0
मुंबई। डॉलर की कीमतों में सुधार हुआ और अन्य मुद्रा धारकों के लिए सोना अधिक महंगा हो गया।
एंजल ब्रोकिंग लिमिटेड के नॉन-एग्री कमोडिटीज एंड करेंसीज के चीफ एनालिस्ट प्रथमेश माल्या ने बताया कि गुरुवार को स्पॉट गोल्ड की कीमतें 1761.5 डॉलर प्रति औंस के स्तर पर बंद हुईं। हालांकि, वायरस की एक और अधिक शक्तिशाली लहर की चिंताओं ने कीमतों को स्थिर रखने में मदद की। इसके अलावा, बाजार विश्लेषण ने बताया कि आर्थिक सुधार की अवधि पूर्वानुमानों के मुकाबले बहुत ज्यादा रहने की संभावना है और इस वजह से सोने की कीमतों में स्थिरता बनी रही।
स्पॉट सिल्वर की कीमतें 2.05 प्रतिशत कम होकर 17.9 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुई। एमसीएक्स पर कीमतें 0.69 प्रतिशत बढ़कर 48,116 रुपये प्रति किलोग्राम पर बंद हुईं।
डब्ल्यूटीआई क्रूड की कीमतें 1.87 प्रतिशत बढ़कर 38.7 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुईं क्योंकि दुनिया की प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में आर्थिक गतिविधियों में व्यापक रूप से फिर से शुरुआत हो गई है। कई एशियाई, यूरोपीय और अमेरिकी देशों ने अपने नागरिकों को काम पर लौटने की अनुमति दी है और इससे बेरोजगारी की उच्च दर को भी कम किया गया है।
मांग में कमी है और इस वजह से पेट्रोलियम निर्यातक कंपनियों के उत्पादन में आक्रामक कटौती करने पर सहमति के बाद तेल की कीमतों में और वृद्धि हुई है। इस व्यावहारिक कदम से क्रूड ऑयल की कीमतों में हल्का उछाल आया है।
हालांकि, एनर्जी इंफर्मेशन एडमिनिस्ट्रेशन की रिपोर्टों के अनुसार 19 जून को समाप्त सप्ताह में अमेरिकी क्रूड इन्वेंट्री का स्तर 1.4 मिलियन बैरल बढ़ गया। यू.एस. क्रूड इन्वेंट्री का बढ़ता स्तर कमजोर वैश्विक मांग की स्थिति को दर्शाता है और इस फेक्टर का बाजार की भावनाओं पर असर पड़ा।

Post a comment

 
Top