0
मुंबई : भारत में एक्सप्रेस वितरण बाजार में अग्रणी टीसीआई एक्सप्रेस लिमिटेड ने वर्ष 2019-20 की अंतिम तिमाही में 19 करोड़ रूपए का लाभ अर्जित किया हैं जो इससे पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में अर्जित 22 करोड़ रूपए के लाभ की तुलना में 12.5 प्रतिशत कम है।     
कंपनी ने जारी किए हुए वित्तीय लेखा जोखा में कहा कि इस वर्ष मार्च में समाप्त इस तिमाही में उसने 238 करोड़ रुपये का कारोबार किया है जो वर्ष 2018-19 की अंतिम तिमाही के कुल राजस्व 266 करोड़ रुपये की तुलना में 10.5 प्रतिशत कम है। कंपनी ने वर्ष 2019-20 में 89 करोड़ रुपये का लाभ कमाया जो इससे पिछले वित्त वर्ष में अर्जित 73 करोड़ रुपये के लाभ की तुलना में 22.3 प्रतिशत अधिक है।                 
कंपनी ने वर्ष 2018-19 में 1024 करोड़ रुपये का कारोबार किया था जो इस वर्ष मार्च में समाप्त वित्त वर्ष में 0.8 प्रतिशत बढ़कर 1032 करोड़ रुपये पर पहुंच गया। कंपनी ने वित्त वर्ष 2020 के लिए 4 रुपये प्रति शेयर के अंतिम लाभांश की घोषणा की है ।
टीसीआई एक्सप्रेस के प्रबंध निदेशक चंदर अग्रवाल ने कहा ‘कोविड-19 के प्रकोप के कारण मार्च-2020 में हमारे व्यापार पर असर पड़ा, और ऑपरेशन से राजस्व मामूली रूप से बढ़कर 1,032 करोड़ रुपए रहा। हमने 12% के स्थिर मार्जिन के साथ 126 करोड़ रुपए का ईबीआईटीडीए दिया। वित्त वर्ष 2020 में कर चुकाने के बाद लाभ 89 करोड़ रुपए रहा, जो साल-दर-साल आधार पर 22% की बढ़ोतरी दर्शाता है। हमारी स्थिर मार्जिन प्रोफ़ाइल के लिए उच्च क्षमता का उपयोग, ऑपरेशनल दक्षता और कुशल कार्यशील पूंजी प्रबंधन जिम्मेदार है। वित्त वर्ष 2020 के दौरान हमने जो गति प्राप्त की थी वह मार्च 2020 में कोरोना वायरस के प्रकोप के साथ खो दी है। इंटर-स्टेट मूवमेंट के साथ-साथ कारखानों और कार्यालयों के बंद होने से परिवहन और लॉजिस्टिक क्षेत्र पर स्पष्ट प्रभाव पड़ा है। राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन ने व्यवसायों को रोक दिया है और अर्थव्यवस्था को बाधित किया, हम सरकार द्वारा लिए गए निर्णयों के समर्थन में खड़े हैं।

Post a comment

 
Top