रुपया 74.75 रुपये पर बंद हुआ क्योंकि घरेलू इक्विटी बाजारों में खरीदारी देखी गई।
सोना: 2,000 डॉलर के निशान को पार करने के साथ सोने की कीमतों में 1% की बढ़ोतरी हुई। यह तब हुआ जब अमेरिकी डॉलर दो साल के निचले स्तर से अधिक कमजोर है।
वैश्विक बाजार संकेत: एशियाई और साथ ही यूरोपीय बाजार दिन के दौरान हरे रंग में थे क्योंकि चीन-अमेरिकी तनाव को लेकर निवेशकों के बीच आशावाद पैदा हुआ। नैस्डैक में 1.00%, एफटीएसई 100 में 0.29%, एफटीएसई एमआईबी में 0.85%, निक्केई 225 में 0.20% की गिरावट आई और हैंग सेंग में 0.08% की वृद्धि हुई।

Post a comment

 
Top