0

मुंबई : तीन दिन की गिरावट के बाद भारतीय बाजारों ने आज वापसी की और निफ्टी और सेंसेक्स पॉजीटिव नोट पर बंद हुए। एंजल ब्रोकिंग लिमिटेड के प्रमुख सलाहकार अमर देव सिंह ने बताया कि निफ्टी 0.63% या 55.85 अंक चढ़कर 8879.10 पर बंद हुआ। दूसरी ओर, सेंसेक्स 0.56% या 167.19 अंक चढ़कर 30196.17 अंक पर बंद हुआ। भारती एयरटेल 11% की वृद्धि के साथ निफ्टी में टॉप पर रहा।
टॉप गेनर्स और लूजर्स:
11 सेक्टोरल गेज में से छह सेक्टर हरे रंग में बंद हुए जिनमें आईटी, मेटल और एफएमसीजी टॉप पर थे, और निफ्टी पर ऑटो 0.75 से 1.2 प्रतिशत के बीच बढ़त के साथ टॉप गेनर रहा। भारती एयरटेल अपने स्टॉक में 11% की वृद्धि के साथ 596.20 रुपये के बाजार मूल्य पर बंद होने के साथ टॉप गेनर था। अन्य लाभार्थियों में आईटीसी शामिल है जो 3.64% की वृद्धि के साथ.170.75 रुपए पर बंद हुआ। इसके बाद पावर ग्रिड 2.33% की वृद्धि के साथ 158.10 रुपए पर बंद हुआ। वहीं, जेएसडब्ल्यू स्टील (3.83%), ओएनजीसी (5.69%), अदानी पोर्ट्स (9%), अल्ट्राटेक सीमेंट (4.15%), और एनटीपीसी (2.19%) भी बढ़त के साथ बंद हुए।
निफ्टी में दिन के सबसे बड़े लूजर्स में वेदांता, रिलायंस इंडस्ट्रीज, लार्सन एंड टुब्रो, सिप्ला, एक्सिस बैंक, एचयूएल, एसबीआई और यूपीएल शामिल थे। सेंसेक्स का हर मौसम का भरोसेमंद शेयर रिलायंस इंडस्ट्रीज, एक पॉजीटिव नोट पर खुला था लेकिन सत्र के अंत तक उसने सारा लाभ गंवा दिया और 2.26 प्रतिशत की गिरावट के साथ 1,408.15 रुपए पर बंद हुआ। कंपनी बुधवार को अपने राइट्स इश्यू की शुरुआत कर रही है। एचडीएफसी बैंक 0.59 प्रतिशत की गिरावट के साथ 831.50 रुपए पर बंद हुआ, जबकि एफएमसीजी का भारी-भरकम स्टॉक हिंदुस्तान यूनिलीवर 1.56 प्रतिशत गिरकर 1974.50 रुपये पर बंद हुआ।
टेलीकॉम सेक्टर ने बढ़ोतरी में योगदान दिया:
कोविड-19 के कारण पूरा देश लॉकडाउन की स्थिति में है। लोग अपने घरों और मोबाइल उपकरणों में फंसे हैं और डेटा प्लान उनका दिल बहला रहे हैं। मोबाइल टैरिफ और डेटा प्लान पर खर्च में वृद्धि के परिणामस्वरूप टेलीकॉम क्षेत्र के औसत राजस्व में वृद्धि हुई है, प्रति यूजर औसत राजस्व 25% बढ़ रहा है।
लॉकडाउन विस्तार मार्केट सेंटीमेंट्स को प्रभावित कर रहा है:
बढ़ते कोविड-19 मामलों से निपटने के लिए लॉकडाउन की अवधि बढ़ाने की घोषणा से बाजार का परिदृश्य बिगड़ गया। घोषित किए गए आर्थिक पैकेज से भी निवेशक निराश हैं और आगे गिरावट की आशंका जता रहे हैं। परिणामस्वरूप, बैंकों और एनबीएफसी में भारी गिरावट देखी गई। निफ्टी पीएसयू बैंक इंडेक्स बुरी तरह प्रभावित हुआ और 2.6% की गिरावट देखी गई।

Post a comment

 
Top