0
मुंबई, 18 जून 2020: दुनियाभर की सरकारों के लिए टेस्टिंग बढ़ाने व सुरक्षा उपायों को लागू करने के साथ-साथ विनिर्माण और उत्पादन इकाइयों को फिर से शुरू करने को लेकर उठाए जाने वाले कदम मुख्य चिंता का विषय बने हुए हैं। दुनिया की अर्थव्यवस्था की सामान्य स्थिति में जल्द से जल्द वापसी की संभावना पर कोरोनोवायरस की दूसरी और अधिक शक्तिशाली लहर का डर भी हावी है।
एंजल ब्रोकिंग लिमिटेड के नॉन-एग्री कमोडिटीज एंड करेंसीज के चीफ एनालिस्ट प्रथमेश माल्या ने बताया कि बुधवार को, स्पॉट गोल्ड 0.04 प्रतिशत की मामूली गिरावट के साथ 1727 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुआ। अमेरिकी डॉलर की दरों में काफी सुधार होने लगा, जिससे अन्य मुद्रा धारकों के लिए पीली धातु महंगी हो गई।
बैंक ऑफ जापान ने एक ट्रिलियन डॉलर मूल्य के स्टिमुलस और इनफ्यूजन पैकेजों की घोषणा की, जिसने सोने की कीमत में गिरावट को सीमित किया। इसके अलावा, कोरोनावायरस मामलों की संख्या में वृद्धि, विशेष रूप से चीन के कुछ प्रांतों में, लागत बढ़ सकती है।
स्पॉट सिल्वर की कीमतें 1.06 प्रतिशत बढ़कर 17.6 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुईं, एमसीएक्स पर कीमतें 0.22 प्रतिशत बढ़कर 0.8436 रुपये प्रति किलोग्राम पर बंद हुईं।
डब्ल्यूटीआई क्रूड की कीमतें 1.09 प्रतिशत कम होकर 38 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुईं, क्योंकि दुनिया के कई हिस्सों में कोरोनावायरस के नए मामले सामने आए थे। इसके अलावा, यू.एस. क्रूड इन्वेंटरी का स्तर लगभग 1.2 मिलियन बैरल बढ़ गया, जिसने दुनियाभर में कमजोर मांग के कारण कीमतों को और कम कर दिया। क्रूड की कीमतों में गिरावट सीमित थी क्योंकि अंतर्राष्ट्रीय ऊर्जा एजेंसी (आईईए) ने तेल की मांग को बढ़ाकर 91.7 मिलियन बैरल प्रति दिन (बीपीडी) कर दिया था, जो मई में इसके प्रोजेक्शन से 500,000 बीपीडी अधिक था।

Post a comment

 
Top