0

मुंबई, 30 जून 2020: यूनियन बैंक ऑफ इंडिया ने पूरे देशभर में 125 रीजनल ऑफिस शुरू करने की घोषणा की है। यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के एमडी और सीईओ राजकिरण राय ने कहा, 'इसके साथ, हमने विलीनीकरण यात्रा में सबसे महत्वपूर्ण उपलब्धि हासिल कर ली है। संगठनात्मक दृष्टिकोण से सभी 3 बैंक अब लगभग पूरी तरह से एकीकृत हैं।
1 अप्रैल, 2020 को यूनियन बैंक ऑफ इंडिया में आंध्रा बैंक और कॉरपोरेशन बैंक के हालिया विलीनीकरण के बाद, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया का दायरा बढ़ गया है और उसकी अब 9500+ शाखाएं और 13,500+ एटीएम का अखिल भारतीय नेटवर्क हो गया है। विलीनीकरण के बाद, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया अब भारत का पांचवा सबसे बड़ा सार्वजनिक क्षेत्र का बैंक और चौथा सबसे बड़ा बैंकिंग नेटवर्क है, जिसकी देश के हर राज्य में कम से कम एक शाखा है। संयुक्त इकाई का केंद्रीय कार्यालय (सीओ) नरीमन पॉइंट, मुंबई में अपने ऐतिहासिक मुख्यालय में जारी रखेगा। केंद्रीय कार्यालय को इससे आगे 18 ज़ोनल ऑफिस और 125 रीजनल ऑफिस का सहयोग मिलेगा।
 राजकिरण राय ने कहा, 'अपनी विस्तारित उपस्थिति को भुनाने के लिए 125 में से 33 रीजनल ऑफिस पूरी तरह से नए स्थानों में हैं जैसे अमृतसर, आणंद, भागलपुर, अनंतपुर, राजमुंदरी, शिमला, अमरावती आदि। नए कार्यालयों से बैंक को न केवल तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र जैसे पारंपरिक रूप से मजबूत राज्यों में अपनी बाजार हिस्सेदारी को बढ़ाने में मदद मिलने की उम्मीद है बल्कि विशेष रूप से पूर्वोत्तर क्षेत्र में गुवाहाटी, सिलीगुड़ी, दुर्गापुर आदि में रीजनल ऑफिस होने से बैंक अपनी अखिल भारतीय उपस्थिति को मजबूती देने में सक्षम हुआ है।

Post a comment

 
Top